पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Kanpur
  • Fire Caused By Short Circuit In Cardiology, Ran On The Road With The Patients; From The Sidewalk To The Road, The Crowd Gathered All Around

कानपुर में ह्दय रोग संस्थान में बाल बाल बचे मरीज:कार्डियोलॉजी में शार्ट शर्किट से लगी आग, मरीजों को तीमारदार लेकर सड़क पर भागे; फुटपाथ से लेकर सड़क तक चारों तरफ लगी भीड़

कानपुर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कानपुर के कॉर्डियोलाजी सेंटर में लगी आग। - Dainik Bhaskar
कानपुर के कॉर्डियोलाजी सेंटर में लगी आग।

उत्तर प्रदेश के कानुपर में हृदय रोग संस्थान (कार्डियोलॉजी) सोमवार देर शाम पैथोलॉजी में रखी फ्रिज में शॉर्ट सर्किट से आग लग गयी। आग का धुआं हॉस्पिटल में फैलते ही हड़कंप मच गया। सभी तीमारदार अपने अपने मरीजों को लेकर हॉस्पिटल के सामने सड़क पर आ गए। डॉक्टर भी चीखते हुए बाहर भागे। सूचना पर पहुंची फायर ब्रिगेड की टीम ने किसी तरह आग पर काबू पा लिया। हालांकि किसी भी तरह जनहानि या अन्य कोई नुकसान नहीं हुआ है।

हृदय रोग संस्थान में देर शाम बजे दूसरी मंजिल पर बने पैथोलॉजी मैं रखें फ्रिज में शार्ट सर्किट से आग लग गई। देखते ही देखते फ्रीज भरभरा कर जलने लगा और चारों तरफ धुआं फैल गया। ग्राउंड फ्लोर से लेकर दूसरी मंजिल तक धुआं देख मरीजों में हड़कंप मच गया। जनरल वार्ड से लेकर अन्य वार्ड में भर्ती 35-40 से ज्यादा मरीजों के तीमारदार उन्हें लेकर बाहर भागे।

फुटपाथ से लेकर सड़क तक चारों तरफ लगी भीड़

हॉस्पिटल के बाहर फुटपाथ से लेकर सड़क तक चारों तरफ मरीज ही मरीज और तीमारदार की भीड़ थी। सूचना पर फौरन फायर ब्रिगेड की 3 गाड़ियां मौके पर पहुंची, लेकिन तब तक हॉस्पिटल प्रबंधन ने ही काफी हद तक आग पर काबू पा लिया था। इसके बाद फायर विभाग की टीम ने भी चंद मिनट में आग को पूरी तरीके से शांत कर दिया।

इसके बान हॉस्पिटल मैनेजमेंट की तरफ से अनाउंस किया गया कि किसी भी तरह कोई खतरे की बात नहीं है। तब जाकर मरीजों ने राहत की सांस ली। मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल आरबी कमल भी मौके पर पहुंचे उन्होंने बताया कि शार्ट सर्किट से फ्रीज में आग लगी थी इसके चलते हॉस्पिटल में धुआं भर गया और मरीज भयभीत हो गए थे किसी भी तरह का कोई नुकसान नहीं हुआ है।

दो महीने पहले भी हॉस्पिटल में लगी थी बड़ी आग
कार्डियोलॉजी में 2 महीने पूर्व 28 मार्च को बड़ी आग लग गई थी। इस दौरान मरीजों ने खिड़की के शीशे तोड़कर कूद कर अपनी जान बचाई थी। आग की सूचना फैलते ही मरीजों और डॉक्टरों के मन में वही सीन कौंध गया। मरीज और डॉक्टर जान बचाकर बाहर भागे। हॉस्पिटल के बाहर फुटपाथ से लेकर सड़क तक सिर्फ मरीज और तीमारदारों के साथ पब्लिक की घंटों भारी भीड़ लगी रही।

फायर विभाग और पुलिस ने दिखाई मुस्तैदी
आग की सूचना मिलते ही 10 मिनट के भीतर सीएफओ एमपी सिंह के साथी 3 फायर ब्रिगेड की गाड़ियां मौके पर पहुंची। पैथोलॉजी की जिस कमरे में आग लगी थी शीशा तोड़कर आग पर काबू पाने के साथ ही धुंआ भी पूरी तरीके से बाहर निकाल दिया गया। इससे कि मरीजों को फौरन राहत मिल सके। पुलिस ने घबराए मरीजों और तीमारदारों को संभाला।