भोगनीपुर में कोर्ट परिसर बना तालाब:बारिश के चलते घुटनों तक भरा पानी, वादकारियों को हो रहीं ढेरों समस्याएं, जिम्मेदार मौन

भोगनीपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
न्यायालय परिसर में बारिश की वजह से घुटनों तक भरा पानी - Dainik Bhaskar
न्यायालय परिसर में बारिश की वजह से घुटनों तक भरा पानी

कानपुर देहात की भोगनीपुर स्थित न्यायालय सिविल जज भोगनीपुर कार्यालय परिसर झमाझम बारिश के चलते तालाब में तब्दील हो गया। जिसके चलते न्यायालय के अधिकारी व कर्मचारी, वादकारी सहित वकीलों को अनेकों कठिनाइयों का सामना उठाना पड़ रहा है। जल निकासी का उचित प्रबंध ना होने की वजह से न्यायालय परिसर में घुटनें तक पानी भर गया।

बताते चलें लगभग 5 साल पहले जर्जर हो चुकी बिल्डिंग के चलते न्यायालय सिविल जज भोगनीपुर का हस्तांतरण यहां से लगभग 20 किलोमीटर दूर रमाबाई न्यायालय माती कोर्ट में कर दिया गया था। वहीं माती कोर्ट की दूरी अत्यधिक होने के कारण वादकारियों को अनेकों कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा था।

25 अप्रैल को दोबारा शुरू हुआ था

लेकिन पुनः25 अप्रैल से अस्थाई रूप से नगर पालिका परिषद के मिलन गेस्ट हाउस पुखरायां में अदालत विधिवत पूजा-अर्चना के बाद चालू कर दी गई थी। इसके पीछे उद्देश्य यही था कि वादकारियों को सस्ता व सुलभ न्याय दिलाना वार व बेंच दोनों का कर्तव्य बनता है। वादकारियों को घर के समीप ही न्याय मिल सके। लेकिन, तेज बारिश होने की वजह से न्यायालय परिसर देखते-देखते तालाब में तब्दील हो गया।

न्यायालय परिसर के बाहर बने चेंबर तक में बरसात का पानी भर गया।
न्यायालय परिसर के बाहर बने चेंबर तक में बरसात का पानी भर गया।

वकीलों के चैंबर में तक में भरा पानी

इतना ही नहीं बल्कि वकीलों के चैम्बरों में भी पानी जा भरा। जिससे वहां आने जाने में वादकारियों को अनेकों तकलीफों का सामना उठाना पड़ रहा है। भोगनीपुर सिविल जज न्यायालय चालू होने से क्षेत्र के 6 थानों की जनता को इसका लाभ मिल रहा है।

खबरें और भी हैं...