कानपुर देहात में डीएम ने जारी किया फरमान:ग्रामीण क्षेत्रों में पराली जलाई गई तो लेखपाल जिम्मेदार, निलंबन की भी हो सकती है कार्रवाई

कानपुर देहात2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
ग्रामीण क्षेत्रों का निरीक्षण करती हुई डीएम। - Dainik Bhaskar
ग्रामीण क्षेत्रों का निरीक्षण करती हुई डीएम।

कानपुर देहात में किसानों को पराली ना जलाने को लेकर जिला प्रशासन लगातार जागरूकता मुहिम चला रहा है। किसानों को जागरूक करने के लिए ग्रामीण क्षेत्रों में भ्रमण कर अधिकारी किसानों से वार्ता कर रहे हैं। जिसके चलते जिलाधिकारी नेहा जैन भी लगातार किसानों के संपर्क में हैं। भ्रमण करके किसानों को पराली ना जलाने को लेकर जागरूक कर रही हैं। इसके चलते जिलाधिकारी ने अब लेखपालों को ग्रामीण क्षेत्रों का भ्रमण कर किसानों को जागरूक करने की जिम्मेदारी सौंपी है। कहा है कि अगर इस कार्य में लापरवाही की गई तो कठोर से कठोर कार्रवाई की जाएगी।

पराली जलाते हुए किसान।
पराली जलाते हुए किसान।

पहले समझाएं और ना माने तो करें जुर्माना

जिलाधिकारी ने सख्त निर्देश जारी करते हुए लेखपालों से कहा है कि अपने-अपने क्षेत्रों में भ्रमण करते हुए किसानों को जागरूक करें कि पराली जलाने से क्या नुकसान होता है और साथ ही साथ यह भी बताया कि अगर पराली जलाते हैं तो आपको जुर्माना भी भरना पड़ेगा।उन्होंने कहा कि क्षेत्र में भ्रमण कर ग्रामीण जनों को पराली न जलाने हेतु डुग्गी मुनादि आदि के माध्यम से जागरूक करेंजिलाधिकारी ने स्पष्ट करते हुए कहा कि समझाने के बाद भी अगर आपके क्षेत्र के ग्रामीण नहीं मानते हैं तो पराली जलाने वाले किसानों के ऊपर जुर्माना भी लगाया जाए।

नहीं होनी चाहिए लापरवाही

जिलाधिकारी नेहा जैन ने सख्त निर्देश जारी करते हुए कहा कि अपनी-अपनी ग्रामीण क्षेत्रों में भ्रमण सील रहे और लोगों को जागरूक करते रहे लेकिन अगर इसके बावजूद भी अगर अन्य माध्यम से संबंधित लेखपाल के क्षेत्र में पराली जल्दी पाई जाने की सूचना मिलती है तो संबंधित लेखपाल की जिम्मेदारी तय करने के साथ ही निलंबन की कार्यवाही भी की जाएगी।

खबरें और भी हैं...