• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • DGGI Presented The Document In Kanpur Court, It Will Be Weak 177 करोड़ कैश बरामदगी में क्लीनचिट लगभग तय; 23 KG सोना, 600 किलो चंदन तेल में बढ़ सकती है मुश्किल

177 करोड़ कैश बरामदगी में क्लीनचिट की तैयारी:64 KG सोना तस्करी में कस्टडी मांगेगी रेवेन्यू इंटेलिजेंस, नायक बनकर जेल से बाहर आ सकता है पीयूष जैन

कानपुर5 महीने पहले

कानपुर का इत्र कारोबारी पीयूष जैन नायक बनकर जेल से बाहर निकल सकता है। दरअसल डायरेक्टरेट जनरल ऑफ जीएसटी इंटेलिजेंस (DGGI) की अहमदाबाद टीम ने कानपुर में उसके घर से जो 177.45 करोड़ रुपए कैश बरामद किए थे, अब इस रकम को टीम ने कारोबारी का टर्नओवर मान लिया है।

उधर, डायरेक्टरेट ऑफ रेवेन्यू इंटेलिजेंस (DRI) ने 64 KG सोना तस्करी के मामले में पीयूष जैन को कस्टडी में लेने का निर्णय लिया है।

बेटे को पूछताछ के लिए उठाया
DGGI ने कोर्ट में कुछ दस्तावेज पेश किए हैं। इसमें जिक्र है कि पीयूष जैन ने कारोबार में गैरकानूनी ढंग से नकदी के इस्तेमाल और टैक्स बचाने की नीयत से इनवॉइस का गलत इस्तेमाल किया है। अब उसे 52 करोड़ रुपए की पेनाल्टी भरकर जमानत मिल सकती है। DGGI की रिपोर्ट के बाद इनकम टैक्स भी कार्रवाई नहीं कर पाएगा।

हालांकि 64 KG सोना और 600 किलो चंदन तेल की बरामदगी मामले में उसकी मुश्किलें बढ़ती दिख रही हैं। GST के जानकारों का कहना है कि ज्यादा कुछ हुआ तो बाद में मनी लॉन्ड्रिंग और ED की कार्रवाई हो सकती है। मंगलवार की रात पीयूष जैन के बेटे प्रत्यूष जैन को भी DGGI की टीम कन्नौज से अपने साथ पूछताछ करने के लिए ले गई है।

जेल की रोटी को बार-बार पलटकर देखता रहा पीयूष जैन:खाना नहीं खाया, BP घटता-बढ़ता रहा, ली नींद की गोली

कन्नौज में छापेमारी के वक्त जैन के घर में कमरों में लगे ताले को गैस कटर से काटा गया था।
कन्नौज में छापेमारी के वक्त जैन के घर में कमरों में लगे ताले को गैस कटर से काटा गया था।

टैक्स चोरी के लिए करोड़ों का हुआ नकद लेनदेन
इत्र कारोबारी पीयूष जैन पर DGGI अहमदाबाद की टीम ने GST की धारा 132 A और 67 के तहत कार्रवाई की है। GST की धारा 69 के तहत उसे गिरफ्तार करके न्यायिक हिरासत में जेल भेजा गया है। पीयूष जैन के वकील सुधीर मालवीय ने बताया कि DGGI ने आरोप लगाया है कि टैक्स चोरी करने की नीयत से इनवॉइस का गलत इस्तेमाल हुआ है।

मालवीय ने बताया कि प्रारंभिक जांच में लगभग 35 करोड़ की टैक्स चोरी का मामला पकड़ा गया है। जिसकी पेनाल्टी सहित कुल 52 करोड़ रुपए जमा करने होंगे। इसके लिए DGGI को पीयूष जैन की तरफ से उसके खाते से पेनाल्टी सहित वसूलने का प्रार्थना पत्र दे दिया गया है। हालांकि अभी खाते से रकम नहीं निकाली गई है।

पांच साल की हो सकती है सजा, मिल जाएगी जमानत
GST के वरिष्ठ वकील सुधीर शर्मा बताते हैं कि अब तक की कार्रवाई के मुताबिक पीयूष जैन को 5 साल तक की सजा हो सकती है। हालांकि यदि पकड़ी गई रकम का वास्ता किसी राष्ट्र विरोधी गतिविधि में पाया गया तो जमानत मिलना आसान नहीं होगा। DGGI अपने विभाग की टैक्स चोरी साफ होने के बाद आगे की कार्रवाई के लिए यह मामला इनकम टैक्स को सौंपेगा। तब 3 गुना पेनाल्टी वसूली जाएगी, जबकि GST की चोरी पर 100 गुना की पेनाल्टी वसूली जाती है।

ईडी और मनी लॉन्ड्रिंग का मामला यदि आता है तो भी जमानत में काफी मुश्किल हो सकती है। इसके लिए DGGI की कार्रवाई खत्म होने का इंतजार करना होगा। तभी कुछ कह पाना संभव होगा।

