• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Kanpur
  • After The GT Road Is 4 Lane, The Screw Is Stuck In The Flyover Near Mandhana, NHAI Will Conduct The Survey Again, After This The Decision Will Be Taken. Kanpur Ring Road, NHAI, Mandhna, GT Road 6 Lane, Bhauti, Kanpur

कानपुर रिंग रोड में फंसा पेंच:जीटी रोड 4 लेन होने के चलते मंधना के पास फ्लाईओवर को लेकर फंसा पेंच, NHAI दोबारा कराएगी सर्वे, इसके बाद होगा फैसला

कानपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
नई डिजाइन तैयार होने के बाद अब भूमि अधिग्रहण के लिए अधिसूचना के प्रकाशन में देरी हो सकती है। - Dainik Bhaskar
नई डिजाइन तैयार होने के बाद अब भूमि अधिग्रहण के लिए अधिसूचना के प्रकाशन में देरी हो सकती है।

कानपुर के चारों ओर रिंग रोड बनाने को लेकर एक नया पेंच फंस गया है। जीटी रोड के फोरलेन होने के बाद मंधना के पास ही पहले ही 6 लेन का फ्लाईओवर प्रस्तावित है। वहीं पास ही रिंग रोड में भी फ्लाईओवर प्रस्तावित है। ऐसे में एक ही जगह पर दो फ्लाईओवर होने से पेंच फंस गया है। क्योंकि जीटी रोड को 6 लेन (अभी 4 लेन) का काम पहले से प्रस्तावित है। ऐसे में रिंग रोड की डिजाइन में चेंज किया जाएगा।

दोबारा होगा सर्वे
शहर को जाम से मुक्त कराने के लिए रिंग रोड ही अब बड़ा सहारा बनकर आई है। वहीं नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया (NHAI) अब रिंग रोड का दोबारा सर्वे कराया जाएगा। एनएचएआई प्रोजेक्ट डायरेक्टर पंकज मिश्रा ने बताया कि मंधना में फ्लाईओवर के चलते कंसल्टेंट को दोबारा सर्वे कर रिपोर्ट तैयारी करने के लिए कहा गया है। नये सिरे से तय किया जाएगा कि फ्लाईओवर कहां और कितनी ऊंचाई और लंबाई पर बनाया जाएगा।

शहर के लिए संजीवनी
रिंग रोड बनने से भारी वाहन शहर के अंदर प्रवेश नहीं करेंगे। कानपुर से होकर दूसरे शहर जाने वाले लोग शहर के बाहर ही बाहर निकल जाएंगे। इससे शहर के अंदर जीटी रोड पर जाम की समस्या काफी हद तक कम हो जाएगी। रिंग रोड के पहले चरण में मंधना से भौंती के पास बाईपास प्रस्तावित है। इसे इस तरह से डिजाइन किया गया है कि जब भी रिंग रोड का निर्माण होगा, उसमें ये आसानी से कनेक्ट किया जा सकेगा।

अधिसूचना प्रकाशन में होगी देरी
नई डिजाइन तैयार होने के बाद अब भूमि अधिग्रहण के लिए अधिसूचना के प्रकाशन में देरी हो सकती है। अभी सचेंडी से मंधना तक रिंग रोड के लिए अधिसूचना जारी हो चुकी है, लेकिन इसका प्रकाशन नहीं हुआ है। हालांकि डिजाइन में संशोधन होने पर कुछ गांव और बढ़ सकते हैं।

खबरें और भी हैं...