SSC का छात्र निकला शातिर ATM ठग:जौनपुर से कानपुर आया था तैयारी करने, बेरोजगारी ने बना दिया ठग, 500 से ज्यादा लोगों से कर चुका है ठगी

कानपुर7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कल्याणपुर थाने में पकड़ा गया शातिर ठग बाइक के दाहिनी तरफ अनिल यादव और बाएं तरफ राम अवतार प्रजापति। - Dainik Bhaskar
कल्याणपुर थाने में पकड़ा गया शातिर ठग बाइक के दाहिनी तरफ अनिल यादव और बाएं तरफ राम अवतार प्रजापति।

एटीएम में पैसा निकालने आए बुजुर्गों से एटीएम बदलकर ठगी करने वाले गिरोह के दो सदस्यों को कल्याणपुर पुलिस ने गिरफ्तार किया है। पुलिस ने दावा किया है कि जौनपुर से कानपुर एसएससी की तैयारी करने आया छात्र गैंग का मास्टरमाइंड है। शातिर छात्र अपने साथी के साथ मिलकर अब तक 500 से ज्यादा बुजुर्गों और महिलाओं को मदद का झांसा देने के बाद एटीएम बदलकर लाखों रुपए की ठगी कर चुका है।

मदद का झांसा देकर बुजुर्गों को ठगा
कल्याणपुर थाना प्रभारी अशोक दुबे ने रविवार को एटीएम बदलकर ठगी करने वाले गिरोह का खुलासा किया। उन्होंने बताया कि पकड़े गए शातिर ठगों की पहचान गुंजन विहार अर्रा (थाना-बर्रा) निवासी राम अवतार प्रजापति और जनपद जौनपुर थाना बदलापुर निवासी अनिल यादव के रूप में हुई। जांच में सामने आया कि दोनों लंबे समय से इस धंधे में लिप्त हैं और 500 से ज्यादा बुजुर्गों और महिालओं को मदद का झांसा देकर एटीएम बदलकर लाखों रुपए की ठगी कर चुके हैं।

वैकेंसी क्लीयर नहीं होने से मन पढ़ाई से हटने लगा
पूछताछ में ठग अनिल यादव ने बताया कि वह एसएससी की तैयारी करने के लिए शहर आया था। लेकिन कोविड और फिर कोई वैकेंसी क्लीयर नहीं होने से धीरे-धीरे उसका मन पढ़ाई से हटने लगा। इस दौरान उसकी दोस्ती एटीएम बदलकर ठगी करने वाले शातिर राम अवतार प्रजापति से हो गई। रूम का किराया और खाने की किल्लत होने पर उसने भी एटीएम बदलकर 35 हजार की ठगी की, पकड़े न जाने से उनका हौसला बढ़ता गया और एक के बाद एक ताबड़तोड़ लाखों रुपए की ठगी कर डाली। दोनों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर पुलिस ने जेल भेज दिया।

बुजुर्ग और महिलाएं निशाने पर
पूछताछ के दौरान अनिल ने बताया कि वह रोजाना इलाका और एटीएम बदल-बदल कर लोगों को शिकार बनाता था। देखता था कि कोई बुजुर्ग या फिर महिला एटीएम में घुसी तो उसकी मदद का झांसा देकर ओटीपी पूछ लेता फिर एटीएम बदलकर वहां से निकल जाता था। फिर दूसरे एटीएम में पहुंचकर एटीएम से सारा रुपए निकाल लेता था। रोजाना कोई न कोई फंस ही जाता था। शहर में 35 से ज्यादा ठगी के मुकदमे भी दर्ज हैं।

यह बरामद हुआ
पुलिस को अभियुक्तों के पास से 21 एटीएम कार्ड, 42000 रुपए और एक मोटर साइकिल बरामद हुई है। पकड़े गये अभियुक्तों से पूछताछ की जा रही है। गिरफ्तारी करने वाली टीम में दरोगा शरदेन्दु पाण्डेय, डालचन्द राजपूत, हेड कांस्टेबल आमोद कुमार, दीपक कुमार, कांस्टेबल अनमोल मलिक ने खुलासे में अहम भूमिका निभाई।