पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Jhansi
  • Was Robbed As A Crime Branch Officer, Gwalior RPF Inspector's Factory ASI And Dewan Suspended, RPF Jawan Yogendra Kumar Gurjar, Relative Of Satendra Gurjar, Dismissed From His Job

जबलपुर-निजामुद्दीन एक्सप्रेस में व्यापारी लूट कांड:झांसी के व्यापारियों को क्राइम ब्रांच का अफसर बताकर लूटा था, ग्वालियर RPF इंस्पेक्टर के कारखास ASI और दीवान निलंबित, RPF जवान योगेन्द्र गुर्जर नौकरी से बर्खास्त

झांसी20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
हवाला का पैसा बताकर व्यापारियों से लूट लिए थे 60 लाख रुपए। - Dainik Bhaskar
हवाला का पैसा बताकर व्यापारियों से लूट लिए थे 60 लाख रुपए।

झांसी-ग्वालियर के बीच तीन व्यापारियों से 60 लाख की ठगी के मामले में कई तथ्य उजागर हुए हैं। इस कांड का मास्टर माइंड व्यापम कांड में निलंबित जवान सतेन्द्र कुमार गुर्जर निकला है। इसी का रिश्तेदार योगेन्द्र कुमार जो आरपीएफ ग्वालियर में तैनात है, उसको नौकरी से बर्खास्त कर दिया है। इसी का साथ देने के मामले में आरपीएफ के कारखास एएसआई समेत दो लोगों को निलंबित कर दिया गया। यही नहीं, इस मामले में आरपीएफ इंस्पेक्टर ग्वालियर की भूमिका भी संदिग्ध नजर आ रही है। इस आधार पर वह भी जांच के घेरे में आ गए हैं। इस कार्रवाई को लेकर आरपीएफ में हड़कंप मचा हुआ है।

वर्दीधारियों ने ही व्यापारियों से लाखों की ठगी की

इन लोगों ने डबरा स्टेशन पार करने के बाद खुद को राजस्थान क्राइम ब्रांच का बताकर झांसी के बड़ा बाजार में रहने वाले राकेश अग्रवाल, सागर अग्रवाल और संजय कुमार गुप्ता से 60 लाख की ठगी कर डाली थी। व्यापारियों से कहा कि यह हवाला का पैसा है। यह बात सुनते ही व्यापारी घबरा गए थे। दो अलग-अलग बैगों में 30-30 लाख यानी 60 लाख की रकम लेकर आगरा में उतरकर फरार हो गए थे।

सीसीटीवी के जरिए हुआ था खुलासा

खुद के साथ घटी घटना की जब व्यापारियों ने पड़ताल की तो पता चला कि ऐसी कोई टीम राजस्थान से नहीं गई है। जिसके बाद घटना की जानकारी ग्वालियर जीआरपी को दी गई थी। जांच के दौरान सीसीटीवी कैमरे खंगाले तो पूरा खुलासा हो गया था। इस मामले में सतेन्द्र कुमार गुर्जर, विवेक पाठक, अभिषेक तिवारी और आरपीएफ जवान योगेन्द्र कुमार गुर्जर को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। इस मामले में एक आरोपी की तलाश की जा रही है।

5 साल से निलंबित चल रहा था मास्टरमाइंड सतेन्द्र गुर्जर

बताते हैं कि पांच साल से व्यापम कांड में सतेन्द्र गुर्जर निलंबित चल रहा है। आरपीएफ में तैनात योगेन्द्र सिंह गुर्जर ही सतेन्द्र का रिश्तेदार है। इस मामले की जानकारी आरपीएफ अफसरों को हुई तो योगेन्द्र की तलाश की मगर पता नहीं चल रहा था। गिरफ्तारी के बाद आरपीएफ के अफसरों को जानकारी मिली थी।

आरपीएफ जवान बर्खास्त, दो निलंबित

रेल सुरक्षा बल के मंडल सुरक्षा आयुक्त आलोक कुमार और ग्वालियर के सहायक सुरक्षा आयुक्त संजय कुमार सिंह ने मामले को गंभीरता से लिया। कमांडेंट ने तत्काल प्रभाव से आरक्षक योगेन्द्र कुमार गुर्जर को निलंबित कर नौकरी से बर्खास्त कर दिया, जबकि दीवान अनिल कुमार भदौरिया और एएसआई जलसिंह मीना को निलंबित किया गया है। तीनों ग्वालियर इंस्पेक्टर के कारखास हैं। इस मामले में गोपनीय तरीके से भी इंस्पेक्टर की जांच हो रही है।

खबरें और भी हैं...