10वीं का यूपी टॉपर प्रिंस कभी कोचिंग नहीं गया:खुद नोट्स तैयार करके पढ़ाई की, मां-बाप से दूर हॉस्टल में रहकर की पढ़ाई

घाटमपुर3 महीने पहले

प्रिंस पटेल ने यूपी बोर्ड की हाईस्कूल की परीक्षा में स्टेट टॉप किया है। प्रिंस ने 600 में 586 यानी 97.67% अंक हासिल किए हैं। प्रिंस फतेहपुर जिले की बिंदकी तहसील के गांव के रहने वाले हैं। वह घाटमपुर के मुरलीपुर स्थित अनुभव इंटर कॉलेज के छात्र हैं। इसी कॉलेज से दो अन्य छात्रों ने भी टॉप किया है। दैनिक भास्कर ने प्रिंस से उनकी सक्सेस स्टोरी के बारे में बात की। आप भी पढ़िए।

प्रिंस ने कहा,"उन्होंने पढ़ाई को कभी खुद पर हावी नहीं होने दिया। हमेशा पढ़ाई को एंज्वाय किया। मैं जो भी पढ़ता था उसको दूसरे को पढ़ा दिया करता था। इससे वो प्वाइंट़्स दिमाग में बैठ जाते थे। मैं पढ़ाई के साथ रोज खेलता था। फोन से दूरी बनाकर रखी। दिमाग को हल्का करने के लिए कसरत करता था।"

कभी कोचिंग नहीं गया, किताबों से नोट्स बनाए
प्रिंस कभी कोचिंग नहीं गए। वह कहते हैं," मुझे कभी कोचिंग की जरूरत महसूस नहीं हुई। स्कूल की फीस फिर कोचिंग की फीस चुकाना संभव नहीं था। मैं पूरी तैयारी खुद से करता था। हां, किसी विषय का रट्टा कभी नहीं मारता था। किताब से खुद के नोट्स तैयार किए। उनको ही जब मन करता था तब पढ़ता था।"

जबरदस्ती किताब लेकर बैठ रहना ठीक नहीं
प्रिंस कहते हैं, "जब मेरा मन होता था मैं तभी पढ़ाई करता था। ऐसा नहीं था कि हर वक्त किताब लेकर बैठा रहूं। क्योंकि, अगर मन नहीं है तो फिर उस काम को करने का कोई मतलब नहीं है। मैं तभी पढ़ता था जब मेरा मन करता था। मैथ और सांइस मुझे सबसे ज्यादा पसंद हैं। मैं आगे की पढ़ाई भी इन्हीं विषयों के साथ करुंगा।"

प्रिंस अनुभव इंटर कॉलेज के छात्र हैं। उन्होंने यहां पर 1 साल पहले एडमिशन लिया था।
प्रिंस अनुभव इंटर कॉलेज के छात्र हैं। उन्होंने यहां पर 1 साल पहले एडमिशन लिया था।

सेना में जाना जाता है टॉपर
प्रिंस का सपना सेना में जाकर देश की सेवा करना है। वह कहते हैं," यह सपना मैं बचपन से देख रहा हूं कि सेना में जाकर देश के दुश्मनों का सफाया करूं। मैं अभी से इसकी तैयारी कर रहा हूं। इसके लिए, मैं अपने शरीर को इसलिए बिल्कुल फिट रखता हूं। कसरत करता रहता हूं, ताकि दिमाग हल्का रहे।"

कभी क्लास मिस नहीं करता था: प्रिंसिपल
जिस स्कूल में प्रिंस पढ़ता है वहां के प्रिंसिपल रमेश चंद्र वर्मा ने बताया,"प्रिंस कभी भी अपनी क्लास मिस नहीं करता था।" प्रिंस से जुड़ा एक किस्सा सुनाते हुए वह कहते हैं," एक दिन उसको थोड़ा बुखार था। टीचर ने उसे रूम में जाकर आराम करने को कहा। लेकिन वह नहीं माना। उसने कहा वो ठीक है। वो क्लास में रहकर पढ़ाई करेगा।"

स्कूल से फोन आया तब हुई टॉप करने की जानकारी
प्रिंस ने बताया कि उन्हें यह नहीं मालूम था कि उन्होंने स्टेट लेवल पर टॉप किया है। इस बात की जानकारी तब हुई, जब उनको कॉलेज से फोन आया। फतेहपुर की बिंदकी तहसील के इब्राहिमपुर में रहने वाले प्रिंस के पिता अजय कुमार गांव में खेती किसानी करते हैं। मां शिवकांति देवी गृहिणी हैं।