पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कुर्बानी के लिए नूर-बाहुबली को ड्राई फ्रूट्स खिलाकर पाला:साढ़े पांच फिट का बकरा, 3.50 लाख रुपए कीमत और 2.55 कुंतल वजन, खरीददारों के साथ देखने वालों की मंडी में उमड़ी भीड़

कानपुर10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बाहूबली नाम के बकरे के साथ सेल� - Dainik Bhaskar
बाहूबली नाम के बकरे के साथ सेल�

आपको जानकर हैरत होगी कि बकरों को भी कुर्बानी के लिए काजू-बादाम, पिस्ता और दूध पिलाकर बड़ा किया जाता है। इतना ही नहीं इनका नाम भी नूर, बाहुबली रखा गया है। अब बकरीद पर इनकी लाखों रुपए बोली लगाकर बेचा जाता है। कानपुर के बेकनगंज के बकरा कारोबारी ने कुछ इसी तरह से 50 बकरों को कुर्बानी के लिए तैयार किया और हाथों-हाथ उनके सभी बकरे बिक गए। कई सालों से उनके इस तरह के खास बकरों के लिए डिमांड बनी हुई है।
कानपुर में यूपी के कई जिलों से खास बकरा खरीदने आते हैं लोग
बकरीद पर कुर्बानी के लिए शहर में तरह-तरह के बकरे पहुंचे हैं। हर रसूखदार व्यक्ति कुछ खास बकरे की कुर्बानी बकरीद को करना चाहता है। कानपुर बेकनगंज वाले बकरा व्यापारी आकिब खां साहब ने बताया कि कुर्बानी के लिए बकरों को इंदौर और दिल्ली जैसे कई शहरों में पालने के लिए भेज देते है। बकरीद का त्यौहार आते ही सभी बकरों को शहर मंगवा लेते हैं। इनके बकरों में खास बात यह है की बकरों को गेहूं के दाने, हरा चारे के साथ ही काजू, बादाम, दूध, पिस्ता और चना खिलाकर हस्टपुष्ट बनाते है। इसके बाद उन्हें बकरीद से पहले कुर्बानी के बेचते हैं। उनके पास एक बकरा साढ़े 5 फुट और उसका वजन 2 कुंटल 55 किलो का है। एक बकरे की कीमत लगभग 3.50 लाख रुपए तक है। उनके बकरों को खरीदने के लिए एडवांस बुकिंग होने के साथ ही यूपी के बाहर से भी लोग आते हैं।
नई सड़क पर बकरों की बड़ी मंडी
कानपुर में बकरीद पर बकरों की सबसे बड़ी मंडी नई सड़क पर लगती है। खास बात यह है कि यहां पर 24 घंटे बकरीद के समय मंडी लगती है। कानपुर के साथ ही यूपी के अन्य जिलों और दूसरे राज्यों से भी खरीददार आते हैं। मंडी में 24 घंटे इतनी भीड़ रहती है कि पैर रखने की भी जगह नहीं बचती है।

खबरें और भी हैं...