कानपुर में 500 गर्भवतियों पर जीका का खतरा:4 किमी के सर्वे में मिलीं सबसे ज्यादा गर्भवती, यहां 4 एयरफोर्स कर्मी समेत 10 संक्रमित मिल चुके हैं

कानपुर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कानपुर में 6 दिन के भीतर जीका वायरस के 10 संक्रमित मिल चुके हैं। इनमें 4 एयरफोर्स कर्मी और 6 सिविलियन हैं। उत्तर प्रदेश में अब तक कानपुर में जीका वायरस के केस मिले हैं। इसके बाद सीएम योगी आदित्यनाथ ने पूरे प्रदेश में अलर्ट घोषित किया है।

इस बीच जीका वायरस के प्रसार से एक और संकट गहराने लगा है। सर्विलांस के 4 किमी. के दायरे में 500 गर्भवती महिलाएं मिली हैं। यह सभी 6 महीने से ज्यादा की गर्भवती हैं। अगर इनमें जीका संक्रमण हुआ तो जच्चा-बच्चा दोनों की जान पर बन सकती है। इसलिए एक-एक गर्भवती महिला का डाटा कलेक्ट करने के साथ ही डॉक्टरों की टीम ने निगरानी शुरू कर दी है। अब तक 44 हजार से अधिक घरों का सर्वे किया गया है। जबकि 1900 सैंपल लिए गए हैं।

कब-कब कानपुर में जीका वायरस के केस मिले।
कब-कब कानपुर में जीका वायरस के केस मिले।

गर्भस्थ शिशु के ब्रेन पर सीधे अटैक करता है जीका वायरस
कानपुर मेडिकल कॉलेज डॉक्टरों के मुताबिक, शोध में पता चला है कि जीका का संक्रमण होते ही सबसे पहले वायरस गर्भस्थ शिशु के ब्रेन पर सीधे अटैक करता है। ब्रेन की हड्डियों को ठीक से बनने नहीं देता है। वायरस की वजह से शिशु के ब्रेन की हड्डियां गर्भ में गलने लगती हैं। इस वजह से ब्रेन पूरी तरह विकसित नहीं हो पाता। ऐसे बच्चे बहुत छोटे सिर के साथ जन्म लेते हैं।

छोटे सिर के साथ विकृति लिए पैदा होने की इस समस्या को माइक्रो सिफैली कहते हैं। गर्भवती महिलाओं को जीका से बचाने के लिए स्वास्थ्य विभाग कड़ी मशक्कत कर रहा है। डॉक्टर एक-एक महिला की निगरानी कर रहे हैं। इसके साथ ही गर्भवती महिलाओं और उनके परिवार को भी सुरक्षित रहने के लिए क्या करें क्या नहीं इसकी भी जानकारी दी जा रही है। सीएमओ डॉ. नेपाल सिंह ने बताया कि सर्विलांस के दायरे में लिए गए चार किमी. के दायरे में सर्वे के दौरान करीब 500 गर्भवती महिलाएं चिन्हित की गई हैं। इनमें जीका वायरस नहीं फैले इसकी रोकथाम के लिए हर संभव प्रयास किया जा रहा है।

गर्भस्थ शिशु के सिर का आकार छोटा और विकृति की संभावना

जीका पेशेंट मिलने के बाद इलाके में छिड़काव करता नगर निगम कर्मी
जीका पेशेंट मिलने के बाद इलाके में छिड़काव करता नगर निगम कर्मी

अगर गर्भवती महिला में जीका का संक्रमण हुआ तो गर्भस्थ शिशु के सिर का आकार छोटा होने के साथ ही उसे मानसिक विकृति भी हो सकती है। इसके साथ ही अन्य प्रभाव जच्चा-बच्चा दोनों पर पड़ते हैं। सर्वे कर रही टीम ने इलाके की गर्भवती महिलाओं को यह भी नसीहत दी है कि अगर संभव हो तो कुछ दिन संक्रमित इलाके को छोड़कर अन्य किसी सुरक्षित जगह रहें तो इससे जच्चा-बच्चा दोनों पर पूरी तरह से खतरा टल जाएगा।

एयरफोर्स स्टेशन से लेकर चार किमी. इलाका सर्विलांस पर

संदिग्धों के सैंपल लेकर कार रखकर लेते जाते हेल्थ डिपार्टमेंट के कर्मी
संदिग्धों के सैंपल लेकर कार रखकर लेते जाते हेल्थ डिपार्टमेंट के कर्मी

चकेरी एयरफोर्स स्टेशन में कार्यरत जीका का पहले मरीज की पुष्टि हुई थी। इसके बाद एयरफोर्स में कार्यरत तीन अन्य कर्मचारी भी पॉजिटिव मिले। इसके बाद चकेरी के हरजिंदर नगर, लाल बांग्ला, पूनम टॉकीज, लालकुर्ती कैंट, ओमपुरवा और काली बाड़ी में जीका का संक्रमण मिला है।

गर्भवती महिलाएं इस तरह रखें जीका वायरस से बचाव

  • जीका वायरस से बचाव के लिए सबसे जरूरी है अपने घर और घर के आस-पास सफाई रखी जाए।
  • घर में पानी जमा न होने दें और कोशिश करें कि घर के आसपास भी मच्छर पैदा न हो।
  • घर या उसके आसपास कहीं पानी जमा है, तो उसे तुरंत साफ कर दें।
  • घर और घर के बाहर अपने पूरे शरीर को कवर करके रखें। फुल स्लीव्स के कपड़े पहनें
  • शरीर के किसी भी हिस्से को खुला नहीं छोड़ें। रात को सोते समय मच्छरदानी का इस्तेमाल करें।
  • अगर आपका पार्टनर किसी ऐसी जगह से आ रहा है, जहां जीका वायरस फैला है तो कम से कम आठ सप्ताह तक पति से अलग रहें।
  • जीका वायरस से बचाव के लिए अधिक से अधिक तरल पदार्थों को अपनी डाइट में शामिल करें। इसमें आप नारियल पानी, फलों का जूस और पानी का सेवन कर सकते हैं।
  • पूरा आराम करें और भरपूर नींद लें। अधिक थकान होने वाले कार्य को करने से बचें।

अब तक की कार्यवाही पर एक नजर

  • एयरफोर्स स्टेशन से अधिकारियों और कर्मचारियों के लिए गए सैंपल - 92
  • 23 अक्तूबर से अब तक जांच को लिए गए सैंपल- 1900
  • एडीज मच्छरों के सैंपल जांच को दिल्ली भेजे गए- 205 मच्छर
  • क्षेत्र में सर्वे के लिए लगाई गईं कुल टीमें- 74
  • मलेरिया विभाग की जांच के लिए टीमें - 10
  • 74 टीमों ने कितने घरों का अब तक किया सर्वे- 44320
  • कितनी गर्भवती महिलाओं का लिया गया सैंपल- 163
  • इलाके में रहने वाली गर्भवती महिलाएं सूचीबद्ध- 485
  • सस्पेक्टेड एरिया का क्षेत्र - करीब 4 किमी

यह भी पढ़ें-

जीका के मरीज मिलने के बाद चकेरी में हाई अलर्ट

कानपुर में जीका के 6 और मरीज मिले

हवा में नहीं फैलता जीका:कानपुर में एक्सपर्ट्स बोले- 14 दिन में ठीक हो जाते हैं 80% केस

खबरें और भी हैं...