• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Kanpur
  • JE Posted In Zone 6 Put Pressure On 16 Thousand Rupees To Make A Bill For Development Work, Citing Notice To The Relative Of The Minister Of State For Jail, Kanpur Nagar Nigam, JE, Kanpur Nagar Ayukat, Nagar Nigam Zone 6, Kanpur

कानपुर नगर निगम में रिश्वत लेते जेई लाइव:जेई ने विकास कार्य का बिल बनाने के बदले ठेकेदार से लिए 16 हजार, जेल राज्यमंत्री के रिश्तेदार को नोटिस देने का हवाला देकर बनाया दबाव

कानपुर5 महीने पहले
वायरल वीडियो में ऑफिस के अंदर 2 हजार और 500 रुपए के नोट गिनते हुए जेई।

कानपुर नगर निगम में अभियंत्रण विभाग में जमकर भ्रष्टाचार हो रहा है। लेकिन पहली बार पैसा लेते हुए वीडियो सामने आ गया है। इससे विभाग में भी हड़कंप मच गया है। वहीं ठेकेदार पर दबाव बनाने के लिए जेई अपने रसूख का भी बखान करते दिख रहे हैं।

4 परसेंट के हिसाब से लिए रुपए

जोन-6 में तैनात देवकी चौराहा स्थित डंप में तैनात जेई अरुण शर्मा का पैसे लेते हुए वीडियो वायरल हुआ है। जेई पर आरोप है कि विकास कार्य का बिल बनाने के लिए 4 परसेंट के हिसाब से 16 हजार रुपए लिए हैं। जेई ने आराम से पैसे गिनते हुए सुपरवाइजर से भी पूरा हिसाब किया। बचे हुए रुपए गिनते हुए अपनी जेब में रख लिए।

काकादेव में कराया गया था विकास कार्य
नगर निगम सूत्रों के मुताबिक काकादेव में करीब 1 साल पहले ढाई-ढाई लाख रुपए के 2 विकास कार्य कराए गए थे। जेई पर आरोप है कि इसके बिल बनाने के लिए ठेकेदार से कुल रकम का 4 परसेंट, करीब 16 हजार रुपए लिए। साढ़े 5 हजार रुपए जोन में तैनात सुपरवाइजर को भी वीडियो में देते हुए दिखाया जा रहा है। बाकी रुपए जेई ने अपनी जेब में रख लिए।

विकास कार्यों के बदले लेते हैं 4 परसेंट।
विकास कार्यों के बदले लेते हैं 4 परसेंट।

मंत्री के रिश्तेदार का हवाला देकर बनाया दबाव
वायरल वीडियो में जेई ने प्रदेश के जेल राज्य मंत्री जय प्रताप सिंह जैकी के रिश्तेदार को भी नोटिस देने की बात कहकर दबाव बनाया। मामले में जेई अरुण शर्मा ने बताया कि वायरल वीडियो करीब 2 महीने पुराना है। कहा कि मैं पैसे ले नहीं रहा हूं। बल्कि दे रहा हूं। राज्य मंत्री जय प्रताप सिंह जैकी का मैंने कोई नाम नहीं लिया है।

जमकर होता है भ्रष्टाचार
नगर निगम में विकास कार्यों में जोन में जमकर भ्रष्टाचार होता है। विकास कार्यों के नाम जमकर ठेकेदारों से वसूली जाती है। जवाब में ठेकेदारों को मनमाने काम करने की पूरी छूट दी जाती है। भ्रष्टाचार के चलते नगर आयुक्त शिवरणप्पा के आदेशों को भी इंजीनियर दरकिनार करते हैं।

खबरें और भी हैं...