• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Kanpur
  • In The Public Meeting Of CM, The Responsibility Of Transporting 16,400 Beneficiaries Of Various Schemes To The Public Meeting Was Entrusted To The Officials, The Municipal Corporation Has To Mobilize 4500 Beneficiaries. BJP, CM In Kanpur, Yogi Adityanath, Jansabha, DAV Ground, Kanpur Nagar Nigam, KDA, PM Awas, Kanpur

कानपुर...योगी की रैली में भीड़ जुटाने का जिम्मा अफसरों पर:30 सितंबर को है सीएम की सभा, सरकारी योजनाओं का लाभ लेने वाले हजारों लोगों को घर से रैली तक पहुंचाएंगे अधिकारी

कानपुर2 महीने पहले
सीएम योगी आदित्यनाथ (फाइल फोटो)

कानपुर के डीएवी ग्राउंड में 30 सितंबर को सीएम योगी की जनसभा है। ग्राउंड में करीब 22 हजार लोगों के बैठने की क्षमता है। ग्राउंड को पूरा भरने के लिए इस बार अधिकारियों को भी जिम्मेदारी थमा दी गई है। शहर के 12 बड़े विभागों को 16,400 लाभार्थियों को ग्राउंड तक लाने और घर तक छोड़ने की जिम्मेदारी सौंपी गई है। अब अधिकारी इस फेर में फंस गए हैं कि विभागीय तैयारियां पूरी करें या भीड़ जुटाने की जिम्मेदारी संभालें।

लाभार्थियों के नाम पर जुटाएंगे भीड़
मंच पर विभिन्न योजनाओं के 5-5 लाभार्थियों को सीएम मंच से सम्मानित करेंगे। लेकिन, ये पहली बार है कि जनसभा में इतनी बड़ी संख्या में लाभार्थियों को जुटाने के लिए कहा गया है। सबसे ज्यादा भीड़ नगर निगम काे जुटानी है। दरअसल, पीएम स्वनिधि योजना के तहत कानपुर में देश में सबसे अधिक 60 हजार से अधिक लाभार्थियों को इस योजन का लाभ मिला है। ऐसे में स्ट्रीट वेंडर और पीएमएवाई के 4500 लाभार्थी नगर निगम लेकर पहुंचेगा।

विभागों को दिए गए लाभार्थियों को लाने के टारगेट।
विभागों को दिए गए लाभार्थियों को लाने के टारगेट।

लाने और छोड़ने की भी जिम्मेदारी
नगर आयुक्त शिव शरणप्पा जीएन ने लाभार्थियों को जनसभा तक लाने और छोड़ने की जिम्मेदारी अपर नगर आयुक्त भानु प्रताप सिंह को सौंपी है। नगर निगम ने जोनल अधिकारियों को बसों से लाभार्थियों को लाने और छोड़ने के लिए कहा है। सभी खर्च नगर निगम उठाएगा। वहीं, ग्रामीण क्षेत्रों में अधिकारी प्रधानों से संपर्क कर लाभार्थियों की भीड़ जुटाने के लिए कह रहे हैं।

लाभार्थी दिखाकर एक तीर से तीन निशाने
लाभार्थियों की भीड़ आने से भाजपा एक तीर से तीन निशाने लगाना चाहती है। लाभार्थियों का वोट अपने पक्ष में हो जाएगा, भीड़ भी दिख जाएगी और सरकार लाभार्थियों की भीड़ दिखाकर सुशासन का चेहरा भी लोगों के सामने रखना चाहती है। वहीं, अधिकारी देर रात तक प्रधानों समेत अन्य अधिकारियों को लिस्ट थमाकर भीड़ जुटाने का प्रयास कर रहे हैं। हालांकि, एक दिन में भीड़ जुटाना अधिकारियों के सामने बड़ा चैलेंज है।

नगर निगम को जुटाने हैं सबसे अधिक लाभार्थीं।
नगर निगम को जुटाने हैं सबसे अधिक लाभार्थीं।

भीड़ दिखाने की होड़
इस पूरे मामले में अधिकारियों ने पूरी तरह चुप्पी साध ली है। वहीं, भाजपा ने भी भीड़ जुटाने के लिए तैयारियां शुरू कर दी हैं। बूथ स्तर से लेकर विधानसभा स्तर तक भीड़ लाने के लिए लोगों को जिम्मेदारी सौंपी जा रही है। ये तय माना जा रहा है कि सीएम के आने के बाद कानपुर में सियासत का पारा तेजी से चढ़ जाएगा।

इन विभागों को जुटानी है लाभार्थियों की भीड़
विभाग- योजना- कुल लाभार्थी

  • नगर निगम व डूडा-स्ट्रीट वेंडर, पीएमएवाई- 4500
  • केडीए- शहरी आवास- 500
  • जिला पंचायत अधिकारी- स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण- 2000
  • उप निदेशक कृषि- किसान सम्मान निधि- 1000
  • जिला कार्यक्रम अधिकारी- अन्नप्राशन- 500
  • उपायुक्त स्वत: रोजगार- राष्ट्रीय ग्रामीण अजीविका मिशन- 2000
  • परियोजना निदेशक डीआरडीए- पीएम आवास ग्रामीण- 1500
  • सहायक श्रमायुक्त- कन्या विवाह, सहायता योजना, मातृ शिशु एवं बालिका मदद योजना- 1000
  • जिला पूर्ति अधिकारी- उज्जवला योजना- 2000
  • जिला समाज कल्याण अधिकारी- पारिवारिक लाभ व शादी अनुदान योजना- 1000
  • जीएम, डीआईसी- 200
  • मत्स्य विभाग- 200
खबरें और भी हैं...