कन्नौज में अवैध टैक्सी स्टैंड और डग्गामार बसों पर कार्रवाई:एसडीएम, एआरटीओ और पालिका ईओ ने चलाया अभियान, दो बसों को किया गया सीज

कन्नौज2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कन्नौज में बिना लाइसेंस से चल रहीं डग्गामार बसों और टैक्सी स्टैंडों पर गुरुवार को कार्रवाई की गई। एसडीएम सदर, एआरटीओ और नगर पालिका की अधिशासी अधिकारी फोर्स के साथ सडकों पर निकल पडे। रोडवेज बस स्टैंड के आसपास खड़ी होने वाली डग्गामार बसों और टैक्सी स्टैंड के लाइसेंस चेक किए। बिना लाइसेंस चलने वाली दो बसों और एक टैक्सी स्टैंड पर कार्रवाई की गई। अफसरों की इस कार्रवाई से डग्गामार वाहन चालकों में हडकंप मच गया।

एसडीएम सदर राकेश त्यागी ने गुरूवार शाम एआरटीओ रामबाबू दोहरे, अधिशासी अधिकारी नीलम चौधरी और पुलिस फोर्स के साथ तिर्वा क्रासिंग से लेकर रेलवे रोड तक निरीक्षण किया। उन्होंने रोडवेज बस स्टैंड के पास सवारियां भर रहीं दो प्राइवेट बसों को चेक किया। एक बस में हरदोई जिले के लिए सवारियां भरीं जा रहीं थीं तो दूसरी बस में कानपुर के लिए सवारियां बैठी हुई थीं। बस के चालक लाइसेंस व अन्य जरूरी प्रपत्र नहीं दिखा सके। जिस कारण दोनों बसों को एसडीएम सदर राकेश त्यागी ने एआरटीओ को सीज करने के लिए सौंप दीं। इसके बाद उन्होंने बस स्टैंड के आसपास चलने वाले टैक्सी स्टैंडों की पड़ताल की।

ऑटो चालकों के लिए बनेगी रणनीति

उन्होंने बताया कि पड़ताल के दौरान प्रशांत मिश्रा के नाम से एक टैक्सी स्टैंड अवैध रूप से चलता मिला। उनके पास न तो स्टैंड का लाइसेंस था और न ही पालिका में कोई शुल्क जाम किया जाता है। जिस कारण उनके टैक्सी स्टैंड को बंद करवा दिया गया। इसके अलावा तिर्वा क्रासिंग चौराहे के पास से तिर्वा और गुरसहायगंज के लिए संचालित होने वाले टैक्सी स्टैंड की पड़ताल की गई तो उनके पास भी कोई लाइसेंस नहीं था। तिर्वा के लिए संचालित होने वाले टैक्सी स्टैंड से नगर पालिका में शुल्क जमा किए जाने की बात सामने आई है। लिहाजा ऐसे टैक्सी स्टैंड संचालकों और ऑटो चालकों के लिए बैठक कर रणनीति तय की जाएगी।

डग्गामार बसों के खिलाफ की गई कार्रवाई।
डग्गामार बसों के खिलाफ की गई कार्रवाई।

तहसील परिसर में होगी बैठक

एसडीएम राकेश त्यागी ने बताया कि शुकवार को सदर तहसील परिसर में टैक्सी स्टैंड संचालकों और चालकों की बैठक बुलाई गई है। बैठक में एसडीएम के अलावा सीओ सिटी, एआरटीओ, नगर पालिका की अधिशासी अधिकारी मौजूद रहेंगी। यहां टैक्सी स्टैंडों के विधिवत संचालन और सवारियों की सुविधाओं के लिए रणनीति तय की जाएगी। उन्होंने बताया कि टैक्सी स्टैंडों पर महिला और पुरूषों के लिए शौचालय, पीने के पानी, छाया के लिए टीन शेड, बैठने के लिए ब्रेंच और राकेशनी की व्यवस्थाएं कराई जाएंगी।

शराब और बियर लदी डीसीएम घेर लेती पूरा फुटपाथ

सदर तहसील के पूर्वी गेट के बगल में ही आबकारी विभाग का कार्यालय और गोदाम है। यहां हर दिन चार-पांच डीसीएम सुबह से ही आकर खडी हो जाती हैं। डीसीएम पर शराब और वियर की पेटियां लदी होती हैं। इन पेटियों को सुबह से लेकर शाम तक उतारने और गोदाम में रखवाने की प्रक्रिया चलती रहती है। जिस कारण भीड-भाड वाले इलाके में जीटी रोड का पूरा फुटपाथ चार-पांच डीसीएम से घिरा रहता है।

राहगीरों और सवारी वाहनों के अलावा तहसील में आने-जाने वाले वादकारियों को भी समस्याओं का सामना करना पडता है। स्थानीय लोगों की मानें तो आबकारी विभाग की गोदाम के गेट के अंदर भी डीसीएम खडीं हो सकती हैं, लेकिन ऐसा नहीं किया जाता। इसके अलावा आबकारी विभाग के अधिकारियों के चार पहिया वाहन भी अधिकांश समय फुटपाथ पर खडे रहते हैं। जिससे जाम जैसे हालात हर वक्त बने रहते हैं।

खबरें और भी हैं...