कानपुर देहात में भट्ठे पर पहुंची फर्जी एंटी करप्शन टीम:भट्ठे पर पहुंचकर मुनीम को धमकाया, मारपीट और गाली गलौज करके मौके से हुए फरार

कानपुर देहात3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
भट्ठे पर पहुंची फर्जी एंटी करप्शन टीम। - Dainik Bhaskar
भट्ठे पर पहुंची फर्जी एंटी करप्शन टीम।

कानपुर देहात के थाना भोगनीपुर के अंतर्गत फर्जी एंटी करप्शन की टीम एक भट्टे पर छापामारी करने के लिए पहुंची। वो लोग भट्टे पर मौजूद कर्मचारी से रुपए की मांग करने लगे।

जब मांग पूरी नहीं हुई तो वो लोग भट्टे के कर्मचारी के साथ मारपीट और गाली गलौज करते हुए मौके से फरार हो गए। घटना को लेकर भट्टे के कर्मचारी ने फर्जी एंटी करप्शन टीम के खिलाफ थाने में तहरीर दी है। पुलिस ने तहरीर के आधार पर मुकदमा दर्ज करके मामले की जांच पड़ताल शुरू कर दी है।

भट्टी को बचाना है तो देने होंगे 20 हजार रुपए

कानपुर देहात के ग्राम रुरगांव निवासी राजकुमार मिश्रा न्यू अजमेरी भट्ठा उद्योग सुजगवां पर मुनीम का काम करते हैं। उन्होंने थाना भोगनीपुर में प्रार्थना पत्र देते हुए पुलिस को बताया कि भट्टे पर एक कार पर 5 लोग आए और अपने आप को एन्टी करप्शन टीम के सदस्य बताने लगे।

वो लोग बोले की तुम लोग फर्जी काम करते हो। तुम्हारा भठ्ठा सीज करा दिया जायेगा। इस दौरान जब मैंने उनसे भट्टा सीज करने का कारण पूछा तो वह मुझ पर नाराज होने लगे। इसी बीच उनमें से एक व्यक्ति ने कहा कि अगर भट्ठा सीज नहीं करना है तो इसके एवज में 20 हजार रुपए देने होंगे।

मैंने इसकी जानकारी फोन करके भट्ठा मालिक अमीनुद्दीन को दी। मैंने बताया कि 5 लोग आए हैं और अपने को एंटी करप्शन अधिकारी बता रहे हैं। भट्ठा मालिक ने उन्हें रोकने के लिए कहा और बोले वह खुद मौके पर आ रहे हैं।

पूछताछ करने पर खुली पोल

मौके पर भट्टा मालिक अमीनुद्दीन आ गए। पूछने पर उन लोगों ने खुद का नाम का आकाश शुक्ला, ब्रजेश कुमार, योगेन्द्र नरायन सिंह, संतोष सिंह और ऋषि बताया। सभी ने अपना परिचय पत्र भी दिखाया, लेकिन भट्टे मलिक को इन लोगों के ऊपर शक हो गया।

उन्होंने पुलिस बुलाने की बात कही। जिसके बाद वो लोग गाली गलौज करते हुए लात घूसों से मारपीट करने लगे। इसी दौरान मौके पर भट्ठा यूनियन के पदाधिकारी और अन्य भट्ठा मालिक भी पहुंच गए। मौके पर भीड़ इकट्ठा होता देख पांचों जान से मारने की धमकी देते हुए मौके से फरार हो गए।

थाना प्रभारी भोगनीपुर ने बताया कि तहरीर प्राप्त हुई है। जिसके आधार पर मुकदमा पंजीकृत कर लिया गया है। पूरे मामले की जांच पड़ताल की जा रही है। जल्द ही घटना का खुलासा किया जाएगा।

खबरें और भी हैं...