कानपुर में राजू के घर पर चाहने वालों का जमावड़ा:अंतिम संस्कार के लिए परिवार दिल्ली रवाना; दोस्त बोले- कानपुर की धरोहर चली गई

कानपुर15 दिन पहले

कानपुर के मशहूर कॉमेडियन राजू श्रीवास्तव फाइटर थे। दिल्ली के एम्स में जिंदगी के लिए 42 दिन तक लड़े। दो बार कुछ पल के लिए होश में भी आए। तो लगा वह जल्द ठीक होकर लौट आएंगे। मगर, ऐसा नहीं हाे सका। बुधवार सुबह करीब 10 बजे राजू के निधन की सूचना आई, तो प्रशंसक अवाक रह गए। कानपुर में उनके चाहने वाले सीधे घर पहुंच गए।

ये तस्वीर राजू के घर के बाहर की है। उनके भाई काजू श्रीवास्तव को लोग ढांढस बंधा रहे।
ये तस्वीर राजू के घर के बाहर की है। उनके भाई काजू श्रीवास्तव को लोग ढांढस बंधा रहे।

काजू ने कहा- राजू आए नहीं, हम दिल्ली जा रहे हैं
राजू श्रीवास्तव के भाई काजू ने बताया कि उनका पार्थिव शरीर करीब 1 बजे एम्स से दिल्ली के दरशरथपुरी ले जाया जाएगा। उनका अंतिम संस्कार दिल्ली की द्वारका में किया जाएगा। उन्होंने बताया कि दशरथपुरी मेट्रो स्टेशन के पास हमारे भाई का घर है। दिल्ली में भाभी और बच्चों से बात हुई है। सभी परेशान हैं। हम वहां जा रहे हैं। इसके बाद काजू और परिवार के साथ दिल्ली के लिए रवाना हो गए।

  • राजू के निधन से दोस्त और प्रशंसक हुए गमगीन। पढ़िए उन्होंने क्या कहा?

अन्नू अवस्थी बोले- भगवान ने हमें 41 दिन का मौका दिया था

यह फोटो हास्य कलाकार अन्नू अवस्थी की है।
यह फोटो हास्य कलाकार अन्नू अवस्थी की है।

हास्य कलाकार अन्नू अवस्थी को जैसे ही राजू की मौत की खबर मिली, वह भावुक हो गए। उन्होंने कहा कि मैं उन्नाव में कविता सुना रहा था, तभी मुझे ये जानकारी मिली। मैं नि:शब्द हो गया। भगवान ने हमें 41 दिन का मौका दिया। तब भी हम उसे बचा नहीं पाए।

दोस्त ज्ञानेश बोले- वह सबकी मदद करते थे

ये तस्वीर राजू के दोस्त ज्ञानेश मिश्रा की है। उन्होंने दैनिक भास्कर से अपनी यादें साझा कीं।
ये तस्वीर राजू के दोस्त ज्ञानेश मिश्रा की है। उन्होंने दैनिक भास्कर से अपनी यादें साझा कीं।

राजू के दोस्त ज्ञानेश मिश्रा उनकी दरियादिली का किस्सा बताते हैं। वह कहते हैं, ''कोरोना की दूसरी लहर थी। दो बच्चों की मदद करनी थी। राजू ने बच्चों को मुंबई बुलाया। इलाज कराया। आर्थिक मदद दी। खाना और किताबें दीं। वह आखिरी बार 25 दिसंबर, 2021 को कानपुर आए थे। हमने बाइपास पर ही उनका केक काटा था। वहां गाने भी गाए गए। वह दोस्तों के दोस्त थे।''

'राजू तेरी यारी को खुदा जाना'

ये तस्वीर राजू के दोस्त मेहबूब की है। वह कहते हैं कि कानपुर की धरोहर चली गई।
ये तस्वीर राजू के दोस्त मेहबूब की है। वह कहते हैं कि कानपुर की धरोहर चली गई।

उनके दोस्त मेहबूब कहते हैं, ''राजू, हम और ज्ञानेश साथ में गाना गाते थे। दुखी होकर उन्होंने लाइन गाई 'मेरी जिंदगी संवारी, मुझको गले लगाकर, राजू तेरी यारी को, हमने तो खुदा जाना'। आज कानपुर की धरोहर चली गई। धरती पर अगर देवता देखना है, तो राजू को देख लो। हमारी आंखों में आंसू देकर चले गए।''

