पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Kanpur
  • Councilors Are Uniting To Make A Strategy Before The House, Competition To Get Development Work Done In The Wards Before The Assembly Elections, Kanpur Nagar Nigam, Nagar Nigam Sadan, Mayor Kanpur, Vidhansabha Election. Kanpur

15 को कानपुर नगर निगम सदन:सदन से पहले रणनीति बनाने के लिए एकजुट हो रहे पार्षद, विधानसभा चुनाव से पहले वार्डों में विकास कार्य कराने की होड़, हंगामे के आसार

कानपुर13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
नगर निगम सदन कार्यवाही की फाइल फोटो। - Dainik Bhaskar
नगर निगम सदन कार्यवाही की फाइल फोटो।

कानपुर नगर निगम सदन ज्यादातर हंगामेदार ही होता है। लेकिन इस बार 15 सितंबर को बुलाए गए सदन में हंगामे के आसार कम ही हैं। विधानसभा चुनाव से पहले पार्षदों के पास क्षेत्र में धड़ल्ले से विकास कार्य कराने का आखिरी मौका है। विधानसभा चुनाव के बाद निकाय चुनाव को लेकर तैयारियां शुरू हो जाएंगी। ऐसे में सभी पार्षद अपने-अपने क्षेत्रों में ज्यादा से ज्यादा विकास कार्य कराना चाहते हैं।

सदन से पहले बुलाई मीटिंग
सदन से पहले पार्षदों ने एकजुट होकर रणनीति बनाने की तैयारी की है। इसके लिए सोमवार को पार्षद कक्ष में मीटिंग भी बुलाई गई है। कांग्रेस पार्षद सुनील कनौजिया ने बताया कि चुनाव से पहले हर एक पार्षद विकास कार्य कराने को प्राथमिकता दे रहा है। वहीं वरिष्ठ पार्षद व पूर्व उपसभापति महेंद्र पांडेय पप्पू ने बताया कि इस बार के सदन के एजेंडे में विज्ञापन नियमावली पास कराने का मुख्य विषय है। इसके अलावा अन्य प्रस्तावों पर चर्चा सभापति सदन में ही तय करेंगी।

विरोधी पार्टिंयां करेंगी विरोध
माना जा रहा है कि विधानसभा चुनाव की आचार संहिता लगने से पहले ये आखिरी सदन है। वहीं कांग्रेस और सपा जनता के मुद्दों को लेकर जमकर हल्ला मचाएंगे। कांग्रेस सड़कों पर जन मुद्दों को लेकर पहले ही संघर्ष कर रही है। वहीं सदन से पहले पार्टी के पार्षदों ने भी अपनी रणनीति तैयार करने में जुट गई हैं।वहीं सपा के पार्षद दल के नेता हाजी सुहैल अहमद ने बताया कि जनता की समस्याओं को लेकर सवाल पूछे जाएंगे।

हर बार भाजपा की कलह आती है सामने
नगर निगम सदन में हर बार कई मुद्दों को लेकर हंगामा होता है। भाजपा पार्षदों के बीच कई अंदरूनी कलह भी सामने आई है। भाजपा पार्षदों को एक गुट महापौर प्रमिला पांडेय के विरोध में रहता है। बीते साल तत्कालीन नगर आयुक्त अक्षय त्रिपाठी और महापौर के बीच जमकर अदावत चली। इसके चलते 15वें वित्त आयोग के तहत विकास कार्य नहीं हुए थे। पार्षदों में भी इसको लेकर काफी रोष था।

वार्ड में विकास कार्य रोके जाने से रोष
शास्त्री नगर वार्ड से भाजपा पार्षद राघवेंद्र मिश्रा के वार्ड में विकास कार्य रोक दिए गए हैं। इससे नाराज पार्षद ने आमरण अनशन में बैठने की चेतावनी महापौर को दी थी। सदन में श्रमिक कॉलोनियों में विकास कार्य बाधित करना बड़ा मुद्दा बन सकता है। बता दें महापौर और पार्षद के बीच लगातार अनबन चल रही है। पार्षद ने विकास कार्य रोकने की शिकायत मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से भी की है। इसके अलावा पानी के मुद्दे पर भी हंगामा हो सकता है।

खबरें और भी हैं...