झांसी में दोस्त ने गोली मारकर युवक की हत्या की:​​​​​​​लूडो गेम खेलने को लेकर हुआ था विवाद, सीने और हाथ में मारी गोली

झांसी4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मृतक लखन सिंह परिहार की फाइल फोटो। - Dainik Bhaskar
मृतक लखन सिंह परिहार की फाइल फोटो।

झांसी में लूडो गेम खेलने को लेकर हुए विवाद की रंजिश में दोस्त ने गोली मारकर युवक की हत्या कर दी। हत्या के बाद आरोपी तमंचा लेकर फरार हो गया। पुलिस उसकी तलाश में छापेमारी की, लेकिन उसका कोई सुराग नहीं लगा। शव को झांसी मेडिकल कॉलेज की मोर्चरी में रखवाया गया है। बुधवार शाम तक पोस्टमार्टम होगा।

एक साल पहले हुआ था विवाद

जिले के ककरबई थाना क्षेत्र के ढुमरई गांव निवासी लखन सिंह परिहार (38) पुत्र वृकेश सिंह खेतीबाड़ी करता था। चचेरे भाई राघवेंद्र सिंह ने बताया कि करीब एक साल पहले लखन और गांव का सुनील कुमार लूडो गेम खेल रहे थे। गेम को लेकर दोनों के बीच विवाद हो गया। विवाद के बाद गांव के लोगों ने दोनों के बीच समझौता करा दिया था। इसके बाद सुनील और लखन का एक साथ उठना बैठना भी था।

हत्या के बाद पोस्टमार्टम कराने मेडिकल कॉलेज पहुंचे परिजन।
हत्या के बाद पोस्टमार्टम कराने मेडिकल कॉलेज पहुंचे परिजन।

घर लौटते वक्त चलाई दो गोली

राघवेंद्र का कहना है कि मंगलवार रात करीब 9 बजे लखन किराना दुकान पर गुटखा लेने के लिए गया था। घर लौटते वक्त रास्ते में सुनील खड़ा था। दोनों के बीच विवाद हो गया। इसके बाद सुनील ने तमंचे से लखन के सीने और हाथ में दो गोली मार दी। इसके बाद सुनील मौके से फरार हो गया। गोली मारने की सूचना पर वे मौके पर पहुंचे। पहले गरौठा सरकारी अस्पताल में ले गए। वहां से लखन को झांसी मेडिकल कॉलेज लाया गया, जहां पर लखन को मृत घोषित कर दिया गया।

सोते रहे डॉक्टर, नहीं मिला इलाज

राघवेंद्र का आरोप है कि गोली लगने के बाद सबसे पहले घायल लखन को गरौठा के सरकारी अस्पताल में ले गए। वहां पर आवास पर डॉक्टर को बुलाने गए। उनकी बेटी ने कहा कि पापा आ रहे हैं, लेकिन दो-तीन मिनट तक कोई नहीं आया। तबीयत बिगड़ रही थी, तब लखन को गाड़ी से सीधे मेडिकल कॉलेज ले गए। रास्ते में लखन बात करते हुए आया, लेकिन झांसी पहुंचने से पहले ही उसने दम तोड़ दिया। अगर गरौठा में इलाज मिल जाता तो लखन की जान भी बच सकती थी। लखन की दो बेटी 8 साल की चाहत और 5 साल की माही है।

टीम बनाई है, आरोपी की तलाश जारी

गरौठा सीओ आभा सिंह का कहना है कि सुनील और लखन दोस्त थे। लखन की गोली मारकर हत्या करने के बाद सुनील फरार हो गया। उसकी तलाश के लिए पुलिस टीम बनाई गई है। जो उसके संभावित ठिकानों पर छापेमारी कर रही है, जल्द ही उसको गिरफ्तार कर लिया जाएगा। अभी परिजनों ने तहरीर नहीं दी है, परिजन पोस्टमार्टम करवा रहे हैं।