ये तस्वीर राजू श्रीवास्तव के घर की है। लोग परिजनों से मिलने के लिए पहुंचने लगे हैं।
ये तस्वीर राजू श्रीवास्तव के घर की है। लोग परिजनों से मिलने के लिए पहुंचने लगे हैं।

सदन में राजू के लिए 2 मिनट का मौन
बुधवार को विधानसभा में अध्यक्ष ने राजू श्रीवास्तव को श्रद्धांजलि दी। सतीश महाना ने सदन में कहा, ''राजू श्रीवास्तव हमारे बीच नहीं रहे हैं। वह कॉमेडी किंग थे। कानपुर से मुंबई तक उन्होंने अपनी मेहनत के बदौलत मुकाम हासिल किया। सरल स्वभाव के राजू को सभी पसंद करते थे।'' इसके बाद सदन में 2 मिनट का मौन रखा गया।

  • बड़ी हस्तियों ने जताया शोक
  • कानपुर से मुंबई तक सफर

घर की दीवार फांदकर भागे थे मुंबई
राजू श्रीवास्तव का असली नाम सत्य प्रकाश श्रीवास्तव है। उनका जन्म 25 दिसंबर 1963 को कानपुर के नयापुरवा में हुआ था। उन्होंने 1993 में हास्य की दुनिया में कदम रखा। 1980 में वो घर छोड़कर कानपुर से मुंबई गए थे। उनके पड़ोसी बताते हैं कि उन्हें भागते हुए देखकर वो चिल्लाए, तो उन्होंने जवाब दिया कि अब नाम कमाकर ही लौटूंगा।

मुंबई में रहने के लिए ऑटो चलाना पड़ा था
मुंबई में कुछ दिन गुजर बसर के बाद जब पैसे खत्म हो गए तो उन्होंने ऑटो चलाना शुरू किया। उनके दोस्त श्याम शुक्ला ने बताया कि ऑटो में ही उन्हें पहले स्टैंडअप कॉमेडी शो का मौका मिला था। इसके लिए उन्हें 50 रुपए मिले थे। उन्हें ही देश में स्टैंडअप कॉमेडी की शुरुआत करने वाला माना जाता है।

राजू श्रीवास्तव को हार्ट अटैक आने के बाद ये तस्वीर सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुई थी। फैंस ने उनके स्वास्थ्य को लेकर चिंता जाहिर की थी।
राजू श्रीवास्तव को हार्ट अटैक आने के बाद ये तस्वीर सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुई थी। फैंस ने उनके स्वास्थ्य को लेकर चिंता जाहिर की थी।
  • अब परिवार को जानिए

पिता भी थे हास्य के कवि
राजू के पिता रमेश चंद्र श्रीवास्तव उर्फ बलई काका हास्य के बड़े कवि थे। वे उनके साथ कार्यक्रमों में भी जाया करते थे। उन्होंने बचपन में ही कॉमेडियन बनने का फैसला कर लिया था। कानपुर में उनके पैतृक आवास को काका कोठी के नाम से जाना जाता है। परिवार के लोग यहीं रहते हैं। उनकी मां का नाम सरस्वती श्रीवास्तव था। राजू के माता-पिता का निधन हो चुका है।

राजू श्रीवास्तव सात भाई बहनों में 4 नंबर पर थे। 17 मई, 1993 को उनकी शादी इटावा की रहने वाली शिखा श्रीवास्तव के साथ हुई थी। उनके एक बेटा आयुष्मान श्रीवास्तव (स्टूडेंट और सितार वादक) और एक बेटी अंतरा श्रीवास्तव (असिस्टेंट डायरेक्टर) हैं।

  • राजू का कॅरियर

डीडी नेशनल के शो से हुए मशहूर
फिल्मों में आने से पहले राजू श्रीवास्तव डीडी नेशनल के मशहूर शो टी टाइम मनोरंजन का हिस्सा बने। यहां से उन्होंने पीछे मुड़कर कभी नहीं देखा। 2005 में शुरू हुए द ग्रेट इंडियन लाफ्टर शो में पहली बार राजू ने गजोधर कैरेक्टर पर कॉमेडी की। इसे लोगों ने खूब पसंद किया। गजोधर, संकठा, बिरजू जैसे कैरेक्टर के जरिए राजू ने लोगों को खूब हंसाया।

