पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

ग्रामीण इलाकों में मोहल्ला क्लासेस में दिखा बच्चों में उत्साह:गांव के बगीचे में छात्रों की लग रही क्लासेज, होमवर्क और टेस्ट भी हो रहे है

कानपुर16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
घाटमपुर के साढ़ गांव में चलती म� - Dainik Bhaskar
घाटमपुर के साढ़ गांव में चलती म�

सरकार के आदेश पर शुरू हुई प्राथमिक स्कूल की मोहल्ला क्लासेस प्रतिदिन लगने लगी है। टीचर गांव के मोहल्लों में जाकर बच्चों को एकत्र करके कक्षाएं लगा रहे है। घर के बाहर, चबूतरे में या फिर पेड़ के नीचे बैठकर पढ़ने में बच्चों को भी काफी मजा आरहा है। गांव के कोने-कोने में क्लास लगने के कारण गांवों का माहौल काफी सुधार गया है। कोरोना के चलते यह सभी स्कूलों को बंद कर दिया गया था, अब जान कोरोना थमने लगा है तो बच्चों की पढ़ाई में नुकसान न हो इस लिए यह क्लासेस शुरू की गयी है।

घाटमपुर, बिधनू और महाराजपुर में लग रही है यह मोहल्ला क्लासेस...
बिधनू ब्लाक के सिद्धपुर गांव में संचालित होने वाले प्राथमिक व जूनियर स्कूल के टीचर अपने निर्धारित समय के अनुसार, प्राचार्य नम्रता अवस्थी की अगुवाई में गांव पहुचे और पूर्व से निर्धारित स्थान पर बच्चों को इकट्ठा कर क्लासेज शुरू कर दी। टीचरों ने बच्चों को सोशल डिस्टन्सिंग का हिसाब से बैठाया और शुरू हो गया स्कूल। सुबह 10 बजे से शाम चार बजे तक अलग अलग क्लास के बच्चों को यह शिक्षक प्रतिदिन होमवर्क भी देते है और अगले दिन उसकी चेकिंग भी की जाती है। कई जगह बोर्ड न होने की वजह से शिक्षक दीवारों का सहारा लेती है। इन क्लासेज की शुरुआत होने की वजह से बच्चों में भी उत्साह देखा जा रहा है।

रोटेशन के हिसाब से लगती है ड्यूटी
मोहल्ला क्लास के सुचारु संचालन के लिए शिक्षकों की ड्यूटी रोटेशन के आधार पर लगाई जाएगी। मोहल्ला क्लास में विद्यार्थियों को पढ़ाए गए विषयों का प्रतिमाह टेस्ट भी लिया जाएगा तथा असेसमेंट का रिकाॅर्ड रखा जाएगा। इसकी तैयारियों के मद्देनजर अलग अलग टीम इनपर निगरानी रखेगी।

बिधनू ब्लाक में चलती मोहल्ला क्लासेज
बिधनू ब्लाक में चलती मोहल्ला क्लासेज

गांव वाले भी कर रहे है मदद...
मोहल्ला क्लास का आयोजन होने से गांव के लोगों को भी यह समझ में आने लगा है कि शिक्षक बच्चों के लिए कितनी मेहनत कर रहे है। हालांकि शिक्षण कार्य के दौरान स्थानीय ग्रामीण शिक्षकों व गर्मी का ध्यान रखते हुए पानी की व्यवस्था करते है। क्लास में बच्चों की उपस्थिति का जिम्मा अलग अलग गांव के मोहल्ला क्लासेज की प्राचार्य और प्रधान ने लिया है। इसलिए कक्षाएं संचालित होने के दौरान सहायक शिक्षक गांव में घूम-घूमकर बच्चों को घरों से बुलाकर क्लास में पहुंचने के लिए कहते है। इस उमस भरी गर्मी में संचालित हो रही यह क्लासेज की हकीकत परखने के लिए खंड शिक्षाधिकारी भी गांव-गांव घूमकर शिक्षक और बच्चों को उत्साहित कर रहे है। क्लास के दौरान बच्चों और उनके गार्जियन को भी कोविड-19 की जानकारी दी जा रही है। साथ ही गांवों में वैक्सीनेशन के लिए भी लोगों को जागरूक कर रहे है।

खबरें और भी हैं...