पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कानपुर में कोरोना का कहर:पहली बार मई महीने में चार गुना मौतों के मामले दर्ज किए गए; जारी हुए 4364 डेथ सर्टिफिकेट, 1086 मामले अभी पेंडिंग

कानपुर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कानपुर नगर निगम में पहली बार मई में चार गुना - Dainik Bhaskar
कानपुर नगर निगम में पहली बार मई में चार गुना

उत्तर प्रदेश में कानुपर नगर निगम के लिए मई का महीना सबसे बुरा साबित हुआ है। कभी किसी महीने में इतने सर्टिफिकेट नहीं जारी किए गए जितना मई महीने में जारी किए गए हैं। निगम में 4 गुना से अधिक मौत के आंकड़े सामने आए हैं। यह तब है जबकि 1086 मौतें को अभी तक दर्ज नहीं किया गया है। बचे आंकड़े जून के खाते में जाएंगे।

जानकारी के अनुसार, कोरोना की पिछली लहर में भी मई 2020 के महीने में 1443 मौतें दर्ज की गयीं थी। वहीं 2019 में यह आंकड़ा 1499 रहा था। इसी तरह अप्रैल के आंकड़े देखें तो अप्रैल 2019 में 1527 मौत हुई है जबकि 2020 में अप्रैल में 458 दर्ज है। अप्रैल 2021 में 1953 सर्टिफिकेट जारी किए गये हैं। कोरोना की दूसरी लहर दरअसल कहर बन कर टूटी है। अभी 31 मई के जारी सर्टिफिकेट शामिल होना बाकी है।

1086 मौतों के सर्टिफीकेट पेंडिंग
मई के महीने में अभी 1086 सर्टिफिकेट बनना बाकी है। इनको यदि जोड़ दिया जाये तो मई में मौतों की संख्या 5450 पहुंचती है। पिछले साल से तुलना की जाये तो यह मौतों का आंकड़ा लगभग चार गुना पहुंच रहा है। इसमें से अधिकतर मरने वाले कोरोना संक्रमित हैं।

जून के बाद थमेगा डेथ सर्टिफिकेट जारी करने सिलसिला
नगर स्वास्थ्य अधिकारी डॉ अजय संखवार का कहना है कि 45 दिन में दिये जाने वाले सर्टिफिकेट को जिलाधिकारी ने 7 दिनों में देने के निर्देश दिये है। नगर निगम की कोशिश है कि जल्द से जल्द सर्टिफीकेट मृतको के परिजनों को दिये जायें।

इसके लिए मृतक की कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट को भी विभाग मान्यता दे रहा है। कोरोना से मौत होने पर किसी भी तरह से डाक्टर्स के सर्टिफिकेट की जरूरत नहीं है। उन्होंने आंकड़े देते हुए बताया कि अप्रैल से ज्यादा डेथ सर्टिफीकेट मई में जारी हुये है। जिसमें कुछ सर्टिफिकेट अप्रैल महीने के भी है। उन्होंने बताया कि अभी 1086 डेथ सर्टिफिकेट पेंडिंग है।

खबरें और भी हैं...