डीडी नेशनल के शो टी टाइम मनोरंजन में परफॉर्मेंस के दौरान नीले रंग की शर्ट में बैठे राजू।
डीडी नेशनल के शो टी टाइम मनोरंजन में परफॉर्मेंस के दौरान नीले रंग की शर्ट में बैठे राजू।

तेजाब फिल्म से हुई बॉलीवुड में एंट्री
राजू ने फिल्म तेजाब से बॉलीवुड में अपने अभिनय करियर की शुरुआत की, जिसे 1988 में रिलीज किया गया था। इसके बाद उन्होंने कई फिल्मों जैसे मैंने प्यार किया, बाजीगर, आमदनी अठन्नी खर्चा रुपया, बिग ब्रदर, बॉम्बे टू गोवा आदि में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उन्होंने कुल 16 फिल्मों और 14 टीवी शो में काम किया।

कॉमेडी से कमाया बड़ा नाम
राजू ने द ग्रेट इंडियन लॉफ्टर चैलेंज, एक स्टैंड-अप कॉमेडी शो से सबसे बड़ी सफलता हासिल की। इसमें वह दूसरे रनर-अप थे। उन्होंने अन्य टीवी धारावाहिक जैसे शक्तिमान, बिग बॉस, कॉमेडी का महा मुकाबला, कॉमेडी सर्कस, कॉमेडी नाइट्स विद कपिल समेत कई शो में भी काम किया है।

टी टाइम मनोरंजन शो में परफॉर्मेंस देते हुए राजू श्रीवास्तव।
टी टाइम मनोरंजन शो में परफॉर्मेंस देते हुए राजू श्रीवास्तव।

राजू ने इन फिल्मों में किया काम
तेज़ाब, मैंने प्यार किया, बाज़ीगर, मिस्टर आजाद, अभय, आमदनी अठन्नी खर्चा रुपैया, वाह तेरा क्या कहना, मैं प्रेम की देवानी हूं, विद्यार्थी: द पावर ऑफ़ स्टूडेंट्स, जहां जाएंगे हमें पाएंगे, बिग ब्रदर, बॉम्बे टू गोवा, भावनाओं को समझो, बारूद, टॉयलेट एक प्रेम कथा और फिरंगी।

इन टीवी शो में किया काम
टी टाइम मनोरंजन, द ग्रेट इंडियन लाफ्टर चैलेंज, बिग बॉस, शक्तिमान, मस्ती टीवी, राजू हाज़िर हो, कॉमेडी का महा मुकाबला, कॉमेडी सर्कस, देख भाई देख, लाफ इंडिया लाफ, नाच बलिये, कॉमेडी नाइट्स विथ कपिल, अदालत, गैंग्स ऑफ हासीपुर।

फिल्मों में आने से पहले राजू श्रीवास्तव डीडी नेशनल के मशहूर शो टी टाइम मनोरंजन का हिस्सा बने।
फिल्मों में आने से पहले राजू श्रीवास्तव डीडी नेशनल के मशहूर शो टी टाइम मनोरंजन का हिस्सा बने।
  • अब राजू का पॉलिटिकल कॅरियर

राजनीति में भी आजमाया हाथ
राजू ने अभिनय के साथ राजनीति में भी खूब नाम कमाया। मौजूदा समय में भाजपा सरकार में राज्य मंत्री का दर्जा है। वह उ.प्र. फिल्म विकास परिषद के अध्यक्ष हैं। यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने 2014 के लोकसभा चुनाव में कानपुर लोकसभा सीट से उन्हें मैदान में उतारा था।

वापस कर दिया था टिकट
राजू ने 11 मार्च 2014 को टिकट वापस कर दिया और कहा कि उन्हें पार्टी की स्थानीय इकाइयों से पर्याप्त समर्थन नहीं मिला है। जिसके बाद में वह 19 मार्च 2014 को भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए। वहीं राजू श्रीवास्तव ने मच्छर चालीसा तैयार की थी, जिसके चलते उन्हें हिंदू कट्टर पंथियों द्वारा कड़ी आलोचनाओं का सामना करना पड़ा था।

