पूर्व सांसद राजाराम कांग्रेस छोड़ सपा में शामिल:पाल बिरादरी के कद्दावर नेता पार्टी में शामिल होने से सपा को मिलेगा फायदा, रनिया अकबरपुर विधानसभा से दावेदारी ठोंक सकते हैं राजाराम

कानपुर9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पूर्व सांसद राजाराम पाल के सपा में शामिल होने के बाद अखिलेश यादव के साथ। - Dainik Bhaskar
पूर्व सांसद राजाराम पाल के सपा में शामिल होने के बाद अखिलेश यादव के साथ।

कांग्रेसी नेता राजाराम पाल को लेकर दैनिक भास्कर की प्रकाशित खबर सच हुई। आज से ठीक दो महीने पहले भास्कर ने खबर प्रकाशित करते हुए बताया था कि पूर्व सांसद राजाराम पाल कांग्रेस पार्टी छोड़कर सपा में शामिल होंगे। लखनऊ में सोमवार को रामराम समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव से मिले और सपा में शामिल हुए। इसकी जानकारी उन्होंने अपने सोशल मीडिया अकाउंट से दी है।

समाजवादी पार्टी के ट्वीटर हैंडर से जारी की गई तस्वीर
समाजवादी पार्टी के ट्वीटर हैंडर से जारी की गई तस्वीर

पाल बिरादरी के नेता की सपा में थी दरकार, विधानसभा में मिलेगा फायदा
कानपुर के बर्रा दो यादव मार्केट चौराहा के पास रहने वाले पूर्व सांसद व कांग्रेसी नेता राजाराम पाल ने बहुजन समाज पार्टी से राजनीति में कदम रखा था। इसके बाद कांग्रेस और अब समाजवादी पार्टी में शामिल हुए हैं। कानपुर से सपा की विजय रथ यात्रा निकलने के ठीक एक दिन पहले लखनऊ में अखिलेश यादव से मिले और पार्टी की सदस्यता ग्रहण की है। विजय रथ यात्रा के दौरान कानपुर नौबस्ता बाईपास चौराहा पर अखिलेश यादव जन सभा को संबोधित करेंगे। माना जा रहा है कि इस दौरान सपा के मुखिया उन्हें पार्टी की सदस्यता ग्रहण कराएंगे। इसके बाद राजाराम सपा की विजय रथ यात्रा में शामिल होंगे। राजनैतिक जानकारों की मानें तो अभी तक सपा में पाल बिरादरी का कोई बड़ा नेता नहीं था। इसके चलते उन्हें पार्टी में स्थान दिया गया है। वह रनिया अकबरपुर से विधानसभा चुनाव लड़ने की भी तैयारी कर रहे हैं। इसके बाद अकबरपुर से लोकसभा चुनाव में अपनी दावेदारी ठोकेंगे।

एक दिन पहले वाराणसी में थे प्रियंका के साथ
राजाराम पाल रविवार को वाराणसी में किसान रैली में प्रियंका गांधी के साथ मंच पर थे। ठीक एक दिन बाद ही पार्टी छोड़ने का ऐलान करने से कांग्रेस को बड़ा झटका लगा है। बातचीत में पूर्व सांसद ने कहा कि अब वह सपा के हो गए हैं। कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं को पहले से मालूम था कि वे कभी भी सपा में वापसी कर सकते हैं। अखिलेश से लखनऊ में बातचीत के बाद अब कानपुर में विजय रथ यात्रा के दौरान जनसभा से मंगलवार को सार्वजनिक रूप से पार्टी में शामिल होने की घोषणा की जाएगी।

नोटकांड में फंसे थे राजाराम, बसपा से शुरू किया था राजनैतिक कॅरियर

  • बर्रा-2 कानपुर में रहने वाले साधारण परिवार में जन्में राजाराम पाल 1996 में बीएसपी में शामिल हुए और विधायक चुने गए।
  • 2004 में अकबरपुर से पहली बार सांसद बने, फिर 2005 में स्टिंग ऑपरेशन में लोकसभा में पैसे लेकर प्रश्न पूछने पर फंस गए थे।
  • इसके बाद बीएसपी ने पार्टी से निकाल दिया तो कांग्रेस में शामिल हो गए।
  • कांग्रेस के टिकट पर 2009 में अकबरपुर से फिर सांसद बने और 2014 में हार गए।
खबरें और भी हैं...