अन्नदाता अन्ना जानवरों से परेशान:हसेरन में बढ़ती जा रही किसानों की मुसीबत, पकी फसल को चरकर कर रहे हैं चट

हसेरन9 दिन पहले

एक रोटी की कीमत अगर जाननी है तो उस किसान से पूछिए जिसके अथक श्रम के बाद हमें अपनी भूख मिटाने का मौका मिलता है। आज उसी किसान की हम बात कर रहे हैं जो दिन रात अपने पसीने से खेतों को सींच कर हमारे लिए अन्न उगाता है। जब अन्न से उसे कुछ आमदनी दिखती है तो क्षेत्र में आवारा घूम रहे अन्ना पशु आए दिन खेतों मे पहुंचकर किसानों की फसल चर कर नष्ट कर रहे हैं। क्षेत्र में आवारा अन्ना पशु देखे जा सकते हैं। किसान दिन रात मेहनत करके फसलों की रखवाली कर रहे हैं। मौका मिलते ही आवारा पशु खेतों में घुसकर खड़ी फसल मक्का, बाजरा को चरकर नष्ट कर रहे हैं। किसान खेतों के आसपास चक्कर लगाते रहते हैं। दिन रात मेहनत कर फसल की रखवाली कर खेतों में ही डेरा डाले हुए हैं। फिर भी अन्ना आवारा पशु फसल चल रहे हैं।

अन्ना पशुओं से परेशान किसान
अन्ना पशुओं से परेशान किसान

क्षेत्र के गुदारा गांव मे अन्ना मवेशी पशुओं ने फसल चरली। जिसे देख किसानों ने नाराजगी जताई। वही किसानों ने खेत में खड़ी मक्का , बाजरा की फसल देख आवारा घूम रहे अन्ना मवेशी पशुओं पर नाराजगी जाहिर करते हुए बताया दिन रात एक करके खेतों पर पड़े रहते हैं , फिर भी आवारा पशुओं द्वारा फसने चर कर नष्ट की जा रही हैं। गांव के नीरज ने जानकारी देते हुए बताया 2 बीघा मक्का की फसल खेत मे बोई थी। जिसकी लागत करीब ₹5000 आई है। गांव के आसपास कई आवारा अन्ना पशु खेतों में घूमते दिखाई देते हैं। आवारा पशुओं द्वारा आज मेरी खड़ी मक्का की फसल चरकर नष्ट की गई है। किसान ने नाराजगी जाहिर करते हुए अपनी आपबीती सुनाई है।

वही गांव के छुन्ना ने भी जानकारी देते हुए बताया 2 बीघा हमारे खेत में बाजरा की फसल खड़ी है। जो आवारा अन्ना पशुओं द्वारा चरकर नष्ट की गई है। दिन रात मेहनत करके फसलों की रखवाली का काम करते हैं।

खबरें और भी हैं...