• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Jhansi
  • Married Woman Committed Suicide By Jumping Into A Well In Jhansi, The Marriage Took Place 6 Months Ago, Came To The Maternal Home On December 17 Only.

झांसी में विवाहिता ने कुएं में कूदकर दी जान:6 महीने पहले हुई थी शादी, 17 दिसंबर को आई थी मायके

झांसी7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
श्वेता की फाइल फोटो। - Dainik Bhaskar
श्वेता की फाइल फोटो।

झांसी के सीपरी बाजार थाना क्षेत्र के अंबाबाय इलाके में मंगलवार को एक विवाहिता ने कुएं में कूदकर जान दे दी। उसकी आखिरी बार पति और ससुराल वालों से फोन पर बात हुई थी। सूचना पर परिजन मौके पर पहुंचे। शव को कुएं से बाहर निकाला गया। उसके बाद उसे पोस्टमार्टम के लिए झांसी मेडिकल कॉलेज में भेज दिया गया। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद शव परिजनों को सौंप दिए।

छोटी बहन के साथ एक चारपाई पर सोई थी

अंबाबाय निवासी श्वेता राजपूत (20) पुत्री बालकृष्ण राजपूत की शादी 24 जून 2021 को ललितपुर के करमरा गांव निवासी शैलेंद्र राजपूत से हुई थी। ताऊ संतोष सिंह ने बताया कि 17 दिसंबर को श्वेता राजीखुशी मायके आई थी। सोमवार रात को वह कमरे में छोटी बहन कामनी के साथ एक चारपाई पर सोई थी।

देर रात करीब ढाई बजे वह बाथरूम करके सो गई। कामनी के सोने के बाद उसने घर के पीछे बने कुएं में कूदकर आत्महत्या कर ली। श्वेता से छोटी एक बहन व एक भाई है। पिता किसान है और गांव में आटा चक्की चलाते हैं।

श्वेता बीकॉम द्वितीय वर्ष में पढ़ रही थी। पढ़ाई के दौरान ही उसकी शादी हो गई।
श्वेता बीकॉम द्वितीय वर्ष में पढ़ रही थी। पढ़ाई के दौरान ही उसकी शादी हो गई।

काफी तलाश के बाद कुएं में मिला शव​​​​​​​

ताऊ ने बताया कि सुबह जगे तो श्वेता कमरे में नहीं थी और घर के गेट खुले थे। तब गांव में और आसपास के एरिया में तलाश की। लेकिन श्वेता का कोई सुराग नहीं लगा। तब शक के आधार पर कुएं में लोहे का जाल डाला। तब स्वेता का शव फंसकर आ गया।

इसके बाद सूचना पर पुलिस व ससुराल पक्ष के लोग मौके पर पहुंच गए। पति शैलेंद्र ने बताया कि श्वेता राजीखुशी मायके गई थी। उससे साधारण तौर पर बातचीत हुई थी। श्वेता बीकॉम द्वितीय वर्ष में पढ़ रही थी। जबकि शैलेंद्र बीएससी फाइनल ईयर का स्टूडेंट है।

श्वेता के पति शैलेंद्र कुमार बीएससी फाइनल ईयर में पढ़ रहा है।
श्वेता के पति शैलेंद्र कुमार बीएससी फाइनल ईयर में पढ़ रहा है।
खबरें और भी हैं...