• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Kanpur
  • Even After The Construction Of The Expressway, The Journey Will Be Of 2 Hours, Now It Takes An Average Of 3 Hours, Nitin Gadkari, NHAI, Kanpur Lucknow Expressway, Unnao, Kanpur

कानपुर-लखनऊ के बीच समय की बचत:एक्सप्रेसवे बनने पर भी 2 घंटे का होगा सफर, अभी लगते हैं 3 घंटे

कानपुर7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कानपुर-लखनऊ एक्सप्रेसवे का आज कानपुर में शिलान्यास किया जाना है। एनएचएआई ने इस एक्सप्रेसवे को लेकर दावा किया है कि 63 किमी. की दूरी 45 मिनट में पूरी होगी। लेकिन कानपुर हो या लखनऊ इस एक्सप्रेसवे तक पहुंचने में ही आपको एवरेज आधा घंटा से 45 मिनट तक लगेगा। इस दूरी को गूगल मैप पर चेक किया गया।

गूगल मैप पर एवरेज टाइम
कानपुर-लखनऊ एक्सप्रेसवे जहां से गुजर रहा है, वहां की दूरी को 3 भागों में चेक किया गया। मान लिया कि कानपुर झकरकटी बस स्टैंड से लखनऊ आलमबाग बस स्टैंड से कोई व्यक्ति कार से जा रहा है। पीक टाइम (शाम 7 बजे) पर इस दूरी को पहले गूगल मैप झकरकटी बस स्टैंड से बदरका मोड़ (यहां एक्सप्रेसवे खत्म होता है) तक एवरेज टाइम निकाला। यहां तक पीक टाइम में कार से आने में 46 मिनट एवरेज टाइम लगेगा।

बदरका मोड़ से दूरी
वहीं बदरका मोड़ से शहीद पथ तक की दूरी 61 किमी. है। इसे अभी तय करने में 1 घंटा 39 मिनट लगते हैं। ये दूरी एक्सप्रेसवे बनने के बाद 45 मिनट की रह जाएगी। शहीद पथ से आलमबाग बस स्टैंड तक पहुंचने में 12 किमी. की दूरी को तय करने में 30 मिनट लगेंगे। ऐसे में अभी दोनों शहर के बीच सफर तय करने में करीब 3 घंटे का समय लगता है। एक्सप्रेसवे बनने के बाद ये दूरी घटकर करीब 2 घंटे तक रह जाएगी।

2 फेज में बनेगा एक्सप्रेसवे
NHAI के प्रोजेक्ट डायरेक्टर एनएन गिरी ने बताया कि कानपुर-लखनऊ एक्सप्रेसवे की लंबाई करीब 63 किमी. है। इसको बनाने में 4700 करोड़ रुपए खर्च होंगे। ये 6 लेन का होगा। पैकेज-1 में 17.520 किमी. का निर्माण होगा। इसमें करीब 1675.18 करोड़ रुपए खर्च होंगे। पैकेज-2 में 45.244 किमी. का निर्माण होगा, इसमें करीब 1724 करोड़ रुपए खर्च होंगे। वहीं, विधानसभा चुनाव के बाद मार्च तक एक्सप्रेस-वे का निर्माण शुरू हो जाएगा।

हाइब्रिड एन्युटी मॉडल पर बनेगा
एक्सप्रेस-वे का निर्माण हाइब्रिड एन्युटी मॉडल पर किया जाएगा। इसमें 40 प्रतिशत धनराशि NHAI और 60 प्रतिशत धनराशि कंपनी को अपने पास से खर्च करना होगा। इसका भुगतान NHAI 15 साल में छमाही किस्तों में करेगा। इसका निर्माण कानपुर सीमा से सटे उन्नाव से लखनऊ के शहीद पथ तक होना है। एक्सप्रेस-वे उन्नाव के 31 व लखनऊ के 11 गांव से होकर गुजरेगा।

8 लेन के होंगे सभी ब्रिज
शहीद पथ लखनऊ से बनी तक सेंट्रल डिवाइडर पर सिंगल पिलर पर 6 लेन एलीवेटेड रोड बनेगा। इसके बाद बनी से उन्नाव होते हुए आजाद चौराहे तक रोड 6 लेन होगी। इसे कानपुर रिंग रोड, गंगा बैराज मार्ग और उन्नाव-लालगंज हाईवे से भी जोड़ा जाएगा। ट्रैफिक लोड को देखते हुए आने वाले समय में लखनऊ-कानपुर एक्सप्रेस-वे पर सभी ब्रिज 8 लेन के हिसाब से डिजाइन किए जाएंगे। उन्नाव जिले में ही टोल वसूला जाएगा।

नीचे नेशनल हाईवे ऊपर एक्सप्रेसवे
देश में ऐसे बहुत कम राज्य हैं। जहां नीचे नेशनल हाईवे और उसके ऊपर एक्सप्रेस वे बना हो। सरकार कानपुर-लखनऊ एक्सप्रेस वे को एनई-6 घोषित भी कर चुकी है। जबकि नीचे से नेशनल हाईवे-27 होकर गुजरेगा। 62.755 किमी. का पूरा एक्सप्रेस वे एलिवेटेड 6 लेन बनाया जाएगा। रोजाना मौजूदा हाईवे के किनारे बड़ी संख्या में आबादी हो गई है। इससे आए दिन एक्सीडेंट के खतरा भी बढ़ता जा रहा है।

ऐसा होगा एक्सप्रेस वे
6 लेन का होगा एक्सप्रेस-वे।
26 छोटे और दो बड़े पुल बनेंगे।
16 वाहन अंडरपास और 22 पैदल अंडरपास होंगे।
1 रेलवे ओवरब्रिज का निर्माण किया जाएगा।
62.75 किलोमीटर लंबा होगा।
4200 करोड़ रुपए रोड निर्माण में होगा खर्च।
6 जगहों पर सर्विस रोड बनाई जाएगी।
4900 करोड़ रुपए है कुल बजट।
13 किमी. अमौसी से बनी तक एलिवेटेड होगा।

खबरें और भी हैं...