झांसी में नर्स ने नशीला इंजेक्शन लगाकर सुसाइड किया:फोन पर बोली- मां मैं मर रही हूं, चाचा से प्रॉपर्टी विवाद पर डिप्रेशन में थी

झांसी3 महीने पहले

झांसी मेडिकल कॉलेज की एक नर्स ने मायके पहुंचकर 4 नशीले इंजेक्शन लगा लिया। इससे उसकी मौत हो गई। मरने से पहले उसने अपनी मां को फोन किया था। उसने कहा, "मैं टेंशन में हूं और अब जीना नहीं चाहती। इसलिए मरने जा रही हूं।" मां ने रक्सा थाना पुलिस को फोन कर घर भेजा। पुलिस दरवाजा तोड़कर कमरे में पहुंची, लेकिन तब तक नर्स इंजेक्शन लगा चुकी थी और उसकी मौत हो चुकी थी।

खबर में आगे बढ़ने से पहले पोल में हिस्सा ले सकते हैं...

पुलिस ने शव को मेडिकल कॉलेज में मोर्चरी पर रखवाया है। नर्स ने कौन सा इंजेक्शन यूज किया था, इसकी जांच चल रही है। पुलिस पोस्टमार्टम रिपोर्ट का इंतजार कर रही है।

डेढ़ साल पहले हुई थी शादी
रक्सा कस्बे के पुनावली रोड निवासी कंचन राजपूत (27) झांसी मेडिकल कॉलेज में संविदा पर स्टाफ नर्स थीं। 26 अप्रैल 2021 को उनकी शादी दिनारा के बदरका निवासी राजेश राजपूत से हुई थी। पति रेलवे वर्कशॉप में हेल्पर हैं। दोनों नगरा के राजीव कॉलोनी में किराए पर रहते थे। पति ने बताया, “पत्नी मंगलवार 3 बजे ड्यूटी से घर लौटी और बोली कि मायके जा रही हैं। इसके बाद वह अकेले मायके चली गई।”

घर पर नहीं था कोई, कंचन के पास घर की चाबी थी

झांसी मेडिकल कॉलेज में पोस्टमार्टम कराने पहुंची मां मिथला देवी और उसकी बेटी कामनी।
झांसी मेडिकल कॉलेज में पोस्टमार्टम कराने पहुंची मां मिथला देवी और उसकी बेटी कामनी।

मां मिथला देवी ने बताया, “दूसरी बेटी कामिनी और दामाद बृजपाल मेरे साथ रहते हैं। कामिनी भी मेडिकल कॉलेज में नर्स है और उसकी मंगलवार को 2 बजे से ड्यूटी थी। बृजपाल स्वास्थ्य विभाग में कार्यरत हैं। दोनों ड्यूटी गए थे। मैं किसी काम से झांसी शहर गई थी। शाम को बेटी कंचन ससुराल से मायके पहुंच गई।

उसके पास पहले से घर की चाबी थी। शाम करीब 7:30 बजे बेटी कंचन ने फोन किया। उसने कहा, "बहुत टेंशन में हूं और मरने जा रही हूं।" इसके बाद फोन काट दिया। दोबारा फोन लगाने पर बेटी ने फोन नहीं उठाया। मां ऑटो से घर के लिए रवाना हुई। रक्सा थाना पुलिस को फोन कर घर भेजा।

कंचन के कमरे में ड्रिप और दवाओं की शीशी मिली है। CEVEC नाम की दवा को उसने ड्रिप से चढ़ाया था। डॉक्टरों का कहना है कि यह मानसिक रोगियों को और मांसपेशियों के आराम के लिए लगाया जाता है।
कंचन के कमरे में ड्रिप और दवाओं की शीशी मिली है। CEVEC नाम की दवा को उसने ड्रिप से चढ़ाया था। डॉक्टरों का कहना है कि यह मानसिक रोगियों को और मांसपेशियों के आराम के लिए लगाया जाता है।

पुलिस घर पहुंची तो घर की अंदर से कुंडी बंद थी। पुलिस ने दरवाजा तोड़ा, तब तक कंचन की मौत हो चुकी थी। पुलिस के अनुसार, हाथ में बेनफ्लो (बोतल चढ़ाने वाली सुई) लगी थी। पास में ड्रिप और 4 नशीले इंजेक्शन पड़े थे। कंचन ने ड्रिप में नशीले इंजेक्शन डालकर ड्रिप चढ़ाई है। इससे उसकी मौत हो गई। जब मां घर पहुंची, तब शव को एंबुलेंस में रखा जा चुका था।

शादी के दिन पिता की मौत, चाचा से जमीन का विवाद

नर्स कंचन की मौत के बाद रोतीं मां और अन्य महिलाएं।
नर्स कंचन की मौत के बाद रोतीं मां और अन्य महिलाएं।

मां ने कहा, “कंचन की शादी के दिन पति रामशरण की कोरोना से मौत हो गई थी। इसके बाद देवर से प्रॉपर्टी को लेकर विवाद चल रहा था। देवर गाली देकर धमकाता था। दो दिन पहले भी मुझे और कंचन को धमकाया था। इसी के चलते कंचन टेंशन में थी और उसने आत्महत्या की है।” मिथला देवी की 5 बेटियां हैं। इसमें कंचन सबसे छोटी थी।

कंचन राजपूत की डेढ़ साल पहले राजेश राजपूत से शादी हुई थी।
कंचन राजपूत की डेढ़ साल पहले राजेश राजपूत से शादी हुई थी।