झांसी में मुंह में कपड़ा ठूंसकर बुआ का गला रेता:डॉक्टरों ने बचाई जान; जुआ हारने पर 50 हजार मांग रहा था भतीजा

झांसी4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

झांसी में भतीजे ने अपनी वृद्ध बुआ के मुंह में कपड़ा ठूंसकर उनका गला रेत दिया। वह बुआ की छाती पर बैठा था, जिससे बुआ छटपटाती रही। इस दौरान शोर सुनकर परिजनों की नींद खुल गई। उन्होंने घायल अवस्था में बुजुर्ग महिला को अस्पताल पहुंचाया। डॉक्टरों ने गले पर 22 टांके लगाकर महिला की जान बचा ली।

सीपरी बाजार थाना पुलिस ने बताया, “जुआ हारने पर आरोपी भतीजे संतोष बुलकिया पर कर्ज था। सूदखोरों से बचने के लिए वह 50 हजार रुपए मांग रहा था। नहीं मिलने पर घर में चोरी की कोशिश की, लेकिन पकड़ लिया गया। इसके बाद उसने वारदात को अंजाम दिया। पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है।”

सूदखोर ने छीन ली थी बाइक

आरोपी संतोष बुलकिया को सीपरी बाजार थाना पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।
आरोपी संतोष बुलकिया को सीपरी बाजार थाना पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।

सीपरी बाजार थाना क्षेत्र के खातीबाबा रोड नंदनपुरा में रहने वाले रामलखन प्रजापति कृषि विभाग से रिटायर हैं। उन्होंने बताया, “मेरे साले समथर के मोहल्ला कटरा में रहने वाले लालता प्रसाद की मौत हो गई। उनके बेटे संतोष बुलकिया की दिसंबर में शादी है। वह जुआ का आदी है।”

रामलखन ने बताया, “संतोष कर्ज लेकर जुए में बड़ी रकम हार गया। सूदखोर उससे अपने रुपए वापस मांग रहे थे। शनिवार को वह छोटे भाई की बाइक लेकर बाजार गया, तो सूदखोर ने बाइक छीन ली। डर के मारे वह अपने घर नहीं गया।”

चोरी का इरादा था उसका
रामलखन ने आगे बताया, “संतोष रात 9 बजे हमारे घर आया। पूछने पर बताया कि मोबाइल खराब हो गया था, तो रिपेयरिंग के लिए झांसी आया था। मोबाइल ठीक नहीं हो पाया। इसलिए आज यहीं पर रुकेगा। उसने 50 हजार रुपए की डिमांड की। मगर, पैसे नहीं थे, तो देने से मना कर दिए।”

उनका कहना है कि “संतोष ने 63 साल की अपनी बुआ मुन्नी देवी से पूछा कि गहने कहां रखे हैं। चूंकि भतीजा था तो कोई शक नहीं था। बुआ ने उसे बताया कि अंदर वाले कमरे की अलमारी में गहने रखे हैं। रात 10 बजे खाना खाकर सब सो गए। रात को संतोष अलमारी की चाबी ढूंढ़ने लगा। चूड़ियों का डिब्बा गिरने पर मुन्नी देवी जाग गईं।”

साथ लेकर आया था लंबा चाकू
​​​​​​​रामलखन ने बताया, “संतोष लंबा चाकू अपने साथ लेकर आया था। बुआ कमरे में गई, तो उनका मुंह दबा लिया। इसके बाद मुंह में कपड़ा ठूंस दिया और छाती पर बैठ गया। चाकू से दो बार बुआ की गर्दन रेत दी। इस दौरान शोर सुनकर मेरी आंख खुल गई।”

उन्होंने आगे बताया, “कमरे में जाने की कोशिश की, तो लोहे के गेट में संतोष ने करंट लगा रखा था। किसी तरह गेट खोलकर संतोष को पकड़ लिया। इस दौरान पुलिस को वारदात की सूचना दे दी। मौके पर पहुंची पुलिस के सामने उसने अपना जुर्म कबूल कर लिया। हम मुन्नी को मेडिकल कॉलेज ले गए, जहां उसके गले में 22 टांके आए हैं। अब उनकी हालत ठीक है।”