ओमिक्रॉन से बचाव के लिए मास्क हुआ जरूरी:यात्रियों की लापरवाही पर रेलवे सख्त, झींझक स्टेशन पर कोविड प्रोटोकॉल के उल्लंघन पर नहीं मिलेगा टिकट

डेरापुर, कानपुर देहात9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
कानपुर देहात स्थित झींझक रेलवे स्टेशन। - Dainik Bhaskar
कानपुर देहात स्थित झींझक रेलवे स्टेशन।

कोरोना के नए और खतरनाक वैरिएंट ओमिक्रॉन को लेकर अब रेलवे प्रशासन भी गंभीर नजर आ रहा है। जिसके चलते कानपुर देहात के झींझक रेलवे स्टेशन पर अधिकारियों ने आदेश जारी करते हुए कहा है कि रेलवे स्टेशन पर जो भी बिना मास्क के नजर आएगा, उसे स्टेशन के अंदर ना ही प्रवेश का मौका मिलेगा और न ही वह रेलवे का टिकट खरीद सकेगा, बिना मास्क के दिखने पर अधिकारियों के द्वारा सख्त कार्यवाही के भी निर्देश दिए गए हैं।

स्टेशन पर मास्क के लिए एनाउंसमेंट

कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के बीच रेलवे ने लोगों में जागरूकता लाने के लिए कई नियम जारी किए हैं। फिलहाल रेल मंत्रालय यात्रियों को किसी प्रकार की राहत देने के मूड में नहीं है। जिसके चलते कानपुर देहात के झींझक रेलवे स्टेशन पर भी एनाउंसमेंट और अन्य कई तरीकों से लोगों को मास्क के लिए जागरूक किया जा रहा है। अधिकारियों के द्वारा कई प्रकार की मुहिम चलाई जा रही है और लोगों को कोविड गाइडलाइन का पालन करने की हिदायत भी दी जा रही है।

जुर्माने का भी प्रावधान

रेलवे के अनुसार कोई भी प्लेटफॉर्म और ट्रेन में बिना मास्क लगाए पकड़ा गया, तो उसके खिलाफ रेलवे प्रशासन द्वारा कठोर कार्यवाही की जाएगी। वही झींझक रेलवे स्टेशन अधिकारी ने बताया कि बिना मास्क रेलवे प्लेटफार्म में यात्रियों को टिकट नहीं दिया जाएगा।

राष्ट्रपति के परौंख आगमन पर हुआ था स्टेशन का कायाकल्प

कुछ दिन पहले राष्ट्रपति राम नाथ कोविन्द ने जिले का दौरा किया था। उस दौरान उन्होंने परौ़ख का दौरा किया था। महामहिम के आगमन के लिए झींझक स्टेशन का रंगरोगन किया गया था। तब स्टेशन की साज-सज्जा से लेकर कई प्रारूपों में इसमें बदलाव देखे गए थे।

खबरें और भी हैं...