• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Kanpur
  • In Front Of The Innocent, The Father Had Again Brutally Murdered The Mother, Leave The Mother And Father... When She Screamed, The Cloth Was Thrown In Her Mouth

कानपुर ट्रिपल मर्डर केस:मासूम के सामने पिता फिर मां की चापड़ से की थी नृशंस हत्या, मम्मी-पापा को छोड़ दो...कहकर चीखा तो मुंह में ठूस दिया था कपड़ा

कानपुर7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
तिहरे हत्याकांड को अंजाम देने वाला हिमांशु चौहान और उसका साथी गौरव शुक्ला उर्फ शिवम को पुलिस ने किया गिरफ्तार। - Dainik Bhaskar
तिहरे हत्याकांड को अंजाम देने वाला हिमांशु चौहान और उसका साथी गौरव शुक्ला उर्फ शिवम को पुलिस ने किया गिरफ्तार।

फजलगंज उंचवा मोहल्ले के ट्रिपल मर्डर केस में दिल दहला देने वाले सच्चाई सामने आई है। परचून दुकानदार के घर पर ठहरे दोस्तों ने ही लूटपाट के इरादे से दंपति और बच्चे के हत्याकांड को अंजाम दिया था। 12 साल के मासूम की आंखों के सामने पहले उसके पिता फिर मां की चापड़ से हत्या की गई। वह चीखा तो उसके मुंह में कपड़ा ठूंस दिया गया। इसके बाद पहचान खुलने के डर से उसकी भी हत्या कर दी और दोनों भाग निकले थे। पुलिस ने 48 घंटे के भीतर हत्याकांड का खुलासा करते हुए दोनों हत्यारों को दबोच लिया।

मृतक प्रेम किशोर, उसकी पत्नी गीता और बच्चा नैतिक की फाइल फोटो
मृतक प्रेम किशोर, उसकी पत्नी गीता और बच्चा नैतिक की फाइल फोटो

माता-पिता की जान बचाने को गिड़गिड़ाता रहा मासूम, हत्यारे ताबड़तोड़ करते रहे वार

पुलिस कमिश्नर असीम अरुण ने सोमवार शाम को तिहरे हत्याकांड का खुलासा कर दिया। उन्होंने बताया कि फजलगंज में 1 अक्तूबर की देर रात परचून की दुकान चलाने वाले प्रेम किशोर उसकी पत्नी गीता और बच्चे नैतिक की हत्या प्रेम किशोर के दोस्तों ने ही की थी। हत्याकांड के आरोपी बकेवर इटावा निवासी गौरव और उसके साथी महेवा इटावा में रहने वाले हिमांशू को गिरफ्तार कर लिया। गौरव ने पूछताछ में बताया कि मृतक प्रेम किशोर (45) के साथ वह गुड़गांव की एक फैक्ट्री में कई साल पहले नौकरी करता था। इसके चलते उसका प्रेम किशोर के घर आना-जाना था। लॉकडाउन के बाद से गौरव की नौकरी छूट गई और वह तंगी से जूझ रहा था। इसके चलते वह अपने दोस्त हिमांशु के साथ मंधना में किराए का कमरा लेकर रहता था। नौकरी की तलाश में दिल्ली जाने से पहले दोनों प्रेम किशोर के घर आए थे। बताया कि यहां से स्टेशन नजदीक पड़ता है और काफी दिनों से मिले भी नहीं थे। ट्रेन छूटने का बहाना बनाकर दोनों घर में रुक गए और देर रात लूटपाट के इरादे से पहले प्रेम किशोर फिर उसकी पत्नी गीता की चापड़ से नृशंस हत्या कर दी थी। बच्चा हत्याकांड देख सहम उठा और चीखा तो उसके मुंह में कपड़ा ठूस दिया। इसके बाद पहचान खुलने के डर से बच्चे को भी मार डाला। घर में लूट-पाट करने के बाद दोनों आरोपी फरार हो गए थे।
यह था पूरा मामला...
फजलगंज उंचवा निवासी प्रेम किशोर घर पर ही परचून की दुकान चलाते थे। शनिवार सुबह दूध वाला आया तो काफी देर तक आवाज दी लेकिन भीतर से कोई जवाब नहीं मिला। मामला संदिग्ध लगने पर पड़ोस में रहने वाले भाई राज किशोर मौके पर आए और ताला तोड़कर भीतर गए तो दंग रह गए। अंदर प्रेम किशोर और उनकी पत्नी गीता (40) के साथ ही 12 साल का बच्चा नैतिक का शव पड़ा था। तीनों के हाथ-पैर रस्सी से बंधे थे। भाई ने इसकी सूचना फजलगंज थाने को दे दी। सूचना पर पुलिस व फोरेंसिक टीम मौके पर जांच करने पहुंची थी।

