• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Kanpur
  • For The Longevity Of The Children, The Mahaparv Will Start From November 8, Women Observe A 36 hour Waterless Fast. Chhat Puja, Purvanchal, Bihar, Armapur Nahar, Panki Nahar, Dada Nagar Nahar, Nahay Khay, Kharana, Kanpur

कानपुर... छठ पर्व को लेकर तैयारियां शुरू:संतान की दीर्घायु के लिए महापर्व की शुरुआत 8 नवंबर से होगी, 36 घंटे का निर्जला व्रत रखती हैं महिलाएं

कानपुर22 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
घाटों पर वेदियों की सफाई और बनाने का काम शुरू हो गया है। नहाय खाय के साथ ये पर्व शुरू होगा। - Dainik Bhaskar
घाटों पर वेदियों की सफाई और बनाने का काम शुरू हो गया है। नहाय खाय के साथ ये पर्व शुरू होगा।

दीवाली के बाद पूरे देश में धूमधाम से मनाए जाने वाले छठ पर्व को लेकर तैयारियां शुरू हो गई हैं। संतान की दीर्घायु के लिए रखे जाने वाले इस महाव्रत की शुरुआत 8 नवंबर से होगी। दीपावली की प्रतिपदा से अर्मापुर, पनकी, सीटीआई नहर घाटों के साथ ही नगर निगम की ओर से बनाए कृत्रित तालाबों और गंगा किनार वेदी बनाने का सिलसिला शुरू हो गया है।

बिहार और पूर्वांचल की बड़ी आबादी
अखिल भारतीय भोजपुरी महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष संतोष गहमरी ने बताया कि घाटों पर षष्ठी तिथि पर सुहागिनें अस्ताचलगामी सूर्य को अर्घ्य देंगी। नहाय खाय के साथ ये पर्व शुरू होगा। अगले दिन सुबह उदय होते व्रती महिलाएं भगवान सूर्य को अर्घ्य देकर व्रत का पारण करेंगी। बता दें कि कानपुर में ये पर्व बड़ी ही धूमधाम से मनाया जाता है। बिहार और पूर्वांचल के लोगों की यहां बड़ी आबादी है।

नगर निगम ने घाटों पर काम शुरू किया
नगर निगम ने पनकी नहर, अर्मापुर नहर, दादा नगर नहर घाटों को संवारने का काम शुरू कर दिया है। वहीं सेंट्रल पार्क, जेपी पार्क समेत अन्य पार्कों पर तालाब खुदाई का काम भी शुरू कर दिया गया है। नहाय खाय के साथ ही इस दिन महिलाएं घरों में साफ सफाई कर लौकी की सब्जी और पका हुआ चावल का सेवन करेंगी। दूसरे दिन कार्तिक मास की पंचमी तिथि पर सुहागिनें गन्ने के रस में बनी खीर का सेवन करेंगी।

घाटों पर वेदी का निर्माण भी शुरू हो गया है।
घाटों पर वेदी का निर्माण भी शुरू हो गया है।

36 घंटे का निर्जला व्रत
नहाय खाय के बाद 36 घंटे के निर्जला व्रत महिलाएं रखेंगी। कार्तिक मास की षष्ठी तिथि पर अस्त होते सूर्य को और सप्तमी पर उदय होते सूर्य को पानी के बीच खड़ी होकर अर्घ्य देंगी। सुहागिनें एक दूसरे की मांग में सिंदूर लगाएंगी और अखंड सौभाग्य का आशीर्वाद भी देंगी।

यहां-यहां मनेगा छठ पर्व
अर्मापुर , पनकी नहर, सीटीआई नहर घाट, साकेत नगर नहर, गंगा बैराज, गोला घाट, सिद्धनाथ घाट के साथ ही शास्त्री नगर में बनने वाले तालाब में भी छठ पर पूजन होगा। डबल पुलिया में ग्रीन बेल्ट में भी वेदियां बनेंगी। तमाम महिलाएं तो अपने घरों में ही टब में जल भरकर उसमें खड़ी होकर सूर्य को अर्घ्य देंगी।

ये हैं व्रत की प्रमुख तारीख
8 नवंबर- नहाय खाय
9 नवंबर- खरना
10 नवंबर- संध्या अर्घ्य
11 नवंबर- व्रत पारण

खबरें और भी हैं...