पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

इटावा पुलिस ने कसी कमर:मॉक ड्रिल में पुलिस ने दंगे से निपटने का डेमो दिया, सीखे आत्मरक्षा के गुर

इटावा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पिछले दिनों उन्नाव में हुए बवाल में 18 पुलिसकर्मी घायल हो गए थे। जिसकी वजह से इटावा में भी आज बलवा/दंगों से निपटने के लिए ड्रिल किया गया। - Dainik Bhaskar
पिछले दिनों उन्नाव में हुए बवाल में 18 पुलिसकर्मी घायल हो गए थे। जिसकी वजह से इटावा में भी आज बलवा/दंगों से निपटने के लिए ड्रिल किया गया।

हर तरह की घटनाओं से निपटने के लिए इटावा पुलिस ने मॉक ड्रिल की। मॉक ड्रिल में पुलिस ने हेलमेट पहन सभी उपकरणों के साथ डेमो दिया। साथ ही दंगे-बलवे में फंसने की स्थिति में सुरक्षित रहकर हर मुश्किल का सामना करने का अभ्यास किया।

एसएसपी बृजेश कुमार सिंह के निर्देश पर जिले के रिजर्व पुलिस लाइन में बलवा/दंगे की मॉक ड्रिल की गई। ड्रिल में जिले के सभी थानों की पुलिस ने हिस्सा लिया। एसएसपी ने रिजर्व पुलिस लाइन परेड ग्राउंड में बलवा/दंगा नियंत्रण मॉक ड्रिल का निरीक्षण किया। साथ ही उन्होंने पुलिस कर्मियों को हर परिस्थिति से निपटने के साथ दंगाईयों की भीड़ से बचाव के गुर सिखाए।

बॉडी प्रोटेक्टर पहन टियर गैस गन लेकर ड्रिल की

ड्रिल में पुलिस कर्मियों ने सभी उपकरणों के साथ मैदान में उतरे। पुलिस कर्मी ने बॉडी प्रोटेक्टर पहने के साथ हाथों में टियर गैस गन लेकर दंगाईयों से मोर्चा संभाला। इस बीच कंसील्ड, रबर बुलेट, फायर ब्रिगेड सहित अन्य उपकरणों के साथ अभ्यास किया।

पुलिस लाइन में मॉक ड्रिल
पुलिस लाइन में मॉक ड्रिल

...ताकि एक्टिव रहे पुलिस

एसएसपी बृजेश कुमार सिंह ने बताया कि जिले की पुलिस को एक्टिव रखने के लिए मॉक ड्रिल की गई। जिसमें सभी थाने की पुलिस ने दंगे की ड्रिल कर सभी जरुरी उपकरणों के साथ अभ्यास किया। इस बीच पुलिस कर्मियों को दंगाईयों से मोर्चा संभालने के साथ खुद की सुरक्षा करने के गुर सिखाए गए।

घायल हुए थे 18 पुलिसकर्मी

पिछले दिनों उन्नाव में हुए बवाल में 18 पुलिसकर्मी घायल हो गए थे। जिले में दो युवकों की मौत के बाद उपद्रव बढ़ गया था। बढ़ते उपद्रव को रोकने के लिए पुलिस बिना किसी सुरक्षा संसाधनों के खाली हाथ पहुंच गए थे। आलम यह था कि पुलिस को अपनी जान बचाने के लिए हेलमेट की जगह स्टूल से सहारा लेना पड़ा था। पुलिस हाथों में क्रेट व लकड़ी की टोकरी से अपना बचाव करती नजर आई थी। बाद में पुलिस को वहां से भागकर अपनी जान बचानी पड़ी थी। तीन घंटे तक बवाल, पथराव व तोड़फोड़ हुआ था।