कानपुर देहात में ऑटो के लालच में की थी हत्या:दो सगे भाईयों ने रची थी साजिश, नया ऑटो करना चाहते थे हासिल, ऑटो चालक की हत्या कर झाड़ियों में फेंक दिया था

कानपुर देहात3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पूछताछ में बताया कि सबसे पहले उन्होंने ऑटो चालक का गला घोंटा और फिर मौका पाते ही शव को हाईवे किनारे फेंक दिया। ऑटो घर में छिपा लिया था। पुलिस ने सगे भाइयों की निशानदेही पर शव व ऑटो बरामद कर लिया है। - Dainik Bhaskar
पूछताछ में बताया कि सबसे पहले उन्होंने ऑटो चालक का गला घोंटा और फिर मौका पाते ही शव को हाईवे किनारे फेंक दिया। ऑटो घर में छिपा लिया था। पुलिस ने सगे भाइयों की निशानदेही पर शव व ऑटो बरामद कर लिया है।

कानपुर देहात में 2 दिन से लापता चल रहे ऑटो चालक की हत्या दो सगे भाइयों ने ऑटो के लालच में की थी। हत्या करने के बाद शव झाड़ियों में फेंक दिया था। ऑटो चालक के गायब होने के बाद से परिजन हत्या की आशंका जता रहे थे और पास में ही रहने वाले एक युवक पर संदेह जाहिर किया था। पुलिस ने संदेह के आधार पर पूछताछ के लिए पास में ही रहने वाले दो सगे भाइयों को थाने लेकर आई और कड़ी पूछताछ के बाद दोनों सगे भाई टूट गए और जुर्म कुबूल कर लिया।

पूछताछ में बताया कि सबसे पहले उन्होंने ऑटो चालक का गला घोंटा और फिर मौका पाते ही शव को हाईवे किनारे फेंक दिया। ऑटो घर में छिपा लिया था। पुलिस ने सगे भाइयों की निशानदेही पर शव व ऑटो बरामद कर लिया है।

लूट के इरादे से की थी हत्या
कानपुर देहात के रूरा के शिवाजीनगर निवासी अनिल श्रीवास्तव का पुत्र देवेश गुरुवार देर शाम से लापता था। वह घर से ऑटो लेकर निकला था। जब देर रात देवेश घर नहीं पहुंचा तो पिता अनिल ने आसपास के लोगों से जानकारी की, जब कहीं पर भी देवेश का पता नहीं चला तो अनिल ने थाने जाकर उसकी गुमशुदगी दर्ज कराई। पुलिस ने देवेश की तलाश के लिए टीम गठित कर दी। इस दौरान परिजनों की निशानदेही पर एक दूसरा ऑटो चालक संगम पुलिस शक के घेरे में आया। पुलिस ने उसे पकड़ा और कड़ाई से पूछताछ की तो वह पुलिस के आगे टूट गया और उसने हत्या करने की बात कबूल ली। उसने बताया कि देवेश बहुत अच्छे से जानता था। उसकी नीयत देवेश के ऑटो पर खराब हो गई थी।

गला घोंटकर की हत्या
पुलिस की पूछताछ में आरोपी संगम ने बताया कि बुकिंग होने की बात कहकर वह देवेश को लेकर अकबरपुर आया था। इस दौरान रास्ते में ऑटो रुकवाया और इसी दौरान उसका छोटा नाबालिग भाई भी वहां पर आ गया और आटो में उसे भी बैठा लिया। अकबरपुर हाईवे पहुंचते ही सूनसान जगह देखकर देवेश की गला घोंट हत्या कर दी। देर रात अंधेरे में हाईवे के किनारे उसका शव झाड़ियों में फेंक दिया था। वही संगम की निशानदेही पर फॉरेंसिक टीम के साथ पुलिस मौके पर पहुंची तो देवेश का शव झाड़ी में पड़ा हुआ पुलिस को मिल गया।

थाना प्रभारी अकबरपुर तुलसीराम पांडेय ने बताया कि आरोपियों की निशानदेही पर देवेश का शव बरामद कर लिया गया है और दोनों ही हत्यारोपी सगे भाईयों को पकड़ लिया गया है। हत्यारोपियों में से एक की उम्र 16 वर्ष है और वह नाबालिग है। देवेश की हत्या ऑटो लूट के इरादे से की गई थी।

खबरें और भी हैं...