• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Kanpur
  • DG GL Meena Reached The City And Had A Meeting With The Team, Then Visited The Official Residence Of The Divisional Commissioner Late In The Evening.

SIT ने शुरू की धर्मांतरण मामले में इफ्तखारुद्दीन की जांच:DG-CBCID जीएल मीणा पहुंचे कानपुर, कमिश्नर ऑफिस का किया मुआयना, कर्मचारियों से पूछताछ

कानपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सीनियर आईएएस मो. इफ्तखारुद्दीन की जांच करने कानपुर पहुंची एसआईटी। एक सप्ताह में शासन को देनी है रिपोर्ट। - Dainik Bhaskar
सीनियर आईएएस मो. इफ्तखारुद्दीन की जांच करने कानपुर पहुंची एसआईटी। एक सप्ताह में शासन को देनी है रिपोर्ट।

धर्मांतरण की पाठशाला चलाने के आरोपी मो. इफ्तिखारुद्दीन के वीडियो के मामले में बुधवार को SIT (स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम) ने जांच शुरू कर दी। सात दिनों में SIT जांच पूरी करके शासन को रिपोर्ट सौंपेगी।

SIT अध्यक्ष CBCID (क्राइम-ब्रांच क्राइम इन्वेस्टिगेशन डिपार्टमेंट) के डीजी जीएल मीणा कानपुर पहुंचे। उन्होंने सर्किट हाउस में SIT के सदस्य एडीजी जोन भानु भास्कर के साथ बैठक करने के साथ ही जांच के हर पहलू पर बात की। इसके बाद उन्होंने कमिश्नर ऑफिस पहुंचकर मौका मुआयना किया और कर्मचारियों से बात की। कानपुर में इफ्तखारुद्दीन कमिश्नर रह चुके हैं।

एसआईटी के अध्यक्ष डीजी सीबीसीआईडी जीएल मीणा और एडीजी कानपुर जोन भानु भास्कर ने शुरू की जांच।
एसआईटी के अध्यक्ष डीजी सीबीसीआईडी जीएल मीणा और एडीजी कानपुर जोन भानु भास्कर ने शुरू की जांच।

शाम पांच बजे सर्किट हाउस पहुंचे SIT के अध्यक्ष जीएल मीणा शाम पांच बजे सर्किट हाउस पहुंचे। उन्होंने बताया कि सीनियर आईएस के कुछ वीडियो सामने आए हैं। आरोप है कि कानपुर में तैनाती के दौरान धर्मांतरण की गतिविधियां उनके सरकारी बंगले से संचालित होती रहीं। इस दौरान उनके बंगले पर कट्‌टरता की पाठशाला भी चलाई गई। इसके साथ ही अन्य आरोप भी लगाए गए हैं।

कमिश्नर के बंगले के एक-एक कमरे को छाना, कर्मचारियों से पूछताछ

SIT ने इफ्तखारुद्दीन के बंगले का मुआयना करने के साथ ही वहां तैनात सभी कर्मचारियों से पूछताछ की। आरोप लगाने वाले लोगों को बुलाकर उनके बयान दर्ज कराए जाएंगे। इस दौरान एडीजी जोन भानु भास्कर, सीपी हेडक्वार्टर आनंद प्रकाश तिवारी समेत अन्य पुलिस अफसर मौजूद रहे। जांच को पूरा करने के लिए CBCID की एक टीम को भी लगाया गया है। जिसमें एक एडिशनल एसपी, एक इंस्पेक्टर, दो सब इंस्पेक्टर और तीन सिपाही शामिल हैं।

एक-एक कर्मचारी के दर्ज होंगे बयान
डीजी जीएल मीणा ने कहा कि इस मामले में कमिश्नर आवास पर तैनात एक-एक कर्मचारियों से पूछताछ की जाएगी। कानपुर कमिश्नर रहने के दौरान इफ्तखारुद्दीन का रूटीन क्या था? कौन-कौन लोग बंगले पर आते थे? किस कमरे में बैठक होती थी? क्या उस समय का कोई सीसीटीवी फुटेज या अन्य रिकॉर्ड किसी कर्मचारी के पास मौजूद है? साक्ष्य संकलन के बाद आरोपों में कितनी सच्चाई है, इसकी जांच रिपोर्ट बनाकर एक सप्ताह के भीतर शासन को सौंपी जाएगी।

CTS बस्ती के लोगों से होगी पूछताछ
आरोप है कि मेट्रो यार्ड में सीटीएस बस्ती की जमीन जाने के दौरान कमिश्नर इफ्तखारुद्दीन ने कहा था कि मुस्लिम धर्म अपनाओ, सभी की मदद होगी। पनकी के समाज सेवी रॉबी शर्मा और सीटीएस बस्ती निवासी निर्मल ने खुलकर कमिश्नर पर आरोप लगाए थे। बस्ती के दर्जनों लोग इस तरह सीनियर आईएएस पर आरोप लगा रहे थे। एसआईटी अब आरोप लगाने वाले पब्लिक के बयान दर्ज करेगी और इससे संबंधित साक्ष्य जुटाएगी।

सीनियर आईएएस इफ्तखारुद्दीन के किताबों की भी जांच शुरू
सीनियर आईएएस इफ्तखारुद्दीन के किताबों की भी जांच शुरू

कमिश्नर की किताब की भी होगी जांच
कल्याणपुर सीटीएस बस्ती के लोगों ने सीनियर आईएएस इफ्तखारुद्दीन की दो किताबें भी दिखाईं। बस्ती के लोगों ने बताया कि उन्हें धर्मांतरण के लिए मोटीवेट करने के दौरान 'शुद्ध उपासना तथा नमन' और 'शुद्ध भक्ति' नाम की किताबें बांटी गई थी। किताब लाकर उन्होंने इसके साक्ष्य दिए। इस आरोप में कितनी सच्चाई है? यह जानने के लिए एक-एक आदमी का बयान दर्ज करने के साथ ही उनकी लिखी गई पुस्तक के बारे में भी जानकारी जुटाई जाएगी। आखिर उस पुस्तक में क्या लिखा है...? किताब क्या संदेश दे रही...? और उसे बांटने का मकसद क्या है...? इन सभी बिंदुओं पर जांच होगी।

खबरें और भी हैं...