देवराहट थानाध्यक्ष फर्जी मुकदमा लिखने में निलंबित:2 दरोगा समेत 6 पुलिसकर्मी लाइन हाजिर, केबल चोरी में 3 पर दर्ज किया था मुकदमा

कानपुर देहात2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
देवराहट थानाध्यक्ष को फर्जी मुकदमा लिखने में मंगलवार को निलंबित किया गया है। - Dainik Bhaskar
देवराहट थानाध्यक्ष को फर्जी मुकदमा लिखने में मंगलवार को निलंबित किया गया है।

फर्जी मुकदमा दर्ज करने में एसपी सुनीति ने देवराहट थानाध्यक्ष आनंद कुमार को निलंबित कर दिया है। वहीं, पूरे घटना में शामिल 2 दारोगा समेत 6 लोग को लाइन हाजिर कर दिया है। साथ ही विभागीय जांच के भी आदेश दिए हैं।

पूर्व थानाध्यक्ष आनंद कुमार ने दो सप्ताह पूर्व बिड़ौआ गांव से 200 मीटर केबल चोरी होने का मुकदमा दर्ज किया था। मामले में अकबरपुर के कालीगंज के जाकिर, औरैया के रत्नेश पाठक और बलभद्रापुर के हेमंत कुमार को गिरफ्तार किया था। उनके पास से चोरी का केबल बरामद करने का दावा किया था। साथ ही सभी को जेल भेज दिया था।

युवकों के परिजनों ने लगाया था फंसाने का आरोप

आरोपियों के परिजन में एसपी सुनीति से मिलकर देवराहट पुलिस पर फर्जी फंसाने का आरोप लगाया था।इसके बाद पुलिस अधीक्षक कानपुर देहात सुनीति ने पूरे मामले की जांच शुरू कराई थी। मामले में तत्कालीन थाना प्रभारी आनंद कुमार के साथ अन्य पुलिसकर्मियों की भी भूमिका संदिग्ध पाई गई।

पुलिस अधीक्षक ने की कार्रवाई

इस पर पुलिस अधीक्षक ने थानाध्यक्ष देवराहट आनन्द शर्मा को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया। साथ ही उप निरीक्षक शिशुपाल सिंह, उप निरीक्षक राजीव कुमार, प्रभाष कुमार, चालक अनिल कुमार, नरेश कुमार और अजीत सिंह को लाइन हाजिर कर दिया।

खबरें और भी हैं...