पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

झांसी में बेरोजगार बन रहे बाइक चोर:महंगे शौक और नशे के लिए चुराते थे बाइक, बनवा रखी मास्टर चाबी; पुलिस ने 5 बाइक के साथ 2 दो दबोचा

झांसी13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
नवंबर से अब तक 7 चोरों से 16 बाइक बरामद की गईं। - Dainik Bhaskar
नवंबर से अब तक 7 चोरों से 16 बाइक बरामद की गईं।

झांसी की चिरगांव थाना पुलिस ने दो वाहन चोर पकड़ने में सफलता हासिल की है। चोरों की बताई जगह से 5 बाइक और देसी तमंचा बरामद किया गया है। पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी है।

महंगे शौक पूरे करने के लिए बाइक चोरी

एसएसपी शिवहरि मीणा के निर्देशन में चलाए जा रहे अभियान के तहत चिरगांव प्रभारी निरीक्षक संजय गुप्ता के नेतृत्व में लगी टीम ने मुखबिर की सूचना पर चिरगांव-गुरसरांय मार्ग पर दबिश देकर 2 लोगों को गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ में उन्होंने अपने नाम उमाकांत लोधी और मनोज कुमार बताए हैं। पुलिस की तलाशी के दौरान आरोपियों से एक तमंचा और कारतूस बरामद किया गया है। इनकी निशानदेही पर झाड़ियों में छिपाकर रखी 5 बाइक बरामद की गई हैं। थाना प्रभारी चिरगांव संजय गुप्ता ने बताया कि युवक बेरोजगार हैं अपने शौक पूरे करने के लिए मोटरसाइकिलों की चोरी करके उन्हें सस्ते दामों में बेच देते थे।

20 जून को भी पकड़े गए थे 3 बाइक चोर
पुलिस द्वारा अभी तक पकड़े गए सभी बाइक चोर युवा ही थे। 20 जून को प्रेमनगर पुलिस ने तीन बदमाशों को बाइक चुराने की कोशिश करने पर गिरफ्तार किया था जिसमें विशाल यादव, अजय शाक्य और अविनाश आनंद तीनों बेरोजगारी के कारण अपराधी बन गए थे। इन आरोपी युवकों के पास से पुलिस ने चोरी की 5 बाइक बरामद की थी। पुलिस ने तीनों आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर जेल भेज दिया था। ये भी बाइक की चोरी कर आस पास के इलाकों में सस्ते दामों में बेच दिया करते थे।

24 नवंबर को पकड़े गए थे 2 बाइक चोर
24 नवंबर को झांसी की नवाबाद पुलिस ने अपने महंगे शौक पूरा करने के लिए बाइक चुराने वाले दो युवकों को पकड़ा था। पुलिस ने इनके पास से 6 बाइक बरामद की थी। पूछताछ में युवकों ने बताया कि कई बाइक वह ऊंची कीमत पर दूसरी जगहों पर बेच चुके हैं। युवकों ने अपना नाम प्रह्लाद परिहार और रोहित यादव बताया था। रोहित के घर में दूध का कारोबार होता है। जबकि प्रह्लाद के पिता खेती-किसानी करते हैं।

दोनों युवकों को घूमने के साथ ही नशे का भी लत लगी गई थी। नशा समेत दूसरे शौक पूरा करने के लिए दोनों ने मिलकर बाइक चुराना शुरू कर दिया था। दोनों ने मास्टर चाभी बनवा रखी थी। पूछताछ में बताया कि चोरी करते समय में वह ऐसी गाड़ी चुराते थे, जिसकी आसानी से बिक्री हो जाए।

खबरें और भी हैं...