झांसी में एक एकड़ जमीन के लिए युवक का मर्डर:प्रधान के पिता और भाई ने दो लाख रुपए की दी थी सुपारी

झांसी5 महीने पहले

झांसी में शनिवार को दिनदहाड़े हुई फजल अहमद (38) की हत्या का पुलिस ने 24 घंटे में खुलासा कर दिया। वह वकील का मुंशी था। उसकी हत्या एक एकड़ जमीन( 20 लाख) के विवाद में हुई थी। खैलार ग्राम प्रधान प्रियंक राज उर्फ गोलू के भाई रविराज और पिता रामगुलाम ने दो लाख रुपए की सुपारी देकर उसका मर्डर कराया था।

हत्याकांड में मुंशी की प्रेमिका, उसका प्रेमी कालीचरण उर्फ कल्ला, रविराज का दोस्त जुगल किशोर अहिरवार भी शामिल थे। पुलिस ने 7 आरोपियों को गिरफ्तार किया है। उनसे वारदात में इस्तेमाल बाइक, दो तमंचा, 3 जिंदा और 6 खाली कारतूस, 20 हजार रुपए और एक मोबाइल बरामद हुआ है।

ये तस्वीर रविवार की है। एसपी विवेक त्रिपाठी ने प्रेस कांफ्रेंस कर मुंशी हत्याकांड के बारें में जानकारी दी।
ये तस्वीर रविवार की है। एसपी विवेक त्रिपाठी ने प्रेस कांफ्रेंस कर मुंशी हत्याकांड के बारें में जानकारी दी।

बिक नहीं पा रही थी जमीन

एसपी सिटी विवेक त्रिपाठी ने बताया कि 2014 में फजल का बीएचईएल आरामशीन निवासी एक महिला के साथ संबंध थे। करीब 6 साल तक एक साथ रहने के दौरान दोनों ने अपने नाम से 4 प्लाट और एक मकान खरीदा। इसी दौरान प्रॉपर्टी डीलर रविराज के गांव खैलार में भी करीब एक एकड़ जमीन खरीदी थी। फिर फजल के साथ उसकी प्रेमिका का प्रापर्टी को लेकर विवाद हो गया।

फजल पर रेप का केस दर्ज कराकर महिला ने जमीन रविराज के पास गिरवी रख दी। महिला रविराज को जमीन बेचना चाहती थी, लेकिन फजल के पार्टनर होने के कारण जमीन बिक नहीं पा रही थी।

ये तस्वीर मुंशी फजल अहमद की है। शनिवार को गोली मारकर उसकी हत्या की गई थी ( फाइल फोटो)
ये तस्वीर मुंशी फजल अहमद की है। शनिवार को गोली मारकर उसकी हत्या की गई थी ( फाइल फोटो)

दो माह से चल रही थी हत्या की प्लानिंग

रविराज और उसका पिता रामगुलाम प्रॉपर्टी का काम करते हैं। बेटे और शहर के नरसिंह राव टौरिया निवासी जुगल किशोर अहिरवार पार्टनर थे। सस्ते दाम में जमीन मिल रही थी। वे महिला को कुछ रुपए भी दे चुके थे। इधर फजल को छोड़कर महिला आरामशीन निवासी कालीचरण उर्फ कल्ला के साथ रहने लगी थी। रविराज, उसके पिता, जुगल किशोर, महिला और कालीचरण ने मिलकर करीब दो माह पहले फजल की हत्या करने की प्लानिंग बनाई। जुगल किशोर को हत्या कराने का जिम्मा सौंपा गया।

शॉर्प शूटर को एडवांस दिए थे 50 हजार

जुगल किशोर ने अपने मोहल्ले के शार्प शूटर रिंकू उर्फ रामप्रकाश अहिरवार से दो लाख में फजल की हत्या का सौदा किया। रिंकू अहिरवार ने अपने दोस्त निखिल को भी शामिल कर दिया। उनको 50 हजार रुपए एडवांस दिए गए। बाकी के रुपए हत्या के बाद दिए जाने थे। रिंकू पर पहले से हत्या की कोशिश, गैंगस्टर एक्ट, स्नेचिंग समेत अन्य धाराओं में 9 केस दर्ज हैं।

ये तस्वीर शनिवार की है। गोली लगने के बाद फजल सड़क पर घायल हालत में पड़ा था।
ये तस्वीर शनिवार की है। गोली लगने के बाद फजल सड़क पर घायल हालत में पड़ा था।

कचहरी जाते समय मारी थी गोली

दतिया गेट बाहर के एवन कॉलोनी निवासी फजल अहमद (38) पुत्र जमील अहमद कचहरी में एक वकील के पास मुंशी था। उसके घर के पास रिंकू, निखिल और जुगल किशोर रहते हैं। शनिवार सुबह से रिंकू और निखिल बाइक लेकर फजल के घर पहुंचे और उसके कचहरी जाने का इंतजार करने लगे।

फजल जैसे ही बाइक लेकर कचहरी के लिए निकला तो दोनों पीछे लग गए। निखिल बाइक चला रहा था, जबकि रिंकू पीछे बैठा था। डॉ. राजेंद्र प्रसाद कन्या इंटर कॉलेज के पास मोड़ पर रिंकू अहिरवार ने चलती बाइक पर फजल को गोली मारी। इससे उसकी मौत हो गई।

पुलिस मुठभेड़ में पकड़े गए रिंकू और जुगल

हत्या के बाद रविवार सुबह 4 बजे कोतवाली पुलिस आरोपियों को तलाश कर रही थी। नागौरी कुआं से मेहरी गांव जाने वाले रास्ते पर पुलिस ने एक बाइक को रोकने की कोशिश की तो, बजाय रुकने के वे भागने लगे। पुलिस ने बाइक का पीछा किया तो दो आरोपियों ने पुलिस पर फायरिंग कर दी।

तमंचा से निकली गोली से कोतवाल बाल बाल बच गए। पुलिस ने पैरों में गोली मारकर कोतवाली थाना क्षेत्र के नर्सिंग राव पटौरिया निवासी रिंकू अहिरवार पुत्र मान सिंह और जुगल किशोर अहिरवार पकड़ लिया। बाद में निखिल राजपूत को गिरफ्तार किया गया। इसके बाद कड़ियां जोड़ते हुए 7 लोगों को गिरफ्तार किया गया।

ये तस्वीर झांसी की है। रविवार सुबह 4 बजे पुलिस मुठभेड़ में दो आरोपी घायल हो गए।
ये तस्वीर झांसी की है। रविवार सुबह 4 बजे पुलिस मुठभेड़ में दो आरोपी घायल हो गए।