बच्चे के सामने पहले पिता फिर मां को मार डाला
रात को सब खाना खाकर परिवार समेत सो गए थे। प्रेम किशोर व बेटा नैतिक साथ में और गौरव व हिमांशु वहीं पास में सो गये। रात को गौरव व हिमांशु ने प्रेम किशोर के पैर चारपाई से बांध दिये और राड से सिर पर हमला करने के बाद गला रेत कर मार डाला। नैतिक जाग गया और मां गीता के पास चीखते हुए भागा। जब गीता चीख सुनकर पहुंची तो उसके सिर पर भी राड से हमला कर दिया और गर्दन रेतकर हत्या कर दी। इसके बाद नैतिक को भी राड से मारा। तीनों के हाथ पैर रस्सी से बांध दिये। इसके बाद तीनों के सिर पॉलीथिन से कस दिये ताकि दम घुट के मर जाए। इसके बाद घर से करीब 5 हजार रुपए और बाइक लेकर भाग निकले।

ऐसे खुला मामला
जब पुलिस और क्राइम ब्रांच ने मामले की जांच शुरू की तो पड़ोस में रहने वाले एक व्यक्ति ने गौरव के आने के बारे में जानकारी दी। जिसने इन्हें घर आते हुए देखा था, पुलिस ने अपना नेटवर्क दौड़ाया और तिहरे हत्याकांड की परत दर परत खुलती हुई चली गई। पुलिस ने गौरव को झींझक और हिमांशू को नोएडा से गिरफ्तार किया है।

हाथ, कपड़ों और जूतों से मिले खून के निशान

वारदात के दौरान गौरव ने प्रेम किशोर का गला रेता था। इससे उसके हाथों में चाकू के कट भी लग गये थे। इसके अलावा पुलिस ने दोनों अभियुक्तों को बेंजाडीन टेस्ट करावाया जिससे इनके कपड़ों और जूतों में खून के निशान लगे हुए मिले। दोनों ने खून के धब्बे साफ करने का खूब प्रयास किया लेकिन वह पकड़ गए। पुलिस की पूछताछ में दोनों ने अपना अपराध भी कबूल कर लिया है।
एक सप्ताह के लिए रिमांड पर लेगी पुलिस
अभियुक्तों को पुलिस कस्टडी रिमांड पर लेकर उनसे पूछताछ की जाएगी। अभियुक्तों से लूटी गई रकम, लूटी गई मोटरसाइकिल की भी बरामदगी कराई जाएगी। इस हत्याकांड के पीछे कोई और साजिश तो नहीं है इसकी भी पड़ताल की जाएगी। इसके साथ ही फोरेंसिक टेस्ट से जो साक्ष्य मिले हैं इसका भी मिलान कराया जाएगा।

टीम को मिलेगा इनाम
48 घंटे के अंदर तिहरे हत्याकांड का खुलासा करने वाली टीम को पुलिस आयुक्त द्वारा प्रशस्ति-पत्र देकर सम्मानित करेंगे। इसमें अपर पुलिस आयुक्त ला एंड आडर, डीसीपी क्राइम सलमान ताज पाटिल, डीसीपी साउथ रवीना त्यागी, डीसीपी मुख्यालय संजीव त्यागी, एसीपी नजीराबाद, एसआई मो.आसिफ, एसआई सुनीत शर्मा, एसआई विजयदर्शन शर्मा का नाम शामिल है।

खबरें और भी हैं...