आकाशीय बिजली से सावधान !:झांसी में आकाशीय बिजली का कहर दो किसानों की मौत और आधा दर्जन बकरियों की भी गई जान; जानिए कैसे बचें बिजली से

झांसीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बघैरा गांव केकिसान इमरत और जगतराज जब खेत पर थे। तभी बारिश होने लगी।अचानक आकाशीय बिजली गिरी और दोनों की चपेट में ले लिया जिससे उनकी मौत हो गई - Dainik Bhaskar
बघैरा गांव केकिसान इमरत और जगतराज जब खेत पर थे। तभी बारिश होने लगी।अचानक आकाशीय बिजली गिरी और दोनों की चपेट में ले लिया जिससे उनकी मौत हो गई

झाँसी। आकाशीय बिजली गिरने से मंगलवार को दो किसानों की मौत हो गई। तो वहीं गरौठा थाना क्षेत्र में आधा दर्जन बकरियों की मौत हो गई। सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और कार्यवाही की। टहरौली थाना क्षेत्र में बघैरा गांव है। वहां रहने वाले किसान इमरत और जगतराज खेत पर थे। तभी मौसम बदला और बारिश होने लगी। इससे पहले इमरत और जगतराज स्वयं को सुरक्षित स्थान पर पहुंचते, अचानक आकाशीय बिजली गिरी और दोनों की चपेट में ले लिया जिससे उनकी मौत हो गई। सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम को भेज दिया। वहीं गरौठा थानान्तर्गत ग्राम मढ़ा में रहने वाले देवीदयाल की बकरियां खेत पर चर रही थीं। इसी दौरान आकाशीय बिजली की चपेट में आने से उनकी मौत हो गई। जब इसकी जानकारी देवीदयाल को हुई तो उसने इसकी सूचना थाने की पुलिस को दी।

आकाशीय बिजली से आधा दर्जन बकरियों की मौत हो गई
आकाशीय बिजली से आधा दर्जन बकरियों की मौत हो गई

क्यों गिरती है बिजली?

आकाशीय बिजली इलेक्ट्रिकल डिस्चार्ज है। ऐसा तब होता है, जब बादल में मौजूद हल्के कण ऊपर चले जाते हैं और पॉजिटिव चार्ज हो जाते हैं। भारी कण नीचे जमा होते हैं और निगेटिव चार्ज हो जाते हैं। जब पॉजिटिव और निगेटिव चार्ज अधिक हो जाता है तब उस क्षेत्र में इलेक्ट्रिक डिस्चार्ज होता है। अधिकतर बिजली बादल में बनती है और वहीं खत्म हो जाती है, लेकिन कई बार यह धरती पर भी गिरती है। आकाशीय बिजली में लाखों-अरबों वोल्ट की ऊर्जा होती है। बिजली में अत्यधिक गर्मी के चलते तेज गरज होती है। बिजली आसमान से धरती पर 3 लाख किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से गिरती है।

घर और कार बचा सकते हैं जान

बिजली गिरने के चलते अधिकतर वे लोग हताहत होते हैं, जो खुले में हों। घर और कार जैसी बंद जगह इंसान को बिजली से बचाती हैं। कार पर जब बिजली गिरती है, तब वह टायर से होते हुए धरती में चली जाती है। इसी तरह घर पर बिजली गिरने से वह नींव के रास्ते धरती में जाती है। बिजली गिरते समय अगर कोई नल से निकल रहे पानी के संपर्क में हो या फिर लैंडलाइन फोन का इस्तेमाल कर रहा हो तो उसे झटका लग सकता है।

खबरें और भी हैं...