• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Kanpur
  • Due To Continuous Rain For The Last 5 Hours, Life Is Disturbed, Silence On The Roads, Weather, Rain, Cold, CSA Weather Expert, Motijheel, Kanpur

कानपुर में अभी और बढ़ेगी ठंड:5 घंटे से लगातार हो रही बारिश, गलन बढ़ने से लोग परेशान

कानपुर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बारिश के चलते रात में पाला गिरने की भी आशंका जताई जा रही है। - Dainik Bhaskar
बारिश के चलते रात में पाला गिरने की भी आशंका जताई जा रही है।

कड़ाके की ठंड के बीच शुरू हुई बारिश ने कानपुर के जनजीवन को अस्त-व्यस्त कर दिया। गुरुवार को तड़के सुबह से शुरू हुई बारिश की वजह से ठंड और बढ़ गई है। वहीं शीतलहर से पारे में गिरावट दर्ज की गई है। मौसम के मुताबिक आने वाले 3 दिनों तक मौसम खराब रहेगा। रात के तापमान में अब तेजी से गिरावट होगी और पाला पड़ने की पूरी संभावना बनी हुई है।

मोतीझील की सड़कों पर बारिश की वजह से पसरा सन्नाटा।
मोतीझील की सड़कों पर बारिश की वजह से पसरा सन्नाटा।

सुबह से ही लोगों को परेशानी
तड़के सुबह शुरू हुई बारिश की वजह से लोगों को ऑफिस जाने में भारी मुश्किलों का सामना करना पड़ा। लाखों लोग मजबूरी में बारिश में भीगते हुए ऑफिस जाना पड़ा। रिमझिम बारिश का सिलसिला रुक-रुक जारी है। बारिश कभी तेज और धीमे हो रही है। सीएसए के मौसम वैज्ञानिक डा. एसएन सुनील पांडेय ने बताया कि बादलों के कारण गुरुवार तड़के न्यूनतम तापमान 12.4 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया। साथ ही सुबह 8 बजे तक ही करीब 3 मिमी. बारिश दर्ज की गई है। एक दिन पहले तक न्यूनतम तापमान 8.2 डिग्री सेल्सियस और अधिकतम 19.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था, लेकिन बादलों के कारण रात का तापमान बढ़ गया।

सड़कों पर रोजाना के मुकाबले बेहद कम ही लोग निकले। दिन में छाया अंधेरा।
सड़कों पर रोजाना के मुकाबले बेहद कम ही लोग निकले। दिन में छाया अंधेरा।

रविवार तक मौसम रहेगा खराब
मौसम विज्ञानिकों के मुताबिक रविवार तक मौसम साफ नहीं होगा। धूप भी नहीं निकलेगी। इसकी वजह से तापमान में तेजी से गिरावट दर्ज की जाएगी। रविवार तक आसमान पर घने बादल छाए रहने से बूंदाबांदी और बारिश होने की संभावना है। इस दौरान रात से लेकर सुबह तक घना कोहरा भी पड़ेगा और दिन में तेज शीतलहर के साथ गलन होगी।

किसानों की दी गई सलाह
मौसम वैज्ञानिक के मुताबिक बारिश के चलते रात में पाला गिरने की भी आशंका जताई जा रही है। ऐसे में लोग सतर्क रहें। फसलों की भी सुरक्षा करें। जरूरी कीटनाशक, रोगनाशक दवाओं का छिड़काव कर सकते हैं।