राजू श्रीवास्तव ने कुल 16 फिल्मों और 14 टीवी शो में काम किया था।
राजू श्रीवास्तव ने कुल 16 फिल्मों और 14 टीवी शो में काम किया था।
  • हार्ट अटैक के बाद PMO लेता रहा अपडेट

10 अगस्त : दिल्ली में राजू को हार्ट अटैक आया

राजू के पीआरओ गर्वित नारंग ने बताया,"राजू श्रीवास्तव दिल्ली में गृह मंत्री अमित शाह और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्‌डा से मुलाकात करने के लिए आए थे। उनकी मुलाकात का समय तय था। वो होटल में रुके थे। कमरे में कुछ देर रुकने के बाद बुधवार सुबह वे जिम करने चले गए। वहीं पर हार्ट अटैक आया। उसी दिन शाम को डॉक्टरों ने उनकी एंजियोप्लास्टी की, लेकिन उनका ब्रेन रिस्पांस नहीं कर रहा था। पल्स भी 60-65 के बीच था।" राजू का हाल जानने के लिए कानपुर से पूर्व विधायक सतीश निगम भी एम्स पहुंचे थे। उन्नाव सदर से विधायक पंकज गुप्ता ने फोन पर उनका हालचाल लिया। PMO और मुख्यमंत्री ऑफिस से लगातार उनका अपडेट लिया जा रहा था।

13 अगस्त : बिग बी ने राजू के लिए भेजा संदेश
अमिताभ बच्चन यानी बिग बी ने राजू श्रीवास्तव को खास ऑडियो संदेश भेजा था। इसमें अमिताभ कह रहे हैं- राजू उठो, बस बहुत हुआ, अभी बहुत काम करना है। अब उठ जाओ... हम सबको हंसना सिखाते रहा।" राजू को ये रिकॉर्डिंग सुनाई गई थी।

17 अगस्त : गजोधर-संकठा के किस्से सुनाए गए थे
राजू के भाई और कॉमेडियन दीपू श्रीवास्तव ने बताया, "भइया की रिकवरी स्लो थी। इसलिए भइया को परिवार के रिकॉर्डेड ऑडियो मैसेज सुनाए गए। उनको गजोधर और संकठा के किस्से भी, उनकी ही आवाज में सुनाए गए थे।

ये तस्वीर लाफ्टर चैलेंज शो की है। राजू श्रीवास्तव इस शो के जरिए काफी मशहूर हुए थे।
ये तस्वीर लाफ्टर चैलेंज शो की है। राजू श्रीवास्तव इस शो के जरिए काफी मशहूर हुए थे।

10 साल में तीन बार एंजियोप्लास्टी कराया
राजू श्रीवास्तव 10 साल में तीन बार एंजियोप्लास्टी करा चुके हैं। उन्होंने पहली बार 10 साल पहले मुंबई के कोकिलाबेन धीरूभाई अंबानी हॉस्पिटल में और 7 साल पहले मुंबई के लीलावती हॉस्पिटल में एंजियोप्लास्टी कराई थी। इसके बाद बुधवार को तीसरी बार डॉक्टरों ने राजू श्रीवास्तव की एंजियोप्लास्टी की।

  • तस्वीरों में जब सेहत के लिए मांगी गईं दुआएं
राजू की सेहत में सुधार के लिए मंदिरों में हवन-पूजन किया गया। लोगों ने ऑडियो-वीडियो मैसेज भेजे। इनमें फिल्मी हस्तियां भी शामिल थीं।
राजू की सेहत में सुधार के लिए मंदिरों में हवन-पूजन किया गया। लोगों ने ऑडियो-वीडियो मैसेज भेजे। इनमें फिल्मी हस्तियां भी शामिल थीं।
ये तस्वीर कानपुर में राजू के छोटे भाई काजू की पत्नी श्रेया और भतीजी तनु की संकट मोचन मंदिर में पौधा लगाकर राजू के स्वस्थ होने की कामना करने के दौरान की है।
ये तस्वीर कानपुर में राजू के छोटे भाई काजू की पत्नी श्रेया और भतीजी तनु की संकट मोचन मंदिर में पौधा लगाकर राजू के स्वस्थ होने की कामना करने के दौरान की है।

राजू श्रीवास्तव के घर से दैनिक भास्कर रिपोर्ट रवि पाल हालात बता रहे हैं...