रेल माल भाड़े में 21 फीसद की वृद्धि दर्ज हुई:भाड़ा दर 15 प्रतिशत से ज्यादा रही, एक हजार करोड़ से ज्यादा राजस्व आया

कानपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

उत्तर मध्य रेलवे माल भाड़ा में लगातार वृद्धि कर रहा है। इसी क्रम में 21 प्रतिशत मालभाड़ा बढ़ा कर 15.41 फीसद राजस्व को बढ़ाने का कार्य किया गया है। पिछले वर्ष की तुलना में रेलवे प्रति माह माल भाड़े में बढ़ोतरी करता जा रहा है। इसके लिये रेलवे ने उद्यमियों, कारोबारी और व्यापारियों को क़ई तरह की स्कीम निकाल कर सस्ता माल भाड़ा देने का कार्य किया है।

एक हजार करोड़ से ज्यादा का
राजस्व पाया

महाप्रबंधक प्रमोद कुमार ने बताया कि अक्टूबर माह के अंत तक, उत्तर मध्य रेलवे ने बड़ा फायदा पाया है। प्रारंभिक लदान में, पिछले वर्ष की समान अवधि की तुलना में 20.94% की वृद्धि दर्ज की गयी। राजस्व की दृष्टि से इसी अवधि में 15.41% की वृद्धि दर्ज हुयी है। उन्होंने बताया कि उत्तर मध्य रेलवे ने इस साल अप्रैल से अक्टूबर की अवधि के दौरान कुल 10.49 मिलियन टन लदान किया। जबकि पिछले वर्ष समान अवधि के दौरान 8.678 मिलियन टन का लदान किया गया था। इस अवधि के दौरान इस आउटवर्ड लोडिंग से रु. 1064.97 करोड़ राजस्व अर्जित किया गया।

रेलवे की स्कीमें रंग लाई

माल भाड़ा बढ़ाने के लिये रेलवे क़ई तरह की स्कीमों को इस वर्ष ला चुका है। इन स्कीमो के तहत रेलवे ने माल भाड़े को सड़क के रास्ते मे लगने वाले भाड़े से काफी कम रखा। साथ ही उद्यमियों और व्यापारियों की सुविधा के लिए कई एजेंट कमीशन पर रखे गये। रेलवे के अधिकारियों ने व्यापारियों से सीधा संवाद भी किया। जिसका असर अब विभाग को फायदे के तौर पर देखने को मिल रहा है। प्रमोद कुमार ने इस उल्लेखनीय उपलब्धि का श्रेय जमीनी स्तर पर कार्य करने वाले कर्मचारियों के कठिन परिश्रम और लगन को दिया।

खबरें और भी हैं...