• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Jhansi
  • Vijay Had Committed Suicide Not Murder In Jhansi, Could Not Bear The Charge Of Theft In His Own House, Two Accused Of Harassing Arrested

झांसी...हत्या नहीं विजय ने किया था सुसाइड:अपने ही घर में चोरी का आरोप सहन नहीं कर पाया, प्रताड़ित कर रहे दो आरोपी अरेस्ट

झांसी5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आत्महत्या के लिए मजबूर करने के मामले में पुलिस ने दो भाइयों को गिरफ्तार किया है। - Dainik Bhaskar
आत्महत्या के लिए मजबूर करने के मामले में पुलिस ने दो भाइयों को गिरफ्तार किया है।

झांसी में ढाई माह पहले हुई विजय विश्वकर्मा (22) की मौत में नया मोड़ आ गया। पुलिस ने दावा किया है कि विजय की हत्या नहीं हुई थी, उसने खुद ही फांसी लगाकर सुसाइड किया था। उसके घर में चोरी हुई थी। जिन दो लोगों पर शक था, उन्होंने विजय पर ही अपने घर में चोरी करने का आरोप लगा दिया था। जो वह सहन नहीं कर पाया। प्रताड़ित होकर विजय ने सुसाइड किया था। प्रेमनगर थाना पुलिस ने हत्या की धारा हटाकर केस में आत्महत्या के लिए मजबूर करने की धारा लगा दी है। गुरुवार रात को हंसारी के श्रीनगर मोहल्ला निवासी हरिओम विश्वकर्मा पुत्र प्रकाश विश्वकर्मा और उसके छोटे भाई कमलेश विश्वकर्मा को रिछारिया कॉलोनी के पास से अरेस्ट कर लिया गया।

मृतक विजय विश्वकर्मा का फाइल फोटो।
मृतक विजय विश्वकर्मा का फाइल फोटो।

हाथ पर नाम लिखकर किया था सुसाइड
पुलिस के अनुसार आरोपियों का विजय चचेरा भाई लगता था। दोनों परिवारों का कई सालों से पारिवारिक विवाद चल रहा है। विजय के घर में करीब 3 माह पहले चोरी हो गई थी। तब विजय ने आरोपियों पर चोरी करने का आरोप लगाया था। लेकिन आरोपी उस पर आरोप लगाने लगे कि विजय पर कर्ज है, इसलिए उसने ही अपने घर में चोरी की है। प्रताड़ित होकर विजय ने अपने हाथ पर दोनों भाइयों के नाम लिखकर घर के पास पेड़ पर लटककर सुसाइड कर लिया था। पुलिस ने हेंड राइटिंग का मिलान कराने के बाद आरोपियों को गिरफ्तार किया है।
विजय दुकान पर करता था काम
श्रीनगर मोहल्ला निवासी विजय हंसारी क्षेत्र में एक मिठाई की दुकान में काम करता था। 28 सितंबर की शाम को वह दुकान से घर के लिए निकला था, लेकिन घर पर नहीं पहुंचा। कॉल करने पर फोन नहीं उठाया। रातभर परिजन तलाश करते रहे। लेकिन विजय का सुराग नहीं लगा। सुबह हंसारी से श्रीनगर जाने वाले रास्ते में एक पेड़ पर उसका शव लटका हुआ मिला था। तब लोगों ने पुलिस को सूचना दी थी। परिजनों ने आरोपियों पर हत्या का केस दर्ज कराया था। पोस्टमार्टम रिपोर्ट और अन्य सबूतों के आधार पर पुलिस ने 6 दिसंबर को हत्या की धारा हटाकर आत्महत्या के लिए मजबूर करने की धारा जोड़ी थी।