पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कानपुर में 6 और का धर्म परिवर्तन:ATS की पूछताछ में बड़ा खुलासा, मूक-बधिर आदित्य के अलावा 6 और लोगों ने अपनाया था मुस्लिम धर्म, बोले- मर्जी से कराया धर्मांतरण

कानपुर12 दिन पहले
धर्मांतरण के गिरफ्तार आरोपी उमर गौतम और जहांगीर आलम ने ही कराया था धर्मांतरण।- फाइल

कानपुर में धर्मांतरण के मामले में एक बड़ा खुलासा हुआ है। काकादेव निवासी मूक-बधिर आदित्य गुप्ता को अब्दुल बनाने वाले गिरफ्तार उमर गौतम और जहांगीर आलम ने शहर में ही 6 और लोगों का धर्म परिवर्तन करवाया था। क्राइम ब्रांच ने जांच पूरी करने के बाद ATS को यह जानकारी दी है।

मगर ATS के अफसरों ने इन सभी से पूछताछ की तो सभी ने जबरन धर्मांतरण से इंकार किया है। बताया कि अपनी मर्जी से धर्म बदला है। किसी भी तरह का लालच नहीं दिया गया है। हिंदू से मुस्लिम बने यह सभी लोग मुस्लिम धर्म के प्रचार-प्रसार में लगे हैं।

मेरा नाम सार्वजनिक नहीं किया जाए, मुझे कोई कार्रवाई नहीं चाहिए
ATS ने धर्मांतरण के गिरोह का खुलासा कर इस्लामिक दावा सेंटर के डॉ. उमर गौतम व जहांगीर को गिरफ्तार कर जेल भेजा था। इसके बाद कानपुर के मूक-बधिर आदित्य से अब्दुल का नाम सामने आया। कानपुर से धर्मांतरण गिरोह के तार जुड़े होने के बाद क्राइम ब्रांच और ATS ने जांच शुरू की। जांच के बाद ATS ने कानपुर पुलिस को एक सूची भेजी थी। इसमें 8 लोगों के नाम शामिल थे। ATS को इनपुट मिला था कि इन सभी लोगों का जबरन व लालच देकर धर्म परिवर्तन कराया गया है।

एटीएस की सूची का क्राइम ब्रांच ने सत्यापन किया तो आदित्य समेत 7 के धर्मांतरण कराने की पुष्टि हुई। जबकि एक का कुछ पता नहीं चला। पूछताछ के दौरान हिंदू से मुस्लिम बने 6 लोगों ने बयानों में कहा कि उनके नाम गोपनीय रखे जाएं। किसी को भी नाम व पता न बताया जाए। मामले में उनको किसी तरह की कार्रवाई नहीं चाहिए। परिजनों का कहना है कि जो होना था वो हो चुका। अब वह पूरे परिवार के साथ रह रहे हैं। उनको किसी तरह की दिक्कत नहीं है। धर्मांतरण किसी दबाव में नहीं किया।

उमर और उसके गिरोह ने ही कराया धर्मांतरण
पूछताछ के दौरान इन सभी 7 लोगों से पूछताछ में सामने आया कि यह सभी सीधे या फिर किसी के जरिए धर्मांतरण कराने वाले मोहम्मद उमर गौतम से जुड़े हुए थे। उसी के संपर्क में आने के बाद इन सभी ने अपना धर्मांतरण कराया था। मगर सभी ने इस्लाम से प्रभावित होकर धर्मांतरण की बात कही है। यह सभी अब शहर में धर्मातरण के लिए प्रचार-प्रसार करने में लगे थे।

ATS लखनऊ की टीमों ने भी की पूछताछ
धर्म परिवर्तन कराने वाले इन सभी से सिर्फ कानपुर पुलिस ने ही नहीं ATS लखनऊ की टीम ने भी एक-एक व्यक्ति का बयान दर्ज किया। यह जानने का प्रयास किया कि उन्हें जबरन या कोई लालच देकर धर्मांतरण तो नहीं कराया गया। कड़ी पूछताछ के बाद भी किसी ने जबरन धर्मांतरण की बात नहीं कही। इसके साथ ही किसी भी तरह की कार्रवाई से इंकार कर दिया है। इसके चलते एक भी मामले में FIR नहीं हुई है।

खबरें और भी हैं...