पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कुर्सी पर सो रहीं कानपुर देहात की स्वास्थ्य सेवाएं:जिले में डेंगू से 20 लोगों की मौत, ड्यूटी पर एसी की हवा में चैन से सो रहे एसीएमओ, वीडियो आया सामने

कानपुर देहात9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
एसी में आराम फरमाते एसीएमओ। - Dainik Bhaskar
एसी में आराम फरमाते एसीएमओ।

पूरे उत्तर प्रदेश में जहां डेंगू तेजी से पैर पसार रहा है, वहीं कानपुर देहात के सीएमओ कार्यालय में एसीएमओ एसी में अपने पैर पसारे हुए नजर आ रहे हैं। जहां एक तरफ डेंगू से बचे रहने के लिए जिलों को अलर्ट मोड पर रहने के लिए कहा गया है, वहीं कानपुर देहात के एसीएमओ सारी परेशानियों को छोड़कर आराम के मोड में नजर आ रहे हैं।

लोग कर रहे हैं कार्रवाई की मांग

सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा यह वीडियो जिले के एसीएमओ की है। कार्यालय में कुर्सी पर बैठकर एसी की हवा का आनंद लेते हुए एसीएमओ कुलदीप तोमर मौज की नींद सो रहे हैं। उनका यह वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है। वीडियो देखने के बाद सोशल मीडिया पर लोग जमकर कानपुर देहात की स्वास्थ्य व्यवस्थाओं और उनके कर्मचारियों पर निशाना साध रहे हैं। लोग लापरवाह अधिकारी पर कार्रवाई की मांग कर रहे हैं।

लगातार बढ़ रही मरीजों की संख्या।
लगातार बढ़ रही मरीजों की संख्या।

कुछ दिन पहले चढ़ा दिया था एक्सपायर ग्लूकोज

कानपुर देहात के सीएमओ कार्यालय अकबरपुर में अभी कुछ दिन पहले ही कर्मचारी और अधिकारियों की लापरवाही के चलते एक बच्चे को एक्सपायर हो चुका ग्लूकोज चढ़ा दिया गया था। इस तरह की लापरवाहियों से साफ होता है कि यहां के अधिकारी किसी की जान को लेकर कितना सजग हैं। वीडियो वाले मामले को लेकर सीएमओ का कहना है कि मामले में एसीएमओ से स्पष्टीकरण मांगा गया है। जांच बैठा दी गई है। उचित कार्रवाई की जाएगी।

बच्चों में फैल रहा डेंगू।
बच्चों में फैल रहा डेंगू।

बदहाल है स्वास्थ्य व्यवस्था

कानपुर देहात में कस्बों से लेकर गांवों तक बुखार का कहर है। अस्पतालों में हर रोज बड़ी संख्या में मरीजों की भीड़ पहुंच रही है। कानपुर देहात में अब तक डेंगू बुखार से 20 लोगों की मौत हो चुकी है। जिले में तेजी से फैल रहे डेंगू और बुखार की रोकथाम के लिए अफसर खानापूरी करने में जुटे हैं। हालत यह है कि जिला अस्पताल समेत किसी भी सरकारी अस्पताल में अभी तक डेंगू जांच की सुविधा तक नहीं है। अस्पताल पहुंचने वाले मरीजों की रैपिड किट से जांच की जाती है। हालत बिगड़ने पर मरीज को रेफर कर पर्चा थमा दिया जाता है।

खबरें और भी हैं...