• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Kanpur
  • Even After 55 Hours, The Process Of Falling Stones Started, The Police Also Returned After Investigating, Every 5 Minutes A Stone Falls At The House, Barra, Damodar Nagar, Kanpur Police, Kanpur

कानपुर...2 मकानों पर दो दिन से बरस रहे पत्थर:पुलिस के सामने भी गिरे, हेलमेट पहनने को मजबूर पूरा परिवार; किसी को कुछ नहीं पता कहां से आ रहे हैं

कानपुर3 महीने पहले
शिकायत पर जब पुलिस पहुंची तो पुलिसकर्मियों के सामने भी पत्थरबाजी होती रही।

कानपुर में एक अजीबो-गरीब मामला सामने आया है। यहां बर्रा के दामोदर नगर में रहने वाले परिवार में अजीब सी दहशत बैठ गई है। इस वजह से पूरा परिवार घर में हेलमेट पहनकर रहने को मजबूर है। उनका कहना है कि उनके घर पर पिछले 2 दिन से पत्थरबाजी हो रही है। यह पत्थर कहां से आ रहे हैं, कौन फेंक रहा, क्यों फेंक रहा है। इसकी जांच करने के लिए पुलिस भी घर आई लेकिन कोई नतीजा नहीं निकला। आलम यह है कि परिवार का कोई सदस्य बालकनी या छत पर भी जाता है तो हेलमेट पहनना नहीं भूलता। पड़ोसी भी इस घटना से सकते में हैं।

हेलमेट पहनने को मजबूर परिवार
बर्रा के दामोदर नगर में आदित्य शर्मा अपने परिवार के साथ मकान में रहते हैं, वह पेशे से शिक्षक हैं। उनके घर में पत्नी, बच्चे और अन्य सदस्य रहते हैं। पड़ोसियों की मानें तो इन दिनों आदित्य और उनके परिवार के लोग घर के अंदर हेलमेट पहने नजर आते हैं। घर का कोई सदस्य छत पर कपड़े सुखाने या अन्य किसी काम से जाता है तो हेलमेट पहन लेता है। इतना ही नहीं बालकनी में आने पर भी आदित्य अक्सर हेलमेट पहने नजर आते हैं। आसपास के लोगों ने उनसे जब वजह पूछी तो वो भी हैरान रह गए।

घर पर पत्थरबाजी की वजह से खिड़कियों के टूटे शीशे।
घर पर पत्थरबाजी की वजह से खिड़कियों के टूटे शीशे।

रुक-रुककर हो रही पत्थरबाजी
दरअसल, आदित्य के घर में मंगलवार शाम से पत्थर बरस रहे हैं। उनके घर पर रुक-रुककर पत्थरबाजी हो रही है। हैरत की बात ये है कि कोई दिखाई नहीं पड़ रहा है। आदित्य बताते हैं कि मंगलवार सुबह 9 बजे से उनके घर पर पत्थरबाजी शुरू हुई। पथराव से घर की सभी खिड़कियों के शीशे टूट गए हैं। वह काफी देर तक सिर पर हेलमेट लगाकर निगरानी करते रहे लेकिन पत्थर कहां से आ रहे हैं, यह नहीं पता चला।

पुलिस के सामने भी आते रहे पत्थर
इस बारे में आदित्य ने पुलिस को सूचना दी थी। पुलिसकर्मी घर आए तो उनकी मौजूदगी में भी पत्थर आते रहे। पुलिस ने पड़ताल की लेकिन पत्थर कहां से आ रहे हैं और कौन बरसा रहा है, इसका पता नहीं चल सका।

पुलिस नहीं ले रही तहरीर
आदित्य के मुताबिक पुलिस ने उनकी तहरीर नहीं ली है और कोई कार्रवाई भी नहीं की। घर पर पत्थर बरसने से उनका परिवार दहशत है और अपनी सुरक्षा खुद करने को मजबूर हैं। वहीं, स्थानीय लोगों का मानना है कि कोई असामाजिक तत्व दूर से गुलेल से इस तरह की हरकत कर रहा है।

खबरें और भी हैं...