6 माह पहले हुआ दुष्कर्म, डिलीवरी के दौरान हुई मौत:कानपुर में लेखपाल समेत 4 ने नाबालिग के साथ किया था गैंगरेप, नवजात भी नहीं बचा

कानपुरएक महीने पहले

वह 16 साल की एक किशोरी थी। उसकी आंखों में कई सपने थे। अफसोस, कानपुर के ककवन थाना क्षेत्र की इस मासूम के सपने वक्त से पहले ही दफन हो गए। उसके साथ 6 महीने पहले लेखपाल और गांव के युवक समेत 4 लोगों ने गैंगरेप किया था। पीड़िता की मंगलवार को प्री-मेच्योर डिलीवरी हुई, लेकिन 15 मिनट में नवजात और पीड़िता की मौत हो गई।

हमारे माथे झुका देने वाली यह घटना जब अफसरों तक पहुंची, तो पुलिस ने FIR दर्ज की थी, लेकिन आरोपी लेखपाल की आज तक गिरफ्तारी नहीं हो सकी। पुलिस गांव के रहने वाले सिर्फ एक आरोपी करण को जेल भेज पाई है। 16 साल की उस किशोरी के पिता ने 11 अक्टूबर को 4 लोगों के खिलाफ बेटी से गैंगरेप करने की FIR दर्ज कराई थी। आरोप था कि लेखपाल रंजीत ने जून महीने में गांव के युवक करण और 2 अन्य लोगों के साथ मिलकर उनकी बेटी से रेप किया था। बेटी के 4 महीने की गर्भवती होने पर परिजनों को मामले का पता चला। इसके बाद केस दर्ज कराया।

हैलट अस्पताल के महिला वार्ड में थी भर्ती

किशोरी से रेप के मामले में 1 सप्ताह पहले जेल भेजा गया आरोपी करण। (फाइल फोटो)
किशोरी से रेप के मामले में 1 सप्ताह पहले जेल भेजा गया आरोपी करण। (फाइल फोटो)

गैंगरेप के बाद सभी आरोपी फरार चल रहे थे। एक सप्ताह पहले ककवन पुलिस ने एक आरोपी करन को गिरफ्तार कर जेल भेजा था। परिजनों का आरोप था कि लेखपाल समेत अन्य 2 आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं की जा रही है। परिजनों ने बताया कि 13 दिसंबर को किशोरी की तबीयत खराब हो गई। उन्होंने उसे शिवराजपुर CHC और एक निजी नर्सिंग होम में दिखाया। लेकिन फायदा नहीं हुआ।

हालत बिगड़ने पर उसे हैलट अस्पताल के महिला वार्ड में भर्ती कराया गया। जहां मंगलवार को उसने एक बच्चे को जन्म दिया। लेकिन दोनों की मौत हो गई। सूचना मिलते ही ककवन थाना प्रभारी कौशलेंद्र प्रताप सिंह अस्पताल पहुंचे। अब अन्य आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस ने फिर से दबिश देना शुरू कर दिया है।

दो महीने में भी आरोपी लेखपाल को गिरफ्तार नहीं कर सकी पुलिस

FIR दर्ज होने के 2 महीने बाद भी पुलिस आरोपी लेखपाल को गिरफ्तार नहीं कर सकी है। SP आउटर अजीत सिन्हा ने बताया कि लेखपाल की भूमिका की अभी जांच की जा रही है। इसके चलते का ककवन थाना प्रभारी ने उसकी गिरफ्तारी नहीं की थी। अब मामले में कार्रवाई करने का आदेश दिया गया है। जल्द ही फरार लेखपाल की गिरफ्तारी होगी। अन्य 2 अज्ञात आरोपियों के नाम भी सामने लाने का आदेश दिया गया है।