पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Kanpur
  • ATS Picked Up The History Sheeter And His Accomplice, There Is A Possibility Of Supplying Explosives To Kanpur, Many Teams Of ATS Engaged In Investigation

आतंकियों को कानपुर के हिस्ट्रीशीटर ने सप्लाई की थी पिस्टल:एटीएस ने हिस्ट्रीशीटर और उसके साथी को उठाया, विस्फोटक भी कानपुर सप्लाई करने की आशंका, जांच में जुटी एटीएस की कई टीमें

कानपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

लखनऊ में अल-कायदा से जुड़े अंसार गजवातुल हिंद (AGH) संगठन के दो आतंकियों को कानपुर चमनगंज इलाके के हिस्ट्रीशीटर ने पिस्टल सप्लाई की थी। पूछताछ के बाद एटीएस की टीमों ने हिस्ट्रीशीटर और एक बिचौलिए को हिरासत में लिया है। एटीएस को आशंका है कि आतंकियों के पास से बरामद विस्फोटक भी कानपुर से ही सप्लाई किया गया है। इसकी पुष्टि के लिए सोमवार देर रात तक एटीएस की टीमें शहर के मुस्लिम बाहुल्य क्षेत्रों में छापेमारी करती रहीं।

आतंकियों ने कानपुर आकर हिस्ट्रीशीटर से खरीदी थी पिस्टल
एटीएस ने रविवार को लखनऊ ठाकुरगंज थाना क्षेत्र के दुबग्गा इलाके से अल-कायदा से जुड़े आतंकी संगठन एजीएच के दो आतंकियों मिनहाज अहमद और मसीरुद्दीन उर्फ मुशीर को गिरफ्तार किया था। आतंकियों के पास से कुकर बम, विस्फोटक, आईईडी और एक पिस्टल बरामद हुई थी। एटीएस की पूछताछ में आतंकियों ने बताया कि चमनगंज इलाके से उन्होंने पिस्टल खरीदी थी। एटीएस की टीमों ने जानकारी के आधार पर छापेमारी करके चमनगंज के हिस्ट्रीशीटर और बिचौलिए को हिरासत में लिया है। एटीएस की छानबीन में यह भी सामने आया है कि चमनगंज अवैध असलहों की बहुत बड़ी मंडी है। यहां एक दो नहीं भारी मात्रा में पिस्टल समेत अन्य हथियारों की खेप आती है। यहां से ही यूपी के कई जिलों में असलहा तस्करी की जाती है। अवैध असलहा से जुड़े नेटवर्क का खुलासा करने के लिए भी एटीएस की टीमें काम कर रही हैं।

आतंकियों को असलहों की बड़ी खेप होनी थी सप्लाई
चमनगंज और इसके आसपास के क्षेत्र अवैध असलहों की बड़ी मंडी हैं। एटीएस की जांच में सामने आया है कि गिरोह का मुखिया जेल में है, लेकिन उसके गुर्गे पूरा काम संभाल रहे हैं। इस परिवार में एक-दो नहीं कई सदस्यों का अपराध का लंबा कच्चा चिट्‌ठा है। जल्द ही भारी मात्रा में चमनगंज से ही असलहा आतंकियों को सप्लाई होना था। इससे पहले आतंकी दबोच लिए गए।

पकड़े गए आतंकियों को कानपुर ला सकती है एटीएस
एटीएस के अफसरों की मानें तो पूछताछ के बाद छापेमारी से कई ठिकानों और लोगों तक एटीएस पहुंच नहीं पा रही है। इसके चलते अब वह दोनों आतंकियों को कानपुर लाकर जांच कर सकती है। आतंकियों को लखनऊ में एटीएस ने कोर्ट में पेश किया। यहां से एटीएस ने 14 दिन की कस्टडी रिमांड पर आतंकियों को लिया है। क्यों कि कानपुर में एक-दो नहीं कई लोगों के तार आतंकियों से जुड़ रहे हैं। एटीएस इसके चलते आतंकियों को ठिकानों की निशानदेही के लिए कानपुर ला सकती है।

खबरें और भी हैं...