जिम्मेदारों ने सुखा दिए आदर्श तालाब​:कानपुर देहात में कागजों में बहा दिए पानी की तरह करोड़ों रुपए, आदर्श तालाब को पानी के लिए बारिश का इंतजार

कानपुर देहात7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सूख गए तालाब। - Dainik Bhaskar
सूख गए तालाब।

उत्तर प्रदेश के कानपुर देहात में जिला प्रशासन व जिम्मेदारों की अनदेखी के चलते करोड़ों खर्च करने के बाद भी मनरेगा के आदर्श तालाबों में पानी का संकट बना हुआ है, जबकि जिले में 7037 तालाबों में पिछले साल 3343 तालाब पानी की उपलब्धता वाले चिह्नित हुए थे।

इनमें से 500 तालाबों में हर समय पानी उपलब्ध रहने की बात जिला प्रशासन कर रहा था और 1115 तालाबों में नहरों व सरकारी नलकूपों से पानी भराने की सुविधा होने की जानकारी भी दी गई थी और 1728 तालाबों में पानी भराने का कोई साधन न होने की जानकारी भी जिला प्रशासन के पास थी लेकिन जिम्मेदारों की अनदेखी के चलते मौजूदा समय में कानपुर देहात में मनरेगा के तहत तैयार किए गए आदर्श तालाब व अधिकांश अन्य तालाब सूख गए और बेसब्री के साथ बारिश का इंतजार किया जा रहा है।

25 करोड़ की लागत से बनाए गए थे आदर्श तालाब
कानपुर देहात में मनरेगा योजना के तहत वर्ष 2009-10 में 307 व 2010-11 में 305 ग्राम पंचायतों में लगभग 25 करोड़ की लागत आदर्श तालाब बनाए गए थे। उस समय तालाबों के चारों ओर सीढ़ी, छायादार पौधे, बेंच का इंतजाम व तारों के बाड़ लगाई गई थी,लेकिन आदर्श तालाब इस समय दुर्दशा के शिकार हो गए हैं। कानपुर देहात अमरौधा, राजपुर व डेरापुर व मैथा ब्लॉक के बैरी गांव के आदर्श तालाब में पानी न होने की वजह से आदर्श तालाबों की स्थिति बद से बदतर हो गई है। हालात इस कदर बिगड़े हुए हैं कि जहां पर पानी होना चाहिए था वहां पर सूखा पड़ा है और अकबरपुर ब्लॉक के मिथलेशपुर बेवन के आदर्श तालाब में लोगो कंडे तक पथ रहे हैं।

अधिकारी बोले, कराई जाएगी जांच
कानपुर देहात के डी.सी मनरेगा हरिश्चंद्र ने बताया कि जिले में पूर्व में बने आदर्श तालाबों के बारे में जो जानकारी मिल रही है इसकी जांच कराई जाएगी और प्रभावी कार्रवाई भी की जाएगी और सुरक्षा व्यवस्था का पूरा इंतजाम भी किया जाएगा।

खबरें और भी हैं...