• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Kanpur
  • DG CBCID Sought Time To Record His Statement By Wednesday, Accused Of Conducting Arguments In The Camp Office In The Investigation, Distributing Literature And Motivating Conversion

सीनियर-IAS ने SIT से बयान दर्ज कराने को मांगा समय:DG-CBCID ने बुधवार शाम तक बयान दर्ज कराने का दिया अल्टीमेटम, जांच में कैंप ऑफिस में तकरीरें कराने, साहित्य बांटने और धर्मांतरण के लिए प्रेरित करने का आरोप

कानपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सीनियर आईएएस के कैंप ऑफिस में तकरीरें कराते हुए फोटो। - Dainik Bhaskar
सीनियर आईएएस के कैंप ऑफिस में तकरीरें कराते हुए फोटो।

कानपुर कमिश्नर कैंप ऑफिस में कट्‌टरता की पाठशाला और धार्मांतरण के लिए प्रेरित करने के आरोप में फंसे सीनियर आईएएस मो. इफ्तखारुद्दीन ने बुधवार को भी एसआईटी के सामने अपने बयान दर्ज नहीं पहुंचे। डीजी सीबीसीआईडी को फोन करके उन्होंने गुरुवार शाम तक अपने बयान दर्ज कराने का समय मांगा है। एसआईटी ने उन्हें मंगलवार शाम तक अपने बयान दर्ज कराने का अल्टीमेटम दिया था। अगर आईएएस बुधवार को भी अपने बयान दर्ज नहीं कराते तो बगैर उनका पक्ष लिए एसआईटी शासन को रिपोर्ट भेज देगी।

SIT ने बयान दर्ज कराने को 24 घंटे का IAS को दिया अल्टीमेटम दिया
सीबीसीआईडी डीजी जीएल मीणा के नेतृत्व में गठित एसआईटी सीनियर आईएएस यूपीएसआरटीसी के एमडी मो. इफ्तखारुद्दीन पर लगे आरोप की जांच कर रही है। 64 से अधिक तकरीरों वाले वीडियो की जांच करके इसकी रिपोर्ट तैयार कर चुकी है। रिपोर्ट सबमिट करने से पहले एसआईटी ने आईएएस का पक्ष जानने के लिए घर और दफ्तर में बयान दर्ज कराने के लिए नोटिस भेजा था। इसके साथ ही नोटिस में मंगलवार शाम-5 बजे तक लखनऊ स्थित सीबीसीआईडी के दफ्तर में बयान दर्ज कराने का समय दिया था, लेकिन वह मौके पर नहीं पहुचे। देर शाम आईएएस इफ्तिखारुद्दीन ने डीजी जीएल मीणा को फोन कर समय मांगा। उन्होंने कहा कि वह बुधवार शाम तक अपने बयान दर्ज कराएंगे। एसआईटी ने उनको एक और मौका दे दिया है।

मेडिकल पर चले गए IAS अफसर, घर से भी नदारद
यूपीएसआरटीसी के एमडी मोहम्मद इफ्तिखारुद्दीन ने मामले का खुलासा होने के बाद दो दिन की छुट़टी ली थी, लेकिन इसके बाद वह लौटकर दफ्तर नहीं आए। घर पर भी वह मौजूद नहीं हैं। अब वह पूरे मामले की कानूनी लड़ाई की तैयारी कर रहे हैं। सूत्रों की मानें तो आईएएस फजीहत होने के बाद छुट्‌टी लेकर गायब हो गए हैं।
बयान होते ही शासन को भेजी जाएगी जांच रिपोर्ट
कानपुर एडीजी जोन भानु भास्कर एसआईटी के सदस्य हैं। इस वजह से एडीजी दफ्तर में ही एसआईटी की टीम पिछले एक सप्ताह से मामले की जांच में जुटी है। टीम में एएसपी सीबीसीआईडी व अन्य इंस्पेक्टर, दरोगा शामिल हैं। एक-एक वीडियो देखने के साथ उसकी पूरी स्क्रिप्ट उतारी गई। कहां पर क्या आरोप पाए जा रहे हैं उसको अलग से अंकित किया जा रहा है। टीम 18-18 घंटे तहकीकात कर रही है। तीस से अधिक लोगों के बयान भी दर्ज किए जा चुके हैं। एसआईटी की जांच अंतिम पड़ाव पर है।

खबरें और भी हैं...