बायो बबल तोड़ द्रविड़-रहाणे पहुंचे ग्रीन पार्क:कानपुर टेस्ट की पिच देख क्यूरेटर से की बात; अभ्यास पिचों से दिखे नाखुश, सुधारने को कहा

कानपुर12 दिन पहले

टीम इंडिया के कप्तान अजिंक्य रहाणे और कोच राहुल द्रविड़ सोमवार को कानपुर में बायो बबल का घेरा तोड़कर ग्रीन पार्क स्टेडियम पहुंच गए। दोनों शाम करीब 4.30 बजे वहां पहुंचे। उन्होंने मैदान और पिच का बारीकी से निरीक्षण किया।

क्यूरेटर एल. प्रशांत राव से मुलाकात कर विकेट के नेचर के बारे में भी बात की। वह नए ड्रेसिंग रूम में करीब 15 मिनट तक रुके। कोच ने अभ्यास पिचों का निरीक्षण कर उसमें सुधार करने को भी कहा। वह अभ्यास पिचों के स्तर से थोड़ा नाखुश थे। भारतीय टीम मंगलवार दोपहर 2 बजे से प्रैक्टिस करेगी।

नहीं माने BCCI के निर्देश
BCCI के सख्त निर्देश थे कि कोई भी खिलाड़ी बायो बबल का घेरा तोड़ नहीं सकता, लेकिन कप्तान अजिंक्य रहाणे और कोच राहुल द्रविड़ ने उन निर्देशों को नजरअंदाज कर दिया। इससे पहले IPL के दौरान भी KKR (कोलकाता नाइट राइडर्स) के कुछ खिलाड़ियों ने बायो बबल का घेरा तोड़ा था। इसके बाद उस टीम के पांच खिलाड़ी कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे। BCCI ने उन खिलाड़ियों पर जुर्माना भी लगाया था।

एयरपोर्ट से होटल और उसके बाद पहुंचे ग्रीन पार्क
कप्तान अजिंक्य रहाणे तो कानपुर में पहले से आइसोलेट थे, लेकिन कोच राहुल द्रविड़ सोमवार को कानपुर पहुंचे। वह होटल से अजिंक्य रहाणे के साथ सीधे ग्रीन पार्क मैदान पहुंच गए। जहां उन्होंने पिच का निरीक्षण किया।