झांसी डीआईजी ने की समीक्षा बैठक:टॉप-10 अपराधियों पर होगी सख्ती, गैंगस्टर, गुंडा एक्ट में कार्रवाई के निर्देश

7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अपने ऑफिस में झांसी, ललितपुर, जालौन के एसएसपी के साथ समीक्षा बैठक करते डीआईजी। - Dainik Bhaskar
अपने ऑफिस में झांसी, ललितपुर, जालौन के एसएसपी के साथ समीक्षा बैठक करते डीआईजी।

झांसी डीआईजी जोगेंद्र कुमार ने मंगलवार को झांसी, ललितपुर और जालौन के एसएसपी के साथ समीक्षा बैठक की। उन्होंने तीनों एसएसपी को अपने जिलों के टाॅप-10 अपराधियों के खिलाफ गैंगस्टर, गुंडा, गैंगस्टर एक्ट की धारा 14 (1) के तहत कार्रवाई करने और एचएस खोलने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने 18 बिंदुओं पर कार्ययोजना बनाकर कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं।
झांसी में लूट, चोरी, रेप, जालौन में लूट, हत्या, नकबजनी, चोरी और ललितपुर में लूट, हत्या व चोरी के केस बढ़ने पर असंतोष जाहिर किया। डीआईजी ने कहा कि प्रेम नगर थाना में डबल मर्डर, बड़ागांव व गुरसराय में हत्या के मामलों का अब तक खुलासा नहीं हो पाया। अब एसएसपी अपनी देखरेख में टीम बनाकर जांच कराएं।
71 माफिया चिह्नित, पर कार्रवाई नहीं
डीआईजी ने कहा कि झांसी में 71, जालौन में 28 और ललितपुर में 38 माफिया चिह्नित किए गए, लेकिन उनके खिलाफ कार्रवाई नहीं हुई। सभी के खिलाफ कार्रवाई और उनके द्वारा अवैध रूप से अर्जित की गई संपत्ति को गैंगस्टर एक्ट के तहत जब्तीकरण की कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं।
इसके अलावा झांसी में 33, जालौन में 31 व ललितपुर में 19 अपराधी अभी भी वांछित हैं। जबकि झांसी में 15, ललितपुर में 8 व जालौन में 4 इनामी अपराधियों की गिरफ्तारी के लिए कोई प्रयास नहीं हुए। डीआईजी ने टीमें बनाकर वांछित व इनामी अपराधियों को गिरफ्तार करने के निर्देश दिए हैं।
निरोधात्मक कार्रवाई भी संतोषजनक नहीं
तीनों जिलों में निरोधात्मक कार्रवाई भी संतोषजनक नहीं पाई गई। डीआईजी ने रासुका, गैंगस्टर, गुंडा व गैंगस्टर एक्ट में प्रकरण चिह्नित कर वरीयता के आधार पर कार्रवाई करने के निर्देश दिए। वहीं झांसी में 1274, जालौन में 453 व ललितपुर में 505 केसों की जांच लंबित हैं। उनके निस्तारण में तेजी लाने के लिए कहा है।