मनी लॉन्ड्रिंग और ED की कार्रवाई होना तय
कानपुर इनकम टैक्स बार एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष और चार्टर्ड अकाउंटेंट दीप मिश्रा ने बताया कि इतनी बड़ी मात्रा में नकदी और सोना-चांदी मिलने के बाद कई सवाल खड़े हो रहे हैं। पीयूष जैन की कंपनी द्वारा कुल कितना टर्नओवर है, यह भी देखने वाली बात है।

इतनी ज्यादा मात्रा में नकदी तो कई हजार करोड़ के टर्नओवर करने वाले कारोबारियों के पास भी रहना गैरकानूनी है। सभी बड़े लेनदेन बैंक द्वारा ही हो रहे हैं। ऐसे में DGGI की कार्रवाई आने वाले कुछ दिनों में इनकम टैक्स, मनी लॉन्ड्रिंग और ED (प्रवर्तन निदेशालय) द्वारा भी होना तय मानी जा रही है।

पीयूष के अधिवक्ता सुधीर मालवीय ने कोर्ट में 52 करोड़ रुपए टैक्स चोरी पर पेनाल्टी जमा करने के लिए कोर्ट में प्रार्थना-पत्र दिया है।
पीयूष के अधिवक्ता सुधीर मालवीय ने कोर्ट में 52 करोड़ रुपए टैक्स चोरी पर पेनाल्टी जमा करने के लिए कोर्ट में प्रार्थना-पत्र दिया है।

शिखर पान मसाले पर की थी छापेमारी
DGGI अहमदाबाद की टीम ने बीते 22 दिसंबर (बुधवार) को शिखर पान मसाला और ट्रांसपोर्टर प्रवीण जैन के ठिकानों पर छापेमारी की थी। शिखर पान मसाला और ट्रांसपोर्टर के यहां से मिले दस्तावेजों के आधार पर DGGI की टीम ने पीयूष जैन के आनंदपुरी स्थित बंगले पर छापेमारी की, जहां से बेहिसाब कैश बरामद हुआ था।

इत्र कारोबारी की एक गलती ने बनाया विलेन:पिता के सिखाए फार्मूले से पीयूष जैन ने इतना कमाया कि 195 करोड़ कैश तो रेड में मिल गए

बेहद गोपनीय रखा जाता है कारोबार

कन्नौज में इत्र कारोबारी बेहद गोपनीयता बरतते हैं। स्थानीय निवासी इंद्रेश जैन ने बताया कि किस पान मसाला के कंपाउंड को बनाने में किस इत्र और केमिकल का यूज और कितना किया गया, ये कोई किसी को भी नहीं बताता है। पान मसाला कंपनियां भी किससे कंपाउंड लेती है, ये भी बेहद गोपनीय रखा जाता है। देश की बड़ी से बड़ी और छोटी से छोटी पान मसाला बनाने वाली कंपनी का कंपाउंड (फ्लेवर और स्वाद) कन्नौज से ही जाता है।

चीजों से है बेहद लगाव

पीयूष जैन के पड़ोसी निशंक जैन ने बताया कि पीयूष को अपनी चीजों से बेहद लगाव है। कार्रवाई से 3 दिन पहले ही निशंक की पीयूष जैन से दुआ-सलाम हुई थी। बताया कि उसने जो भी चीज खरीदी उसे कभी नहीं बेचा। उसके पास एलएमएल स्कूटर के अलावा पुरानी राजदूत मोटरसाइकिल भी है।

उसके पास पुरानी सैंट्रो कार भी है तो नई फार्च्यूनर गाड़ी भी है। उसके पास पुरानी क्वालिस गाड़ी भी है। उसका और पूरे परिवार का रहन-सहन भी बेहद साधारण ही रहा है। उसने कानपुर हो या कन्नौज घर को भी खाली नहीं छोड़ा।

यह भी पढ़ें-

गुटखे के ट्रक से मिला 177 करोड़ का सुराग:बहनोई प्रवीण के ट्रक से फर्जी बिल मिले तो रडार पर आए पीयूष...फिर शुरू हुई छापेमारी
सपा के फंड मैनेजर्स पर छापे की पूरी कहानी:पार्टी से जुड़े कारोबारियों पर नजर रखी गई, सामान और होलसेल जैसे कोडवर्ड से पकड़े 150 करोड़
छापे में मिले नोटों की ढुलाई का VIDEO:कानपुर में पीयूष जैन के घर से 150 नहीं, 177 करोड़ मिले; अफसर बोले- जिंदगी में इतना कैश नहीं देखा
'रेड' फिल्म की तरह घर में छिपा रखे थे नोट:इत्र कारोबारी ने क्रॉकरी से भरी रैक के पीछे दीवारों में चुनवा रखी थी नकदी
इत्र कारोबारी के तहखाने का VIDEO:कन्नौज स्थित घर में था गुप्त तहखाना, नगदी और सोना-चांदी रखता था; पुलिस ने तलाश में दीवार-छत सब खोद डाला