हैलट ओपीडी में होगी पाबंदी:100 कोरोना मरीज भर्ती होते ही OPD में लागू होगा नया नियम

कानपुर4 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
हैलट अस्पताल - Dainik Bhaskar
हैलट अस्पताल

कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण ने परेशानियां बढ़ा दी हैं। बेकाबू संक्रमण के चलते एक बार फिर से पाबंदियां बढ़ने जा रही है। GSVM के हैलट अस्पताल में फैलते कोरोना संक्रमितों को देखते हुए ओपीडी पर्चों को बहुत कम कर दिये जायेंगे। हैलट में कोरोना संक्रमित 100 मरीज भर्ती होने पर ओपीडी में 50 मरीज ही देखे जाएंगे। सिर्फ सर्जरी और मेडिसिन में 100 मरीज देखे जायेंगे। GSVM के प्राचार्य डॉ संजय काला ने बताया कि बढ़ते संक्रमण को देखते हुए यह पाबंदी कोरोना नार्म्स के तहत लागू की जायेगी। अभी तक यहां पर 50 कोरोना के मरीज भर्ती हैं।

सर्जरी और मेडिसिन में 100 तो अन्य ओपीडी के बनेंगे केवल 50 पर्चे

हैलट अस्पताल के प्रिंसिपल डॉक्टर संजय काला ने बताया कि कोरोना संक्रमण को देखते हुए ओपीडी को सीमित किया जायेगा। उन्होंने बताया कि कोरोना के 100 मरीज हैलट में भर्ती होते ही सर्जरी विभाग और मेडिसिन में ओपीडी के लिए अधिकतम 100 पर्चे ही बनेंगे।

जबकि आर्थो , ईएनटी, ओप्थलमो , पेड्रियाटिक और स्किन सहित सभी ओपीडी पर्चों की संख्या 50 - 50 निर्धारित कर दी गई है। आपको बता दें इससे पहले भी कोरोना की दूसरी लहर के बीच हैलट में ओपीडी पर पाबंदियां लगा दी गई थीं। डॉ काला ने बताया कि गंभीर मरीजों को हर संभव इलाज देने में कोई लापरवाही नहीं बरती जाएगी । जैसे ही स्थित नियंत्रण में आएगी वैसी ही सारी सेवाएं सामान्य कर दी जाएंगी ।

मरीजों की बढ़ेंगी दिक्कतें, 14 जिलों से आते हैं मरीज

हैलट अस्पताल में ओपीडी को सीमित किए जाने से मरीज़ो के इलाज पर सीधा असर पड़ेगा। सामान्य दिनों में हैलेट में लगभग डेढ़ से दो हजार तक पर्चे रोज बनते हैं। अब संख्या सीमित होने से सैकड़ो मरीजों को वापस लौटना पड़ेगा । इससे सामान्य रोग वाले मरीजों को खासी दिक्कत का सामना करना पड़ेगा । चूंकि हैलेट अस्पताल ना केवल कानपुर के मरीजों का का इलाज होता है, बल्कि आस पास के जिलों के रोगी भी इलाज के लिए यहां आते हैं । ऐसी स्थिति में मरीजों की इलाज को लेकर दिक्कतें बढ़ना स्वाभाविक है।