पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मरीजों को मिलेगी राहत:हैलट अस्पताल में ओपीडी में अब मिलेगा नॉन कोविड मरीजों को इलाज, एक बार में 100 मरीज ही देखे जाएंगे

कानपुर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • प्रत्येक ओपीडी में 100 मरीज देखे जाएंगे

कोरोना की दूसरी लहर के थमने के बाद हैलट अस्पताल में शुक्रवार से OPD शुरू की जा रही है। यह फैसला गुरुवार शाम हुई बैठक में लिया गया। हैलट अस्पताल की OPD नियमित तौर पर शुक्रवार को शुरू हो रही है। प्रत्येक ओपीडी में 100 मरीज देखे जाएंगे। कोविड नियमों का पालन करते हुए मरीजों को देखने की व्यवस्था की गई है। पहले आओ और पहले पाओ स्कीम के तहत परचे बनेंगे। इसके अलावा प्री एप्पोइंटमेंट फोन पर भी लिया जा सकेगा।

इन विभागों की ओपीडी खुलेगी
शुक्रवार को जिन विभागों की ओपीडी शुरू हो रही है उनमें मेडिसिन, सर्जरी, आर्थोपेडिक सर्जरी, बाल रोग, गायनी, नेत्र रोग, स्किन रोग, आर्थोपेडिक सर्जरी और ईएनटी में इन सभी विभागों में सिर्फ 100-100 मरीज ही देखे जाएगे। न्यूरो मेडिसिन, न्यूरोसर्जरी, दंत रोग में 50 मरीज देखे जाएगे। प्रमुख अधीक्षक डॉ. ज्योति सक्सेना के मुताबिक परचा काउंटर पर भीड़ नहीं लगे। इसके लिए सुरक्षा गार्डों को लगाया गया है। काउंटर पर सोशल डिस्टेंस का पालन कराया जाएगा। इसी तरह जांच काउंटर पर भी सोशल डिस्टेंस मेंटेन रखा जाएगा।

पहले सोमवार से खुलनी थी ओपीडी
बुधवार देर शाम डीएम और मेडिकल कॉलेज प्राचार्य डॉ अरबी कमाल के साथ हुई बैठक में यह तय किया गया था की सोमवार से ओपीडी शुरू की जाएगी। लेकिन जब गुरुवार को एक बार फिर बैठक हुई तो उसमे नॉन-कोविड मरीजों बढ़ती सख्या को देखते हुए यह तय किया गया की शुक्रवार से ही ओपीडी शुरू की जाएगी। मेडिकल कॉलेज प्राचार्य ने बताया, ज्यादातर ओपीडी पहले जैसे ही खुलेगी लेकिन इस बार सिर्फ मरीजों की संख्या को हमने 100 कर दिया है। यह इसलिए किया गया है क्योंकि हर नॉन-कोविड मरीज के पास कोविड की नेगेटिव रिपोर्ट नहीं मिलेगी। हम लोगों ने फोन पर भी एप्पोइंटमेंट लेने की सुविधा शुरू की है। जिसके अंतर्गत मरीज को अपना नाम और आधार कार्ड नंबर फोन पर लिखवाना होगा।

रेमडेसिवीर इंजेक्शन और ओपीडी के लिए डीएम के साथ बैठक
गुरुवार शाम को हुई बैठक में भी रेमडेसिवीर इंजेक्शन मुर्दों को लगाने के नाम पर चर्चा हुई। आपको बता दें डीएम ने इस मामले की जांच करने के लिए एक अलग टीम बनाई है जो तीन दिन के अंदर अपनी रिपोर्ट सौपेगी, वहीं मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य ने भी एक अलग टीम बना कर इस मामले की जांच कर रहे है।

इन लोगों के खिलाफ हुई थी कार्यवाही
जांच में न्यूरो साइंस विभाग से बने कोविड अस्पताल में तैनात सिस्टर अंजुलिका मिश्रा और फार्मेसिस्ट नागेंद्र बाजपेयी को तत्काल निलंबित कर दिया गया था और स्टाफ के अन्य लोगों को नोटिस देकर पूरे मामले की जानकारी ली गयी थी।

खबरें और भी हैं...