जीरो टॉलरेंस अगेंस्ट रैगिंग:इस थीम पर एचबीटीयू और यूपीटीटीआई ने भी तैयारी की पूरी, बनाया एंटी रैगिंग सेल, रैगिंग में लिप्त छात्रों को किया जाएंगे निलंबित

कानपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
हरकोर्ट बटलर टेक्निकल यूनिवर� - Dainik Bhaskar
हरकोर्ट बटलर टेक्निकल यूनिवर�

कोरोना काल के बाद शहर के ज्यादातर इंस्टीट्यूट और कॉलेज शुरू हो चुके है। शहर के तकनीकी संस्थानों में भी अब ऑफलाइन क्लासेस शुरू हो चुकी हैं। जो बच्चे कोरोना के चलते अपने घर चले गए थे वह भी अब वापस कैम्पस में लौटने लगे है और साथ ही जो नए एडमिशन हुए है वह छात्र भी अब ऑफलाइन क्लासेस के लिए आने लगे है। इसी को देखते हुए एचबीटीयू और यूपीटीटीआई ने रैगिंग से निपटने के लिए कमर कर ली है। जीरो टॉलरेंस की नीति के तहत एंटी रैगिंग सेल का गठन दोनों ही संस्थानों में कर लिया गया है।

जीरो टॉलरेंस अगेंस्ट रैगिंग...
एचबीटीयू के वीसी शमशेर ने बताया, हम लोगों की रैगिंग के खिलाफ जीरो टॉलरेंस नीति है। इस बार अगर कोई भी छात्र इनमे लिप्त पाया गया तो उसे कॉलेज से निलंबित कर ब्लैक-लिस्ट कर दिया जाएगा। साथ ही उस छात्र के खिलाफ पुलिस एक्शन भी लिया जा सकता है। एचबीटीयू में सेकंड, थर्ड और फोर्थ ईयर के छात्रों का आना शुरू हो गए हैं। यह प्रक्रिया 26 अगस्त से शुरू हुई थी। सबसे बाद में सेकंड ईयर के छात्रों को बुलाया गया है।

इससे पहले भी कई मामले आये थे सामने...
आपको बता दें एचबीटीयू में पहले भी रैगिंग की घटनाएं होती रही हैं और इस पर छात्रों को दंडित भी किया जाता रहा है। एचबीटीयू कैंपस के अतिरिक्त गेट दो के ठीक बाहर नवाबगंज और निकट स्थित रैना मार्केट संवेदनशील माना जाता है। रैगिंग रोकने के लिए जूनियर छात्रों को सलाह के साथ सीनियरों से अपेक्षा की गई है कि वे दंड से बचने के लिए ऐसी किसी घटना में शामिल न हों।

जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज में हुई थी रैगिंग...
अभी हाल ही में जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज में चार बच्चों को रैगिंग के चलते कॉलेज प्रशासन ने निलंबित कर दिया गया था। मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ संजय काला ने बताया, हम लोगों की रैगिंग के खिलाफ जीरो टॉलरेंस रखते है। जितने छात्र भी रैगिंग में लिप्त पाए गए थे उन्हें तत्काल कॉलेज से जांच पूरी होने तक निलंबित कर दिया गया था। आने वाले समय भी हम ऐसा ही काम करेंगे।

यूपी-टीटीआई में भी की तैयारी पूरी...

यूपी-टीटीआई में 6 सितंबर से छात्रों के आने की शुरुआत होगी। निदेशक डॉ. गोविंदन नन्दन किल्ली के अनुसार 6 सितंबर से थर्ड, 10 सितंबर से फोर्थ और 14 सितंबर से सेकंड ईयर के छात्र आने लगेंगे। यह छात्र हॉस्टल के कारण पहले आने शुरू हो जाएंगे। बिना टीकाकरण वाले छात्रों को 72 घंटे पहले आरटीपीसीआर टेस्ट रिपोर्ट के साथ आना होगा। रैगिंग से बचाव के लिए यहां गूगल फॉर्म से शिकायत की सुविधा दी गई है।

खबरें और भी हैं...